Muslim Navjagran Aur Akbar Allahabadi Ka 'Gandhinama'

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Muslim Navjagran Aur Akbar Allahabadi Ka 'Gandhinama'

Muslim Navjagran Aur Akbar Allahabadi Ka 'Gandhinama'

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी में सम्भवत: यह पहली किताब है जिसमें अकबर इलाहाबादी के ‘गांधीनामा’ की पृष्ठभूमि में मुस्लिम नवजागरण, उसके विविध पक्षों तथा उसमें योगदान देनेवाले प्रमुख उन्नायकों के अवदान के बारे में इतनी बारीक चर्चा की गई है। इसमें शाह वली उल्लाह से लेकर मौलाना आज़ाद तक जैसे विख्यात युगपुरुषों के अवदान पर विचार तो किया ही गया है, इसके अलावा दो ऐसे विचारकों के योगदान पर भी विस्तारपूर्वक चर्चा की गई है जिनके सम्बन्ध में बहुत कम लोग जानते हैं। मिर्ज़ा अबू तालिब और मौलवी मुमताज़ अली दो ऐसे ही नाम हैं। मिर्ज़ा अबू तालिब को मुस्लिम जगत में आधुनिकता की पहली आहट निरूपित किया गया है और मौलवी मुमताज़ अली को पहले मुस्लिम नारीवादी के रूप में प्रस्तुत किया गया है।
हिन्दू नवजागरण के प्रवर्तक राजा राममोहन राय और मुस्लिम नवजागरण के उन्नायक सर सैयद अहमद ख़ाँ के नेतृत्व वाली अलग-अलग ये दोनों धाराएँ बीसवीं सदी के पूर्वार्द्ध में महात्मा गांधी पर आकर एक बार एक हो जाती हैं। अकबर इलाहाबादी का ‘गांधीनामा’ दोनों पुनर्जागरणों के मिलन-बिन्दु का काव्य है। अकबर को व्यंग्य और विनोद के कवि के रूप में ही प्राय: सीमित कर दिया जाता है, उनकी कविता का प्रबल उपनिवेश विरोधी स्वर अकसर रेखांकित नहीं हो पाता। दरअसल गांधी जी की तरह वह भी पश्चिमी सभ्यता के अन्धाधुन्ध नक़ल और मशीनों के ख़िलाफ़ थे। इस तरह गांधी और अकबर के विचारों में अद्भुत समानता है। ‘गांधीनामा’ में यह स्वर बहुत अच्छी तरह से मुखर है। Hindi mein sambhvat: ye pahli kitab hai jismen akbar ilahabadi ke ‘gandhinama’ ki prishthbhumi mein muslim navjagran, uske vividh pakshon tatha usmen yogdan denevale prmukh unnaykon ke avdan ke bare mein itni barik charcha ki gai hai. Ismen shah vali ullah se lekar maulana aazad tak jaise vikhyat yugapurushon ke avdan par vichar to kiya hi gaya hai, iske alava do aise vicharkon ke yogdan par bhi vistarpurvak charcha ki gai hai jinke sambandh mein bahut kam log jante hain. Mirza abu talib aur maulvi mumtaz ali do aise hi naam hain. Mirza abu talib ko muslim jagat mein aadhunikta ki pahli aahat nirupit kiya gaya hai aur maulvi mumtaz ali ko pahle muslim narivadi ke rup mein prastut kiya gaya hai. Hindu navjagran ke prvartak raja rammohan raay aur muslim navjagran ke unnayak sar saiyad ahmad khan ke netritv vali alag-alag ye donon dharayen bisvin sadi ke purvarddh mein mahatma gandhi par aakar ek baar ek ho jati hain. Akbar ilahabadi ka ‘gandhinama’ donon punarjagarnon ke milan-bindu ka kavya hai. Akbar ko vyangya aur vinod ke kavi ke rup mein hi pray: simit kar diya jata hai, unki kavita ka prbal upanivesh virodhi svar aksar rekhankit nahin ho pata. Darasal gandhi ji ki tarah vah bhi pashchimi sabhyta ke andhadhundh naqal aur mashinon ke khilaf the. Is tarah gandhi aur akbar ke vicharon mein adbhut samanta hai. ‘gandhinama’ mein ye svar bahut achchhi tarah se mukhar hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products