BackBack

Meri Bastar Ki Kahaniyan

Mehrunnisa Parvez

Rs. 495

Vani Prakashan

मानव के संघर्ष की गाथा जहाँ से शुरू होती है, आज भी आदिवासी वहीं खड़े दिखते हैं। बेशक, यह हमारे पूर्वज तथा पुरखा हैं, पर आश्चर्य प्रगति की इस दौड़ में यह कैसे पीछे छूट गये। मनुष्य जन्म से ही एक घर, परिवार और अपनों की चाहत में सारी उम्र... Read More

Description

मानव के संघर्ष की गाथा जहाँ से शुरू होती है, आज भी आदिवासी वहीं खड़े दिखते हैं। बेशक, यह हमारे पूर्वज तथा पुरखा हैं, पर आश्चर्य प्रगति की इस दौड़ में यह कैसे पीछे छूट गये। मनुष्य जन्म से ही एक घर, परिवार और अपनों की चाहत में सारी उम्र गँवा देता है। सारी उम्र वह बस एक घर की ही फेरी लगाता प्राण त्याग देता है। घर के मेहराब, ताक, दरो-दीवारों पर उसकी अपनी सुगन्ध बसी होती है, उसके दुःख-सुख और संघर्ष की इबारत सबको टटोल-टटोलकर छू-छू कर ही तो उसके नन्हे-नन्हे पैर कदम-ब-कदम ज़िन्दगी की ओर आगे बढ़ते हैं। सारी उम्र वह उन्हें नहीं भूल पाता। अपनी संस्कृति से आज भी अमीर-धनवान यह आदिवासी मनुष्य के इतिहास की लम्बी यात्रा में हमेशा छले गये। अपने-आप में सिमटकर, सिकुड़कर, ठिठुरकर रह गये। बाहर की दुनिया से दूर इन्होंने अपनी अन्धी दुनिया बसा ली है। जिस तरह चींटियाँ अपने झुण्ड में, कबीले में रहती हैं, ऐसे ही इन्होंने भी अपने को बाहर की दुनिया से हटाकर अलग कर लिया है। प्रश्न यहाँ इनसान की हैसियत तथा आर्थिक सम्पन्नता की बहस का नहीं है, बल्कि आदमी के घटते और बढ़ते कद का, उसकी अपनी औकात का है। वर्तमान तथा भविष्य के निर्माण में कभी उसके श्रम, भावना, प्रतिष्ठा को क्यों दर्ज नहीं किया गया? एक ओर तो दूसरे सीढ़ी लगा-लगाकर ऊँचाइयाँ लाँघते गये, वहीं यह जहाँ के तहाँ आज भी खड़े दिखते हैं। मुझे प्रसन्नता तथा गर्व है कि मेरा जन्म तथा बचपन आदिवासियों के बीच ही हुआ तथा गुजरा। मैं इन्हीं के हाथों पली-बढ़ी। इन्हीं की कहानियाँ, बातें सुनती। इन्हीं के दुःख में रो पड़ती तथा इनके सुख में प्रसन्न हो जाती। मैंने अपनी पहली कहानी भी इन्हीं पर लिखी। 'जंगली हिरनी' बस्तर के आदिवासी बाला पर लिखी मेरी पहली कहानी थी, जो अक्टूबर 68 में 'धर्मयुग' में छपी थी। मैंने हर उपन्यास तथा कहानियों में आदिवासियों को लिखा है। 'जगली हिरणी' कहानी से लेकर 'पासंग' उपन्यास सब में आदिवासी मौजूद हैं। यूँ तो मेरे पूरे साहित्य में आदिवासी तथा जंगल की गन्ध मौजूद। है, फिर भी मैंने विशेष कहानियाँ निकाली हैं। 'मेरी बस्तर की। कहानियाँ' कहानी संग्रह आज आपके हाथों में सौंप रही हूँ। manav ke sangharsh ki gatha jahan se shuru hoti hai, aaj bhi adivasi vahin khaDe dikhte hain. beshak, ye hamare purvaj tatha purkha hain, par ashcharya pragati ki is dauD mein ye kaise pichhe chhoot gaye. manushya janm se hi ek ghar, parivar aur apnon ki chahat mein sari umr ganva deta hai. sari umr vah bas ek ghar ki hi pheri lagata praan tyaag deta hai. ghar ke mehrab, taak, daro divaron par uski apni sugandh basi hoti hai, uske duःkha sukh aur sangharsh ki ibarat sabko tatol tatolkar chhu chhu kar hi to uske nanhe nanhe pair kadam ba kadam zindagi ki or aage baDhte hain. sari umr vah unhen nahin bhool pata. apni sanskriti se aaj bhi amir dhanvan ye adivasi manushya ke itihas ki lambi yatra mein hamesha chhale gaye. apne aap mein simatkar, sikuDkar, thithurkar rah gaye. bahar ki duniya se door inhonne apni andhi duniya basa li hai. jis tarah chintiyan apne jhunD mein, kabile mein rahti hain, aise hi inhonne bhi apne ko bahar ki duniya se hatakar alag kar liya hai. prashn yahan insan ki haisiyat tatha arthik sampannta ki bahas ka nahin hai, balki aadmi ke ghatte aur baDhte kad ka, uski apni aukat ka hai. vartman tatha bhavishya ke nirman mein kabhi uske shram, bhavna, pratishta ko kyon darj nahin kiya gaya? ek or to dusre siDhi laga lagakar uunchaiyan langhate gaye, vahin ye jahan ke tahan aaj bhi khaDe dikhte hain. mujhe prsannta tatha garv hai ki mera janm tatha bachpan adivasiyon ke beech hi hua tatha gujra. main inhin ke hathon pali baDhi. inhin ki kahaniyan, baten sunti. inhin ke duःkha mein ro paDti tatha inke sukh mein prsann ho jati. mainne apni pahli kahani bhi inhin par likhi. jangli hirni bastar ke adivasi bala par likhi meri pahli kahani thi, jo aktubar 68 mein dharmyug mein chhapi thi. mainne har upanyas tatha kahaniyon mein adivasiyon ko likha hai. jagli hirni kahani se lekar pasang upanyas sab mein adivasi maujud hain. yoon to mere pure sahitya mein adivasi tatha jangal ki gandh maujud. hai, phir bhi mainne vishesh kahaniyan nikali hain. meri bastar ki. kahaniyan kahani sangrah aaj aapke hathon mein saump rahi hoon.