Mughal Kaleen Bharat : Humayu : Vol. 1

Regular price Rs. 2,790
Sale price Rs. 2,790 Regular price Rs. 3,000
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mughal Kaleen Bharat : Humayu : Vol. 1

Mughal Kaleen Bharat : Humayu : Vol. 1

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हुमायूँ से सम्बन्धित फ़ारसी स्रोतों का अनुवाद ‘मुग़लकालीन भारत’ भाग-1 और भाग-2 में प्रकाशित किया गया है। इन दोनों भागों में भी पूर्व ग्रन्थों की भाँति हुमायूँ के समकालीन फ़ारसी स्रोतों का हिन्दी भाषान्तर प्रस्तुत किया गया है। प्रथम भाग में जिन इतिहासकारों के ग्रन्थों के हिन्दी अनुवाद सम्मिलित किए गए हैं, उनमें मुख्य हैं : ख़्वन्द मीर का ‘क़ानूने हुमायूँनी’, मिर्ज़ा हैदर का ‘तारीख़े रशीदी’, मीर अल्ला उद्दौला का ‘नफ़ायसुल मआसिर’, गुलबदन बेगम का ‘हुमायूँनामा’ एवं शेख अबुल फ़ज़ल का ‘अकबरनामा’ आदि। यही नहीं, डॉ. अतहर अब्बास रिज़वी ने हुमायूँ के इतिहास से सम्बन्धित अफ़ग़ान स्रोतों को भी इस भाग में सम्मिलित किया है। कुछ ग्रन्थों के अनुवाद मूल पाठ में न देकर पादटिप्पणियों में सम्मिलित कर लिए गए हैं। इन ग्रन्थों के अनुवादों के कारण ग्रन्थ की उपादेयता में वृद्धि हो गई है।
जिन ग्रन्थों के संक्षिप्त अनुवाद किए गए हैं, उनका अनुवाद करते समय इस बात का प्रयत्न किया गया है कि कोई भी महत्त्वपूर्ण घटना अथवा सांस्कृतिक, सामाजिक एवं आर्थिक महत्त्व की बात छूटने न पाए।
अन्य ग्रन्थों की तरह यह ग्रन्थ भी हुमायूँकालीन इतिहास के अध्ययन के लिए अत्यन्त उपयोगी है। विशेषत: उनके लिए, जो फ़ारसी से अनभिज्ञ हैं लेकिन इस काल पर शोध करना चाहते हैं, उनको एक ही स्थान पर सम्पूर्ण सामग्री उपलब्ध हो जाती है। Humayun se sambandhit farsi sroton ka anuvad ‘mugalkalin bharat’ bhag-1 aur bhag-2 mein prkashit kiya gaya hai. In donon bhagon mein bhi purv granthon ki bhanti humayun ke samkalin farsi sroton ka hindi bhashantar prastut kiya gaya hai. Prtham bhag mein jin itihaskaron ke granthon ke hindi anuvad sammilit kiye ge hain, unmen mukhya hain : khvand mir ka ‘qanune humayunni’, mirza haidar ka ‘tarikhe rashidi’, mir alla uddaula ka ‘nafaysul maasir’, gulabdan begam ka ‘humayunnama’ evan shekh abul fazal ka ‘akabarnama’ aadi. Yahi nahin, dau. Athar abbas rizvi ne humayun ke itihas se sambandhit afgan sroton ko bhi is bhag mein sammilit kiya hai. Kuchh granthon ke anuvad mul path mein na dekar padtippaniyon mein sammilit kar liye ge hain. In granthon ke anuvadon ke karan granth ki upadeyta mein vriddhi ho gai hai. Jin granthon ke sankshipt anuvad kiye ge hain, unka anuvad karte samay is baat ka pryatn kiya gaya hai ki koi bhi mahattvpurn ghatna athva sanskritik, samajik evan aarthik mahattv ki baat chhutne na paye.
Anya granthon ki tarah ye granth bhi humayunkalin itihas ke adhyyan ke liye atyant upyogi hai. Visheshat: unke liye, jo farsi se anbhigya hain lekin is kaal par shodh karna chahte hain, unko ek hi sthan par sampurn samagri uplabdh ho jati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products