Look Inside
Muktibodh : Gyan Aur Samvedana
Muktibodh : Gyan Aur Samvedana
Muktibodh : Gyan Aur Samvedana
Muktibodh : Gyan Aur Samvedana

Muktibodh : Gyan Aur Samvedana

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Muktibodh : Gyan Aur Samvedana

Muktibodh : Gyan Aur Samvedana

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुधी समीक्षक नंदकिशोर नवल की मुक्तिबोध पर लिखी गई यह पुस्तक दो खंडों में विभक्त है। पहले खंड में मुख्यतः उनके ‘ज्ञान’ का विश्लेषण है और दूसरे खंड में मुख्यतः उनकी ‘संवेदना’ का। लेकिन यह विभाजन केवल सुविधा की दृष्टि से है, नवल जी ने मुक्तिबोध को यथासम्भव अविभाज्य रूप में देखने और दिखाने की कोशिश की है। अध्ययन कविता पर केन्द्रित है, लेकिन प्रसंगवश इसमें उनके आलोचना-साहित्य, कथा-साहित्य और उनकी राजनीतिक टिप्पणियों की भी छानबीन की गई है।
मुक्तिबोध की कविता पर विचार करते हुए नवल जी ने उनकी मार्क्सवादी विश्वदृष्टि एवं राजनीतिक चेतना, उनके आत्मसंघर्ष, उनकी ओजपूर्ण भावना, विराट कल्पना और विश्लेषणात्मक बुद्धि की गहरी छानबीन की है और इस सन्दर्भ में अन्य विद्वान आलोचकों के मतों को भी जाँचा-परखा है। मुक्तिबोध की प्रगीतात्मकता, फैंटेसी और भाषा पर भी विस्तार से विचार किया गया है और परिशिष्ट में मुक्तिबोध की सर्वाधिक चर्चित एवं महत्त्वपूर्ण कविता ‘अँधेरे में’ का विश्लेषण किया गया है। दूसरे शब्दों में मुक्तिबोध पर यह पहली मुकम्मल किताब है। Sudhi samikshak nandakishor naval ki muktibodh par likhi gai ye pustak do khandon mein vibhakt hai. Pahle khand mein mukhyatः unke ‘gyan’ ka vishleshan hai aur dusre khand mein mukhyatः unki ‘sanvedna’ ka. Lekin ye vibhajan keval suvidha ki drishti se hai, naval ji ne muktibodh ko yathasambhav avibhajya rup mein dekhne aur dikhane ki koshish ki hai. Adhyyan kavita par kendrit hai, lekin prsangvash ismen unke aalochna-sahitya, katha-sahitya aur unki rajnitik tippaniyon ki bhi chhanbin ki gai hai. Muktibodh ki kavita par vichar karte hue naval ji ne unki marksvadi vishvdrishti evan rajnitik chetna, unke aatmsangharsh, unki ojpurn bhavna, virat kalpna aur vishleshnatmak buddhi ki gahri chhanbin ki hai aur is sandarbh mein anya vidvan aalochkon ke maton ko bhi jancha-parkha hai. Muktibodh ki prgitatmakta, phaintesi aur bhasha par bhi vistar se vichar kiya gaya hai aur parishisht mein muktibodh ki sarvadhik charchit evan mahattvpurn kavita ‘andhere men’ ka vishleshan kiya gaya hai. Dusre shabdon mein muktibodh par ye pahli mukammal kitab hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products