Look Inside
Nagarjun Ka Gadya Sahitya
Nagarjun Ka Gadya Sahitya
Nagarjun Ka Gadya Sahitya
Nagarjun Ka Gadya Sahitya

Nagarjun Ka Gadya Sahitya

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nagarjun Ka Gadya Sahitya

Nagarjun Ka Gadya Sahitya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नागार्जुन के व्यक्तित्व, विचार और कृतित्व का परिचय देते हुए लेखक ने उनके अभावग्रस्त जीवन, पारिवारिक स्थिति और अनवरत संघर्ष को जिस तरह रेखांकित किया है, उससे स्पष्ट हो जाता है कि आरम्भ से ही वे संघर्षों के बीच रास्ता तलाशनेवाले प्राणी एवं लेखक रहे हैं। उनकी मस्ती, व्यंग्य एवं यायावरी एक तरह से उनकी जिजीविषा के प्राण रहे हैं।...
आशुतोष जी ने नागार्जुन की औपन्यासिक कला पर भी ध्यान आकर्षित किया है और उनकी आत्मकथात्मक एवं वर्णन शैली पर प्रकाश डाला है तथा हल देने की उनकी ललक के कारण आई शिल्पगत लचरता को भी रेखांकित किया है।
संक्षेप में ही सही बाबा की कहानियों, निबन्धों, संस्मरणों, यात्रावृत्त, डायरी, नाटक और आलोचना जैसी गद्य-विधाओं पर गहराई से विचार करते हुए आलोचनात्मक टिप्पणियाँ की हैं, जो सार्थक हैं तथा लेखक की तटस्थ पैनी समीक्षा-दृष्टि को आलोकित करती हैं। इस प्रकार नागार्जुन के गद्य साहित्य की समस्त विधाओं की पड़ताल करने के लिए लेखक का लेखकीय प्रयास मुकम्मल और कामयाब है। Nagarjun ke vyaktitv, vichar aur krititv ka parichay dete hue lekhak ne unke abhavagrast jivan, parivarik sthiti aur anavrat sangharsh ko jis tarah rekhankit kiya hai, usse spasht ho jata hai ki aarambh se hi ve sangharshon ke bich rasta talashnevale prani evan lekhak rahe hain. Unki masti, vyangya evan yayavri ek tarah se unki jijivisha ke pran rahe hain. . . . Aashutosh ji ne nagarjun ki aupanyasik kala par bhi dhyan aakarshit kiya hai aur unki aatmakthatmak evan varnan shaili par prkash dala hai tatha hal dene ki unki lalak ke karan aai shilpgat lacharta ko bhi rekhankit kiya hai.
Sankshep mein hi sahi baba ki kahaniyon, nibandhon, sansmarnon, yatravritt, dayri, natak aur aalochna jaisi gadya-vidhaon par gahrai se vichar karte hue aalochnatmak tippaniyan ki hain, jo sarthak hain tatha lekhak ki tatasth paini samiksha-drishti ko aalokit karti hain. Is prkar nagarjun ke gadya sahitya ki samast vidhaon ki padtal karne ke liye lekhak ka lekhkiy pryas mukammal aur kamyab hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products