Look Inside
Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)
Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)
Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)
Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)

Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)

Regular price Rs. 557
Sale price Rs. 557 Regular price Rs. 599
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)

Mujhe Kuchh Kahana Hai (Hardbound)

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बहुत कम लोग जानते हैं कि फ़िल्मकार-कहानीकार ख़्वाजा अहमद अब्बास की क़लम की दुनिया कितनी बड़ी थी। सत्तर साल की अपनी ज़िन्दगी में उन्होंने 70 ही किताबें भी लिखीं और असंख्य अख़बारों और रिसालों में आलेख भी। हर बुधवार को 'ब्लिट्ज' में उनका स्तम्भ, अंग्रेज़ी में 'द लास्ट पेज' और उर्दू में 'आज़ाद क़लम' शीर्षक से, छपता था। और आपको जानकर हैरानी होगी कि इसे उन्होंने चालीस साल लगातार लिखा, जिसमें दोनों ज़बानों के विषय भी अक्सर अलग होते थे। कहते हैं कि ये दुनिया में अपने ढंग का एक रिकॉर्ड है।
आपके हाथों में जो है वह उनकी कहानियों का संकलन है। इस संकलन की सभी 17 कहानियों को उनकी नातिन और उनके साहित्य की अध्येता ज़ोया ज़ैदी ने संगृहीत किया है। इनमें कुछ कहानियाँ पहली बार हिन्दी में आ रही हैं। डॉ. ज़ैदी का कहना है कि अब्बास साहब ऐसे व्यक्ति थे जिनके ''जीवन का लक्ष्य होता है, एक उद्देश्य जिसके लिए वे जीते हैं। एक मक़सद मनुष्य के समाज में बदलाव लाने का, उसकी सोई हुई आत्मा को जगाने का।''
यही काम उन्होंने अपनी कहानियों, फ़िल्मों और अपने स्तम्भों में आजीवन किया। आमजन से हमदर्दी, मानवीयता में अटूट विश्वास, स्त्री की पीड़ा की गहरी पारखी समझ और भ्रष्ट नौकरशाही से एक तीखी कलाकार-सुलभ जुगुप्सा, वे तत्त्व हैं जो इन कहानियों में देखने को मिलते हैं। डॉ. ज़ैदी के शब्दों में, ये कहानियाँ अब्बास साहब की आत्मा का दर्पण हैं। इन कहानियों में आपको वो अब्बास मिलेंगे जो इनसान को एक विकसित और अच्छे व्यक्ति के रूप में देखना चाहते थे।
इस किताब का एक ख़ास आकर्षण ख़्वाजा अहमद अब्बास का एक साक्षात्कार है जिसे किसी और ने नहीं, कृश्न चन्दर ने लिया था। Bahut kam log jante hain ki filmkar-kahanikar khvaja ahmad abbas ki qalam ki duniya kitni badi thi. Sattar saal ki apni zindagi mein unhonne 70 hi kitaben bhi likhin aur asankhya akhbaron aur risalon mein aalekh bhi. Har budhvar ko blitj mein unka stambh, angrezi mein da last pej aur urdu mein azad qalam shirshak se, chhapta tha. Aur aapko jankar hairani hogi ki ise unhonne chalis saal lagatar likha, jismen donon zabanon ke vishay bhi aksar alag hote the. Kahte hain ki ye duniya mein apne dhang ka ek rikaurd hai. Aapke hathon mein jo hai vah unki kahaniyon ka sanklan hai. Is sanklan ki sabhi 17 kahaniyon ko unki natin aur unke sahitya ki adhyeta zoya zaidi ne sangrihit kiya hai. Inmen kuchh kahaniyan pahli baar hindi mein aa rahi hain. Dau. Zaidi ka kahna hai ki abbas sahab aise vyakti the jinke jivan ka lakshya hota hai, ek uddeshya jiske liye ve jite hain. Ek maqsad manushya ke samaj mein badlav lane ka, uski soi hui aatma ko jagane ka.
Yahi kaam unhonne apni kahaniyon, filmon aur apne stambhon mein aajivan kiya. Aamjan se hamdardi, manviyta mein atut vishvas, stri ki pida ki gahri parkhi samajh aur bhrasht naukarshahi se ek tikhi kalakar-sulabh jugupsa, ve tattv hain jo in kahaniyon mein dekhne ko milte hain. Dau. Zaidi ke shabdon mein, ye kahaniyan abbas sahab ki aatma ka darpan hain. In kahaniyon mein aapko vo abbas milenge jo insan ko ek viksit aur achchhe vyakti ke rup mein dekhna chahte the.
Is kitab ka ek khas aakarshan khvaja ahmad abbas ka ek sakshatkar hai jise kisi aur ne nahin, krishn chandar ne liya tha.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products