BackBack
-11%

Mokshadhara

Sudhir Ranjan Singh

Rs. 300 Rs. 267

सुधीर रंजन सिंह के पहले संग्रह और 'मोक्षधरा' के बीच लम्बा अन्तराल है। कारण सम्भवत: ऐतिहासिक है। ’90 के बाद की घटनाओं ने कुछ समय के लिए उन कवियों के कवि-कर्म को बाधित किया जो कविता में भविष्य को फलित करने की चेष्टा कर रहे थे। पुरानी काव्य-भंगिमाएँ बेअसर हो... Read More

BlackBlack
Description

सुधीर रंजन सिंह के पहले संग्रह और 'मोक्षधरा' के बीच लम्बा अन्तराल है। कारण सम्भवत: ऐतिहासिक है। ’90 के बाद की घटनाओं ने कुछ समय के लिए उन कवियों के कवि-कर्म को बाधित किया जो कविता में भविष्य को फलित करने की चेष्टा कर रहे थे। पुरानी काव्य-भंगिमाएँ बेअसर हो गई थीं।
यह आकस्मिक नहीं कि सुधीर रंजन सिंह ने पिछले काव्य-अभ्यास को पकड़े रहने के बजाय भर्तृहरि के काव्य-श्लोकों की अनुरचना का मार्ग पकड़ा। भर्तृहरि की नैतिक दृष्टि और विकल अन्त:ऊर्जा ने नई काव्य-स्फूर्ति पैदा कर दी। एक बिलकुल नई ज़मीन मिल गई। विकल अन्त:ऊर्जा ‘अनन्त प्रकृति’ में प्रवेश का द्वार है, जिससे गुज़रते हुए सन्तुलन बनाना आसान नहीं होता। सुधीर रंजन सिंह कवि के साथ-साथ आलोचक भी हैं। सन्तुलन बनाने में उनका आलोचनात्मक विवेक सहयोग करता है। आधुनिक कविता के काव्यशास्त्र में आलोचना का पक्ष काफी वजनदार है। सुधीर रंजन सिंह की आलोचनात्मक भंगिमा और कुछ नहीं विकल्प की चेतना है। यह ‘निद्रा अनुभव’ से बाहर निकालती है। मनुष्य और समाज को समझने की दृष्टि देती है।
सुधीर रंजन सिंह संकट के अनुभवों से बिना अलग हुए उल्लास और मुक्ति के उस संसार को रचने की चेष्टा करते हैं, जिसमें जीवन का अर्थ स्पन्दित होता है। उस अर्थ की लालसा, जो किसी अन्य पीड़ाहारक दिलासा से अधिक ज़रूरी है, उनकी कविता को गढ़ने का काम करती है। इस काम में ‘स्मृति की क्रीड़ा’ भूमिका निभाती है। स्मृति की क्रीड़ा यानी अनुभवों का प्रवाह। ‘मोक्षधरा’ ऐतिहासिक अनुभवों को आत्मचेतना के स्तर पर रचने और 'उत्कर्ष लोक' तैयार करने का सफल प्रयास है। Sudhir ranjan sinh ke pahle sangrah aur mokshadhra ke bich lamba antral hai. Karan sambhvat: aitihasik hai. ’90 ke baad ki ghatnaon ne kuchh samay ke liye un kaviyon ke kavi-karm ko badhit kiya jo kavita mein bhavishya ko phalit karne ki cheshta kar rahe the. Purani kavya-bhangimayen beasar ho gai thin. Ye aakasmik nahin ki sudhir ranjan sinh ne pichhle kavya-abhyas ko pakde rahne ke bajay bhartrihari ke kavya-shlokon ki anurachna ka marg pakda. Bhartrihari ki naitik drishti aur vikal ant:uurja ne nai kavya-sphurti paida kar di. Ek bilkul nai zamin mil gai. Vikal ant:uurja ‘anant prkriti’ mein prvesh ka dvar hai, jisse guzarte hue santulan banana aasan nahin hota. Sudhir ranjan sinh kavi ke sath-sath aalochak bhi hain. Santulan banane mein unka aalochnatmak vivek sahyog karta hai. Aadhunik kavita ke kavyshastr mein aalochna ka paksh kaphi vajandar hai. Sudhir ranjan sinh ki aalochnatmak bhangima aur kuchh nahin vikalp ki chetna hai. Ye ‘nidra anubhav’ se bahar nikalti hai. Manushya aur samaj ko samajhne ki drishti deti hai.
Sudhir ranjan sinh sankat ke anubhvon se bina alag hue ullas aur mukti ke us sansar ko rachne ki cheshta karte hain, jismen jivan ka arth spandit hota hai. Us arth ki lalsa, jo kisi anya pidaharak dilasa se adhik zaruri hai, unki kavita ko gadhne ka kaam karti hai. Is kaam mein ‘smriti ki krida’ bhumika nibhati hai. Smriti ki krida yani anubhvon ka prvah. ‘mokshadhra’ aitihasik anubhvon ko aatmchetna ke star par rachne aur utkarsh lok taiyar karne ka saphal pryas hai.