BackBack
-11%

Monalisa Ki Aankhen

Suman Keshari

Rs. 250 Rs. 223

सुमन केशरी की कविताएँ एक आधुनिक स्त्री की कविताएँ हैं : वे जितनी एक आधुनिक चौकस व्यक्ति हैं, उतनी ही एक संवेदनशील और सजग स्त्री भी। उनमें एक गहरा अवसाद और प्रतिरोध है लेकिन चीख़-पुकार नहीं। वे घटनाओं और आसपास जो हो रहा है, उससे प्रतिकृत तो होती हैं लेकिन... Read More

BlackBlack
Description

सुमन केशरी की कविताएँ एक आधुनिक स्त्री की कविताएँ हैं : वे जितनी एक आधुनिक चौकस व्यक्ति हैं, उतनी ही एक संवेदनशील और सजग स्त्री भी। उनमें एक गहरा अवसाद और प्रतिरोध है लेकिन चीख़-पुकार नहीं। वे घटनाओं और आसपास जो हो रहा है, उससे प्रतिकृत तो होती हैं लेकिन उसे नाटकीय वक्तव्य बनाने से बचती हैं। उनके पास आधुनिकता का अतिरेक नहीं, संवेदना का सहज संयम है। उनकी कविता में मोनालिसा, माँ, बेटी, पूर्वज, सपने, चिड़िया, मणिकर्णिका, सम्बन्ध, औरत सब जीवन की असंख्य छवियों में से कुछ की तरह विन्यस्त होते
हैं।
सुमन केशरी की कविता यह अहसास बनाए रखती है कि जीवन विस्तृत और अबाध है और कविता उस पर, उस विशाल और जटिल वितान पर ससंकोच खुली खिड़की-भर है। उनकी कविता में कई मर्मचित्र हैं जो मन में बिंध से जाते हैं : ‘लहू का आलता लगाए’, ‘सुनो बिटिया/मैं उड़ती हूँ/खिड़की के पार चिड़िया बन/तुम आना’, ‘अपने ही तारे को/अस्त होते देखना/मरने जैसा है/धीरे...धीरे’, ‘पीठ दिए एक चिता को/धोती सुखाता दूसरी की आँच में/प्रेत-सा खड़ा’, ‘बिटिया बोली/चिड़िया का बच्चा बोला’, ‘चुटकी-भर विश्वास/नमक-सा’ आदि।
सुमन केशरी का संग्रह काव्य-कौशल की परिपक्वता और अनुभव के विस्तार के लिए उल्लेखनीय है। —अशोक वाजपेयी। Suman keshri ki kavitayen ek aadhunik stri ki kavitayen hain : ve jitni ek aadhunik chaukas vyakti hain, utni hi ek sanvedanshil aur sajag stri bhi. Unmen ek gahra avsad aur pratirodh hai lekin chikh-pukar nahin. Ve ghatnaon aur aaspas jo ho raha hai, usse pratikrit to hoti hain lekin use natkiy vaktavya banane se bachti hain. Unke paas aadhunikta ka atirek nahin, sanvedna ka sahaj sanyam hai. Unki kavita mein monalisa, man, beti, purvaj, sapne, chidiya, manikarnika, sambandh, aurat sab jivan ki asankhya chhaviyon mein se kuchh ki tarah vinyast hoteHain.
Suman keshri ki kavita ye ahsas banaye rakhti hai ki jivan vistrit aur abadh hai aur kavita us par, us vishal aur jatil vitan par sasankoch khuli khidki-bhar hai. Unki kavita mein kai marmchitr hain jo man mein bindh se jate hain : ‘lahu ka aalta lagaye’, ‘suno bitiya/main udti hun/khidki ke paar chidiya ban/tum aana’, ‘apne hi tare ko/ast hote dekhna/marne jaisa hai/dhire. . . Dhire’, ‘pith diye ek chita ko/dhoti sukhata dusri ki aanch men/pret-sa khada’, ‘bitiya boli/chidiya ka bachcha bola’, ‘chutki-bhar vishvas/namak-sa’ aadi.
Suman keshri ka sangrah kavya-kaushal ki paripakvta aur anubhav ke vistar ke liye ullekhniy hai. —ashok vajpeyi.