Muhabbat Ek Daastaan Hai : Sansar Ki Charchit Prem Kahaniyan

Regular price Rs. 495
Sale price Rs. 495 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Muhabbat Ek Daastaan Hai : Sansar Ki Charchit Prem Kahaniyan

Muhabbat Ek Daastaan Hai : Sansar Ki Charchit Prem Kahaniyan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत पुस्तक में हिन्दी के बारह कहानीकार हैं, एक कहानी बंगला से अनूदित है और आठ कहानियाँ पाश्चात्य भाषाओं से ली गयी हैं। जर्मन, फ्रेंच, रूसी, अंग्रेज़ी और स्पेनिश भाषा में लिखी कहानियों के अनुवाद प्रेम और मानव के विभिन्न पक्षों को दिखलाते हैं। तड़प, वेदना, वियोग, समर्पण, लव एट फर्स्ट साइट सभी प्रभावित करते हैं। इस प्रकार शरतचन्द्र की कहानी 'अनुपमा का प्रेम' एक ओर तो रोमांटिक विचारधारा पर व्यंग्य है तो दूसरी ओर हृदय की भाषा की श्रेष्ठता को भी इंगित करती है जहाँ प्रेम वास करता है। अनुवाद सुन्दर और सहज है और उनकी भाषा आधुनिक हिन्दी ही है। हिन्दी की कहानियों में बिम्बों, प्रतीकों, वर्गगत पात्रों की चिन्तन प्रक्रिया, प्रेम की मानवीयता, व्यक्तिगत वेदना से उत्पन्न दूसरों के कष्टों के निवारण की चेष्टा का वर्णन है। फणीश सिंह ने एक विशिष्ट सम्पादकीय कुशलता दिखलाई है। उनकी दृष्टि विलक्षण है और लोक कल्याण से परिपूर्ण है जो कहानियों के संकलन से स्पष्ट है। डॉ. प्रो. शैलेश्वर सती प्रसाद prastut pustak mein hindi ke barah kahanikar hain, ek kahani bangla se anudit hai aur aath kahaniyan pashchatya bhashaon se li gayi hain. jarman, phrench, rusi, angrezi aur spenish bhasha mein likhi kahaniyon ke anuvad prem aur manav ke vibhinn pakshon ko dikhlate hain. taDap, vedna, viyog, samarpan, lav et pharst sait sabhi prbhavit karte hain. is prkaar sharatchandr ki kahani anupma ka prem ek or to romantik vichardhara par vyangya hai to dusri or hriday ki bhasha ki shreshthta ko bhi ingit karti hai jahan prem vaas karta hai. anuvad sundar aur sahaj hai aur unki bhasha adhunik hindi hi hai. hindi ki kahaniyon mein bimbon, prtikon, varggat patron ki chintan prakriya, prem ki manviyta, vyaktigat vedna se utpann dusron ke kashton ke nivaran ki cheshta ka varnan hai. phanish sinh ne ek vishisht sampadkiy kushalta dikhlai hai. unki drishti vilakshan hai aur lok kalyan se paripurn hai jo kahaniyon ke sanklan se spasht hai. Dau. pro. shaileshvar sati prsaad

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products