Meri Pratinidhi Laghukathayen

Regular price Rs. 495
Sale price Rs. 495 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Meri Pratinidhi Laghukathayen

Meri Pratinidhi Laghukathayen

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

लघुकथा सम्राट, हिन्दी के शीर्षस्थ लघुकथाकार कीर्तिकुमार सिंह ने पिछले कुछ वर्षों में हिन्दी साहित्य की ‘लघुकथा' विधा में इतनी तूफानी गति से हस्तक्षेप किया है कि उनके साथ-साथ लघुकथा विधा ने हिन्दी साहित्य के शिखर पर हस्ताक्षर कर दिया। लघुकथा को कहानी के स्तर से स्वतन्त्र विधा के रूप में स्थापित करने का श्रेय उन्हीं को है। इनकी लघुकथाएँ अपनी सटीकता के लिए जानी जाती हैं। मध्यवर्ग, निम्नमध्यवर्ग, निम्नवर्ग की संवेदनाओं को खुली आँखों से देखने की जैसी दृष्टि कीर्तिकुमार सिंह के पास है, वैसी दृष्टि आज कम ही कथाकारों के पास दिखायी देती है। यथार्थ पर उनकी पकड़, आधुनिक वैज्ञानिक सोच, उपभोक्तावादी संस्कृति, उत्तरआधुनिकता से जन्मे तमाम विमों पर उनकी पैनी नज़र है। उनकी लघुकथाएँ समाज के निरन्तर अमानवीय होते जाने के मूल कारणों को रेखांकित करती हैं। उनकी भाषा की ताकत ही उन्हें सर्वश्रेष्ठ कथाकारों में स्थान दिलाती है। उनकी भाषा की खरोंच, ताप और गरमाहट में एक आदिम लय भी है और परिवर्तनशील सर्जनात्मक संगीत भी। बल्कि जिस तरह एक समकालीन बिन्दु पर दोनों आकर मिलते हैं, वहाँ एक अद्भुत पारदर्शी चमक उपस्थित होती है जो पाठक के साथ एक आत्मीय सम्बन्ध बनाती है। उनकी कहानियों में जीवन का कोई बहुत बड़ा सन्दर्भ या बहुत बड़ा सत्य उद्घाटित नहीं होता, बल्कि जीवन के छोटे-छोटे प्रसंगों को बहुत ही स्वाभाविक ढंग से उकेर देना उनकी खास पहचान है। laghuktha samrat, hindi ke shirshasth laghukthakar kirtikumar sinh ne pichhle kuchh varshon mein hindi sahitya ki ‘laghuktha vidha mein itni tuphani gati se hastakshep kiya hai ki unke saath saath laghuktha vidha ne hindi sahitya ke shikhar par hastakshar kar diya. laghuktha ko kahani ke star se svtantr vidha ke roop mein sthapit karne ka shrey unhin ko hai. inki laghukthayen apni satikta ke liye jani jati hain. madhyvarg, nimnmadhyvarg, nimnvarg ki sanvednaon ko khuli ankhon se dekhne ki jaisi drishti kirtikumar sinh ke paas hai, vaisi drishti aaj kam hi kathakaron ke paas dikhayi deti hai. yatharth par unki pakaD, adhunik vaigyanik soch, upbhoktavadi sanskriti, uttaradhunikta se janme tamam vimon par unki paini nazar hai. unki laghukthayen samaj ke nirantar amanviy hote jane ke mool karnon ko rekhankit karti hain. unki bhasha ki takat hi unhen sarvashreshth kathakaron mein sthaan dilati hai. unki bhasha ki kharonch, taap aur garmahat mein ek aadim lay bhi hai aur parivartanshil sarjnatmak sangit bhi. balki jis tarah ek samkalin bindu par donon aakar milte hain, vahan ek adbhut pardarshi chamak upasthit hoti hai jo pathak ke saath ek atmiy sambandh banati hai. unki kahaniyon mein jivan ka koi bahut baDa sandarbh ya bahut baDa satya udghatit nahin hota, balki jivan ke chhote chhote prsangon ko bahut hi svabhavik Dhang se uker dena unki khaas pahchan hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products