Look Inside
Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak
Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak
Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak
Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak

Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak

Muktibodh : Sarjak Aur Vicharak

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उत्तर नेहरू-युग में जैसे-जैसे भारतीय लोकतंत्र जनहितों से निरपेक्ष होता गया है, वैसे-वैसे साहित्य मुखर रूप से लोकतंत्र के भीतर काम कर रही जन-विरोधी शक्तियों के कठोर आलोचक के रूप में सामने आया है। इसी क्रम में मुक्तिबोध की रचनाएँ और विचार हिन्दी में केन्‍द्रीय होते गए हैं। पारम्परिक रसवादी और रोमैंटिक आग्रहों के सामानान्तर आधुनिक साहित्य ने विचार और बौद्धिकता को केन्‍द्रीय महत्त्व दिया है। इस संघर्ष में मुक्तिबोध के रचनात्मक और वैचारिक प्रयासों की महती भूमिका है।
प्रो. सेवाराम त्रिपाठी की पुस्तक ‘मुक्तिबोध : सर्जक और विचारक', मुक्तिबोध का विवेचन-मूल्यांकन समग्रता से करती है। मुक्तिबोध की रचनात्मकता कविता, कहानी, उपन्यास, निबन्ध, आलोचना और पत्रकारिता तक फैली हुई है। इस पुस्तक का महत्त्व यह है कि वह मुक्तिबोध का अध्ययन करने के लिए सभी विधाओं को समेटती है। स्वाभाविक ही है कि ऐसे में लेखक ने मुक्तिबोध के सभी पक्षों पर विस्तृत विचार किया है।
सेवाराम त्रिपाठी ने प्रस्तुत पुस्तक में मुक्तिबोध की सर्जना में विचारधारा की भूमिका की पड़ताल की है। मुक्तिबोध हिन्‍दी रचनाशीलता में एक मुकम्मल और सुसंगत मार्क्सवादी थे। इसका गहरा प्रभाव विशेष रूप से कविता और आलोचना जैसी विधाओं पर पड़ा है। यह प्रभाव सामान्य न होकर जटिल है। लेखक ने पुस्तक में मुक्तिबोध में उपस्थित रचना और विचारधारा की अन्तःक्रिया पर गहन और सूक्ष्म विवेचन किया है।
प्रस्तुत संस्करण पुस्तक का दूसरा संस्करण है। इसमें ‘मुक्तिबोध : पुनश्च' शीर्षक से चार नए आलेख जोड़ दिए गए हैं। इन आलेखों में मूल अध्यायों में छूट गई कुछ महत्त्वपूर्ण बातें स्थान पा सकी हैं। पुस्तक न सिर्फ़ गम्‍भीर अध्येताओं की ज़रूरतों को पूरा करती है, बल्कि सामान्य विद्यार्थियों के लिए भी उपादेय है। Uttar nehru-yug mein jaise-jaise bhartiy loktantr janahiton se nirpeksh hota gaya hai, vaise-vaise sahitya mukhar rup se loktantr ke bhitar kaam kar rahi jan-virodhi shaktiyon ke kathor aalochak ke rup mein samne aaya hai. Isi kram mein muktibodh ki rachnayen aur vichar hindi mein ken‍driy hote ge hain. Paramprik rasvadi aur romaintik aagrhon ke samanantar aadhunik sahitya ne vichar aur bauddhikta ko ken‍driy mahattv diya hai. Is sangharsh mein muktibodh ke rachnatmak aur vaicharik pryason ki mahti bhumika hai. Pro. Sevaram tripathi ki pustak ‘muktibodh : sarjak aur vicharak, muktibodh ka vivechan-mulyankan samagrta se karti hai. Muktibodh ki rachnatmakta kavita, kahani, upanyas, nibandh, aalochna aur patrkarita tak phaili hui hai. Is pustak ka mahattv ye hai ki vah muktibodh ka adhyyan karne ke liye sabhi vidhaon ko sametti hai. Svabhavik hi hai ki aise mein lekhak ne muktibodh ke sabhi pakshon par vistrit vichar kiya hai.
Sevaram tripathi ne prastut pustak mein muktibodh ki sarjna mein vichardhara ki bhumika ki padtal ki hai. Muktibodh hin‍di rachnashilta mein ek mukammal aur susangat marksvadi the. Iska gahra prbhav vishesh rup se kavita aur aalochna jaisi vidhaon par pada hai. Ye prbhav samanya na hokar jatil hai. Lekhak ne pustak mein muktibodh mein upasthit rachna aur vichardhara ki antःkriya par gahan aur sukshm vivechan kiya hai.
Prastut sanskran pustak ka dusra sanskran hai. Ismen ‘muktibodh : punashch shirshak se char ne aalekh jod diye ge hain. In aalekhon mein mul adhyayon mein chhut gai kuchh mahattvpurn baten sthan pa saki hain. Pustak na sirf gam‍bhir adhyetaon ki zarurton ko pura karti hai, balki samanya vidyarthiyon ke liye bhi upadey hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products