Mughal Badshahon Ki Hindi Kavita

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mughal Badshahon Ki Hindi Kavita

Mughal Badshahon Ki Hindi Kavita

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यह आश्चर्यजनक लगेगा, लेकिन तथ्य है, कि बाबर से लेकर बहादुरशाह जफ़र तक, लगभग सभी मुग़ल बादशाह शायर और कवि भी थे; और उन्होंने फ़ारसी-उर्दू में ही नहीं, ब्रजभाषा और हिन्दी में भी काव्य-रचना की।
यह पुस्तक प्रमाण है कि जिस भी बादशाह को राजनीति और युद्धों से इतर सुकून के पल नसीब हुए, उन्होंने कवियों-शायरों को संरक्षण देने के अलावा न सिर्फ़ कविताएँ-ग़ज़लें लिखीं, अपने आसपास ऐसा माहौल भी बनाया कि उनके परिवार की महिलाएँ भी काव्य-रचना कर सकें। लिखित प्रमाण है कि बाबर की बेटी गुलबदन बेगम और नातिन सलीमा सुल्ताना फ़ारसी में कविताएँ लिखती थीं। हुमायूँ स्वयं कवि नहीं था, लेकिन काव्य-प्रेम उसका भी कम नहीं था। अकबर का कला-संस्कृति प्रेम तो विख्यात ही है, वह फ़ारसी और हिन्दी में लिखता भी था। ‘संगीत रागकल्पद्रुम’ में अकबर की हिन्दी कविताएँ मौजूद हैं। जहाँगीर, नूरजहाँ, फिर औरंगजेब की बेटी जेबुन्निसाँ, ये सब या तो फ़ारसी में या फ़ारसी-हिन्दी दोनों में कविताएँ लिखते थे। कहा जाता है कि शाहजहाँ के तो दरबार की भाषा ही कविता थी। दरबार के सवाल-जवाब कविता में ही होते थे। दारा शिकोह का दीवान उपलब्ध है, जिसमें उसकी ग़ज़लें और रुबाइयाँ हैं। अन्तिम मुग़ल बादशाह जफ़र की शायरी से हम सब परिचित हैं। उल्लेखनीय यह कि उन्होंने हिन्दी में कविताएँ भी लिखीं जो उपलब्ध भी हैं।
कहना न होगा कि हिन्दी के वरिष्ठ आलोचक डॉ. मैनेजर पाण्डेय द्वारा सम्पादित यह संकलन भारत में मुग़ल-साम्राज्य की छवि को एक नया आयाम देता है; इससे गुज़रकर हम जान पाते हैं कि मुग़ल बादशाहों ने हमें क़िले और मक़बरे ही नहीं दिए, कविता की एक श्रेष्ठ परम्परा को भी हम तक पहुँचाया है। Ye aashcharyajnak lagega, lekin tathya hai, ki babar se lekar bahadurshah jafar tak, lagbhag sabhi mugal badshah shayar aur kavi bhi the; aur unhonne farsi-urdu mein hi nahin, brajbhasha aur hindi mein bhi kavya-rachna ki. Ye pustak prman hai ki jis bhi badshah ko rajniti aur yuddhon se itar sukun ke pal nasib hue, unhonne kaviyon-shayron ko sanrakshan dene ke alava na sirf kavitayen-gazlen likhin, apne aaspas aisa mahaul bhi banaya ki unke parivar ki mahilayen bhi kavya-rachna kar saken. Likhit prman hai ki babar ki beti gulabdan begam aur natin salima sultana farsi mein kavitayen likhti thin. Humayun svayan kavi nahin tha, lekin kavya-prem uska bhi kam nahin tha. Akbar ka kala-sanskriti prem to vikhyat hi hai, vah farsi aur hindi mein likhta bhi tha. ‘sangit ragkalpadrum’ mein akbar ki hindi kavitayen maujud hain. Jahangir, nurajhan, phir aurangjeb ki beti jebunnisan, ye sab ya to farsi mein ya farsi-hindi donon mein kavitayen likhte the. Kaha jata hai ki shahajhan ke to darbar ki bhasha hi kavita thi. Darbar ke saval-javab kavita mein hi hote the. Dara shikoh ka divan uplabdh hai, jismen uski gazlen aur rubaiyan hain. Antim mugal badshah jafar ki shayri se hum sab parichit hain. Ullekhniy ye ki unhonne hindi mein kavitayen bhi likhin jo uplabdh bhi hain.
Kahna na hoga ki hindi ke varishth aalochak dau. Mainejar pandey dvara sampadit ye sanklan bharat mein mugal-samrajya ki chhavi ko ek naya aayam deta hai; isse guzarkar hum jaan pate hain ki mugal badshahon ne hamein qile aur maqabre hi nahin diye, kavita ki ek shreshth parampra ko bhi hum tak pahunchaya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products