Look Inside
Nalanda Par Giddh
Nalanda Par Giddh
Nalanda Par Giddh
Nalanda Par Giddh

Nalanda Par Giddh

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 400
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nalanda Par Giddh

Nalanda Par Giddh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

क्षमा करो हे वत्स! तुम उस कहानी को देखो कि उसमें विधाओं की कितनी ख़ूबसूरत मिक्सिंग है। उसमें व्यक्ति चरित्र भी है, संस्मरण भी है, कहानी भी है, बहुत कुछ क्रूर धटनाएँ भी हैं, अपनी क्रूरताओं का वर्णन भी है—पत्नी के प्रति और अन्य चीज़ों के प्रति, बच्चे के प्रति बहुत ही ज़बरदस्त वात्सल्य भी है। जैसा उस कहानी में हुआ है, वैसे वात्सल्य का चित्रण तो बहुत कम देखने को मिलता है। इस तरह बहुत सारी गद्य विधाओं को मिलाकर उसने सचमुच कहानी का एक नया रसायन इस शताब्दी के अन्त में ‘क्षमा करो हे वत्स!’ में तैयार किया है। यह कहानी एक प्रस्थान बिन्दु है। चुनौती देती है कि कहानी का ढाँचा तोड़कर कैसे एक नया ढाँचा तैयार किया जा सकता है।
—दूधनाथ सिंह
देवेन्द्र की कहानी ‘क्षमा करो हे वत्स!’ इत्तेफ़ाक़ ही है कि इस शीर्षक का कभी सॉनेट मैंने लिखा था और बेटे के जन्मदिन पर लिखा था कि ‘क्षमा मत करो वत्स, आ गया दिन ही ऐसा/आँख खोलती कलियाँ भी कहती हैं पैसा।’ वह शीर्षक वहाँ से लिया गया है, इस वजह से नहीं पसन्द है वह। कविता कुछ और कहती है, मेरी व्यथा कुछ और थी। देवेन्द्र की व्यथा उससे बहुत बड़ी व्यथा थी। वह चीज़ छूती है, कहलाती है। वह दर्द है, दु:ख है, लेकिन बड़ा ग़ुस्सा है।
एक दूसरी कहानी ‘शहर कोतवाल की कविता’ है। कहानी को पढ़ने के बाद तिलमिला जाता है जी, कि यह वही कोतवाल है जो आज गुजरात में हैं तो आज गुजरात में, ऐसे ही कोतवाल, इंस्पेक्टर और पुलिस कमिश्नर लोग जो तमाम सत्ता के प्रतीक हैं, प्रतिनिधि हैं।
जब भी कहानी लिखी जाएगी इसी तरह की कहानी गुजरात के दंगे पर लिखी जाएगी। वह दर्द और दु:ख जहाँ जिन लोगों का है, वह पूरी जमात को जगा देगा, उकसाएगा उसे पीना साँप के समान।
—नामवर सिंह Kshma karo he vats! tum us kahani ko dekho ki usmen vidhaon ki kitni khubsurat miksing hai. Usmen vyakti charitr bhi hai, sansmran bhi hai, kahani bhi hai, bahut kuchh krur dhatnayen bhi hain, apni krurtaon ka varnan bhi hai—patni ke prati aur anya chizon ke prati, bachche ke prati bahut hi zabardast vatsalya bhi hai. Jaisa us kahani mein hua hai, vaise vatsalya ka chitran to bahut kam dekhne ko milta hai. Is tarah bahut sari gadya vidhaon ko milakar usne sachmuch kahani ka ek naya rasayan is shatabdi ke ant mein ‘kshma karo he vats!’ mein taiyar kiya hai. Ye kahani ek prasthan bindu hai. Chunauti deti hai ki kahani ka dhancha todkar kaise ek naya dhancha taiyar kiya ja sakta hai. —dudhnath sinh
Devendr ki kahani ‘kshma karo he vats!’ ittefaq hi hai ki is shirshak ka kabhi saunet mainne likha tha aur bete ke janmdin par likha tha ki ‘kshma mat karo vats, aa gaya din hi aisa/ankh kholti kaliyan bhi kahti hain paisa. ’ vah shirshak vahan se liya gaya hai, is vajah se nahin pasand hai vah. Kavita kuchh aur kahti hai, meri vytha kuchh aur thi. Devendr ki vytha usse bahut badi vytha thi. Vah chiz chhuti hai, kahlati hai. Vah dard hai, du:kha hai, lekin bada gussa hai.
Ek dusri kahani ‘shahar kotval ki kavita’ hai. Kahani ko padhne ke baad tilamila jata hai ji, ki ye vahi kotval hai jo aaj gujrat mein hain to aaj gujrat mein, aise hi kotval, inspektar aur pulis kamishnar log jo tamam satta ke prtik hain, pratinidhi hain.
Jab bhi kahani likhi jayegi isi tarah ki kahani gujrat ke dange par likhi jayegi. Vah dard aur du:kha jahan jin logon ka hai, vah puri jamat ko jaga dega, uksayega use pina sanp ke saman.
—namvar sinh

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products