Look Inside
Name Plate
Name Plate
Name Plate
Name Plate

Name Plate

Regular price ₹ 186
Sale price ₹ 186 Regular price ₹ 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Name Plate

Name Plate

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

क्षमा शर्मा की 28 कहानियों का यह संग्रह स्त्री की दुनिया के जितने आयामों को खोलता है, उसके जितने सम्भवतम रूपों को दिखाता है, स्त्री के बारे में जितने मिथों और धारणाओं को तोड़ता है, ऐसा कम ही कहानीकारों के कहानी-संग्रहों में देखने को मिलता है।
क्षमा शर्मा हिन्दी लेखकों की आम आदत के विपरीत अपेक्षया छोटी कहानियाँ लिखती हैं जो अपने आप में सुखद हैं। उनकी लगभग हर कहानी स्त्री-पात्र के आसपास घूमती ज़रूर है मगर क्षमा शर्मा उस किस्म के स्त्रीवाद का शिकार नहीं हैं जिसमें स्त्री की समस्याओं के सारे हल सरलतापूर्वक पुरुष को गाली देकर ढूँढ़ लिए जाते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि वह पुरुषों या पुरुष वर्चस्ववाद को बख़्शती हैं, उसकी मलामत वे ज़रूर करती हैं और ख़ूब करती हैं, मगर उनकी तमाम कहानियों से यह स्पष्ट है कि उनके एजेंडे में स्त्री की तकलीफ़ें, उसके संघर्ष और हिम्मत से स्थितियों का मुक़ाबला करने की उसकी ताक़त को उभारना ज़्यादा महत्त्वपूर्ण है।
वह इस मिथ को तोड़ती हैं कि सौतेली माँ, असली माँ से हर हालत में कम होती है या एक विधुर बूढ़े के साथ एक युवा स्त्री के सम्बन्धों में वह प्यार और चिन्ता नहीं हो सकती, जो कि समान वय के पुरुष के साथ होती है। वह देह पर स्त्री के अधिकार की वकालत करती हैं और किसी विशेष परिस्थिति में उसे बेचकर कमाने के विरुद्ध कोई नैतिकतावादी रवैया नहीं अपनातीं। उनकी कहानियों में लड़कियाँ हैं तो बूढ़ी औरतें भी हैं, दमन की शिकार वे औरतें हैं जो एक दिन चुपचाप मर जाती हैं तो वे भी हैं जो कि लगातार संघर्ष करती हैं लेकिन स्त्री की दुनिया के अनेक रूपों को हमारे सामने रखनेवाली ये कहानियाँ किसी और दुनिया की कहानियाँ नहीं लगतीं, हमारी अपनी इसी दुनिया की लगती हैं बल्कि लगती ही नहीं, हैं
भी।
इनके पात्र हमारे आसपास, हमारे अपने घरों में मिलते हैं। बस हमारी कठिनाई यह है कि हम उन्हें इस तरह देखना नहीं चाहते, देख नहीं पाते, जिस प्रकार क्षमा शर्मा हमें दिखाती हैं और एक बार जब हम उन्हें इस तरह देखना सीख जाते हैं तो फिर वे एक अलग व्यक्ति, एक अलग शख़्सियत नज़र आती हैं और हम स्त्री के बारे में सामान्य क़िस्म की उन सरल अवधारणाओं से जूझने लगते हैं जिन्हें हमने बचपन से अब तक प्रयत्नपूर्वक पाला है, संस्कारित किया है। क्षमा शर्मा की कहानियों की यह सबसे बड़ी ताक़त है, उनकी भाषा और शैली की पुख़्तगी के अलावा। Kshma sharma ki 28 kahaniyon ka ye sangrah stri ki duniya ke jitne aayamon ko kholta hai, uske jitne sambhavtam rupon ko dikhata hai, stri ke bare mein jitne mithon aur dharnaon ko todta hai, aisa kam hi kahanikaron ke kahani-sangrhon mein dekhne ko milta hai. Kshma sharma hindi lekhkon ki aam aadat ke viprit apekshya chhoti kahaniyan likhti hain jo apne aap mein sukhad hain. Unki lagbhag har kahani stri-patr ke aaspas ghumti zarur hai magar kshma sharma us kism ke strivad ka shikar nahin hain jismen stri ki samasyaon ke sare hal saraltapurvak purush ko gali dekar dhundh liye jate hain. Iska matlab ye nahin hai ki vah purushon ya purush varchasvvad ko bakhshti hain, uski malamat ve zarur karti hain aur khub karti hain, magar unki tamam kahaniyon se ye spasht hai ki unke ejende mein stri ki taklifen, uske sangharsh aur himmat se sthitiyon ka muqabla karne ki uski taqat ko ubharna zyada mahattvpurn hai.
Vah is mith ko todti hain ki sauteli man, asli man se har halat mein kam hoti hai ya ek vidhur budhe ke saath ek yuva stri ke sambandhon mein vah pyar aur chinta nahin ho sakti, jo ki saman vay ke purush ke saath hoti hai. Vah deh par stri ke adhikar ki vakalat karti hain aur kisi vishesh paristhiti mein use bechkar kamane ke viruddh koi naitiktavadi ravaiya nahin apnatin. Unki kahaniyon mein ladakiyan hain to budhi aurten bhi hain, daman ki shikar ve aurten hain jo ek din chupchap mar jati hain to ve bhi hain jo ki lagatar sangharsh karti hain lekin stri ki duniya ke anek rupon ko hamare samne rakhnevali ye kahaniyan kisi aur duniya ki kahaniyan nahin lagtin, hamari apni isi duniya ki lagti hain balki lagti hi nahin, hain
Bhi.
Inke patr hamare aaspas, hamare apne gharon mein milte hain. Bas hamari kathinai ye hai ki hum unhen is tarah dekhna nahin chahte, dekh nahin pate, jis prkar kshma sharma hamein dikhati hain aur ek baar jab hum unhen is tarah dekhna sikh jate hain to phir ve ek alag vyakti, ek alag shakhsiyat nazar aati hain aur hum stri ke bare mein samanya qism ki un saral avdharnaon se jujhne lagte hain jinhen hamne bachpan se ab tak pryatnpurvak pala hai, sanskarit kiya hai. Kshma sharma ki kahaniyon ki ye sabse badi taqat hai, unki bhasha aur shaili ki pukhtgi ke alava.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products