Look Inside
Nahin
Nahin
Nahin
Nahin

Nahin

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nahin

Nahin

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अपने ऐतिहासिक समय को वंचित मनुष्यता की पीड़ा और संघर्ष के गहरे सरोकारों की केन्द्रीयता के साथ परिभाषित करती कविता का यह संकलन ‘नहीं’ यथार्थ की द्वन्द्वात्मकता को उन बिन्दुओं पर सृजन के अनुभवों में बदलता है, जहाँ यथास्थिति के निषेध में नई और सच्ची मानव-निर्मितियों की आकांक्षा और सम्भावनाएँ एकत्र होकर क्रियाशील होती हैं। पंकज सिंह की इन कविताओं की दृष्टिसम्पन्नता और आशय इन्हें कोरे नकार की निष्फलता से बचाकर संवेदना की उस मनोभूमि में ले जाते हैं जो ‘नहीं’ की पवित्र दृढ़ता से अनन्त सम्भावनाओं की प्रक्रिया और उसकी सहज-अबाध परिणतियों के प्रकट होते जाने की आश्वस्ति देती है।
पंकज सिंह ने अपने पिछले काव्य-संग्रहों, ‘आहटें आसपास’ और ‘जैसे पवन पानी’, की कविताओं में सार्थक जोखिम उठाते हुए भारतीय समाज में पिछली शताब्दी के सातवें दशक की ‘वसन्त गर्जना’ से उत्प्रेरित प्राण-शक्ति को भाषा में अनूठे रूपाकार दिए। अन्याय की सत्ताओं के बरक्स सांस्कृतिक संरचना में प्रतिरोध के साहस की अभिव्यक्ति और परिवर्तन के महास्वप्न की अर्थ-सक्रियता उन कविताओं की उदग्र पहचान बनी। उन तत्त्वों से हिन्दी में अनुभव-सघन तथा अभिप्राय की गरिमा से भरी जिस मौलिक राजनीतिक कविता को पंकज सिंह के कवि ने सम्भव किए उसके नए और कदाचित् अधिक क्षिप्र रूप भी, ‘नहीं’ की कविताओं में हैं।
इन कविताओं में अनुभव-अनुकूलित शिल्प का सुघड़पन है और कहन के ऐसे अनेक लहज़े हैं जो काव्य-औज़ारों, हिकमतों और समग्र प्रविधि के मामले में हिन्दी काव्य के नए विस्तार के सूचक हैं।
‘नहीं’ की कविताओं की जीवन्त अनुभव-राशि में अगर अन्तर्विरोधों और द्वन्द्वों में शामिल विडम्बनाएँ और कई प्रकार के सामूहिक बोध के समुच्चय हैं, तो निजी आवेग-संवेग, प्रेम और आसक्ति, आघात-संघात और अवसाद-विषाद भी हैं जो पंकज सिंह की कविताओं में व्यापक और तीव्र संवेदकों की उपस्थिति को गहराई देनेवाली चीज़ें हैं, और इस अर्थ में चकित करनेवाली भी कि वे तर्क और विवेक की शक्लें अख़्तियार करके सार्वजनिक संलाप का हिस्सा मालूम होने लगती हैं।
अगर काव्य के कुछ शाश्वत मापक होते हों तो उनके सम्मुख भी ‘नहीं’ की जीवन-विश्वासी कविता सार्थक और सामाजिक-सांस्कृतिक उपयोग की बनी रहेगी, क्योंकि इसकी आत्मा में करुणा और प्रेम की सुनिश्चित लय है और वह उसी महास्वप्न से आबद्ध-प्रतिबद्ध है जो उसे जीवन और भाषा में चतुर्दिक फैले विचलनों के बीच सन्तुलित और ऊर्जस्व बनाए हुए है। Apne aitihasik samay ko vanchit manushyta ki pida aur sangharsh ke gahre sarokaron ki kendriyta ke saath paribhashit karti kavita ka ye sanklan ‘nahin’ yatharth ki dvandvatmakta ko un binduon par srijan ke anubhvon mein badalta hai, jahan yathasthiti ke nishedh mein nai aur sachchi manav-nirmitiyon ki aakanksha aur sambhavnayen ekatr hokar kriyashil hoti hain. Pankaj sinh ki in kavitaon ki drishtisampannta aur aashay inhen kore nakar ki nishphalta se bachakar sanvedna ki us manobhumi mein le jate hain jo ‘nahin’ ki pavitr dridhta se anant sambhavnaon ki prakriya aur uski sahaj-abadh parinatiyon ke prkat hote jane ki aashvasti deti hai. Pankaj sinh ne apne pichhle kavya-sangrhon, ‘ahten aaspas’ aur ‘jaise pavan pani’, ki kavitaon mein sarthak jokhim uthate hue bhartiy samaj mein pichhli shatabdi ke satven dashak ki ‘vasant garjna’ se utprerit pran-shakti ko bhasha mein anuthe rupakar diye. Anyay ki sattaon ke baraks sanskritik sanrachna mein pratirodh ke sahas ki abhivyakti aur parivartan ke mahasvapn ki arth-sakriyta un kavitaon ki udagr pahchan bani. Un tattvon se hindi mein anubhav-saghan tatha abhipray ki garima se bhari jis maulik rajnitik kavita ko pankaj sinh ke kavi ne sambhav kiye uske ne aur kadachit adhik kshipr rup bhi, ‘nahin’ ki kavitaon mein hain.
In kavitaon mein anubhav-anukulit shilp ka sughadpan hai aur kahan ke aise anek lahze hain jo kavya-auzaron, hikamton aur samagr prvidhi ke mamle mein hindi kavya ke ne vistar ke suchak hain.
‘nahin’ ki kavitaon ki jivant anubhav-rashi mein agar antarvirodhon aur dvandvon mein shamil vidambnayen aur kai prkar ke samuhik bodh ke samuchchay hain, to niji aaveg-sanveg, prem aur aasakti, aaghat-sanghat aur avsad-vishad bhi hain jo pankaj sinh ki kavitaon mein vyapak aur tivr sanvedkon ki upasthiti ko gahrai denevali chizen hain, aur is arth mein chakit karnevali bhi ki ve tark aur vivek ki shaklen akhtiyar karke sarvajnik sanlap ka hissa malum hone lagti hain.
Agar kavya ke kuchh shashvat mapak hote hon to unke sammukh bhi ‘nahin’ ki jivan-vishvasi kavita sarthak aur samajik-sanskritik upyog ki bani rahegi, kyonki iski aatma mein karuna aur prem ki sunishchit lay hai aur vah usi mahasvapn se aabaddh-pratibaddh hai jo use jivan aur bhasha mein chaturdik phaile vichalnon ke bich santulit aur uurjasv banaye hue hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products