Meri Jindagi Mein Chekhov

Regular price Rs. 56
Sale price Rs. 56 Regular price Rs. 60
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Meri Jindagi Mein Chekhov

Meri Jindagi Mein Chekhov

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

लीडिया एविलोव चेख़व से चार वर्ष छोटी थीं। उनका जन्म 1864 में मॉस्को में हुआ और पहली बार जब वे चेख़व से मिलीं तो केवल पच्चीस की थीं। चेख़व के साथ अपने सम्बन्ध के ब्यौरे में—जो 1942 में, 78 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु के कई वर्ष बाद ‘चेख़व इन माई लाइफ़’ शीर्षक से छपा—उन्होंने 1889 और 1899 के बीच चेख़व के साथ अपनी केवल आठ मुलाक़ातों का वर्णन किया है, मगर साफ़ मालूम होता है कि वे अक्सर ही मिलते रहे होंगे। संस्मरण में काफ़ी कुछ दिलचस्प सामग्री है मगर उसमें भी ख़ास महत्त्व चेख़व के जीवन की उन घटनाओं का है जो उनके सबसे कल्पना-प्रणव नाटक ‘द सी गल’ की पृष्ठभूमि में थीं। इस नाटक ने उनके कई आलोचकों की बुद्धि की आज़माइश की और नाटक के कई पात्रों के विषय में उनके अनुमान अब सर्वथा निराधार मालूम देते हैं।
इस पुस्तक में लीडिया ने अपने और चेख़व के, दस वर्ष तक चले दुखद प्रेम-प्रसंग का वर्णन किया है। यही समय चेख़व के लेखकीय जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण समय भी था। चेख़व के जीवन के अब तक अनजाने इस अध्याय से उनकी कहानियों और नाटकों में उपस्थित उस वेदना और विषाद को समझने में अन्य किसी भी बात से ज़्यादा मदद मिलती है जो ‘चेरी ऑर्चर्ड’ में वायलिन के तार टूटने की मातमी आवाज़ की तरह ही उनकी सृजन-प्रतिभा और लेखनी से निकली हर प्रेमकथा की विशेषता है। Lidiya evilov chekhav se char varsh chhoti thin. Unka janm 1864 mein mausko mein hua aur pahli baar jab ve chekhav se milin to keval pachchis ki thin. Chekhav ke saath apne sambandh ke byaure men—jo 1942 mein, 78 varsh ki aayu mein unki mrityu ke kai varsh baad ‘chekhav in mai laif’ shirshak se chhapa—unhonne 1889 aur 1899 ke bich chekhav ke saath apni keval aath mulaqaton ka varnan kiya hai, magar saaf malum hota hai ki ve aksar hi milte rahe honge. Sansmran mein kafi kuchh dilchasp samagri hai magar usmen bhi khas mahattv chekhav ke jivan ki un ghatnaon ka hai jo unke sabse kalpna-prnav natak ‘da si gal’ ki prishthbhumi mein thin. Is natak ne unke kai aalochkon ki buddhi ki aazmaish ki aur natak ke kai patron ke vishay mein unke anuman ab sarvtha niradhar malum dete hain. Is pustak mein lidiya ne apne aur chekhav ke, das varsh tak chale dukhad prem-prsang ka varnan kiya hai. Yahi samay chekhav ke lekhkiy jivan ka sabse mahattvpurn samay bhi tha. Chekhav ke jivan ke ab tak anjane is adhyay se unki kahaniyon aur natkon mein upasthit us vedna aur vishad ko samajhne mein anya kisi bhi baat se zyada madad milti hai jo ‘cheri aurchard’ mein vaylin ke taar tutne ki matmi aavaz ki tarah hi unki srijan-pratibha aur lekhni se nikli har premaktha ki visheshta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products