Mere Bete Ki Kahani

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mere Bete Ki Kahani

Mere Bete Ki Kahani

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘नोबेल पुरस्कार’ सम्मानित लेखिका नादिन गोर्डाइमर का उपन्यास ‘मेरे बेटे की कहानी’ दक्षिण अफ्रीका के नस्लवादी, रंगभेदवादी निरंकुश, अमानवीय शासन के निषेध-दर-निषेध की चक्की में पीसे जाते उन 87 प्रतिशत बहुसंख्य कालों, अश्वेतों तथा अन्यवर्णी जनों पर 13 प्रतिशत विशेष सुविधाभोगी गोरों के संवेदनहीन अत्याचार और शोषण-चक्र की स्मृतियाँ जगानेवाली कृति है। यहाँ से गुज़रना अँधेरी सुरंग की कष्टकर किन्तु अनिवार्य यात्रा की तरह है—एक ऐसी लम्बी, काली रात जिसकी कोई सुबह नहीं है। जैसे-जैसे हम पृष्ठ पलटते हैं एक भयानक बेचैनी जकड़ती चलती है, लेकिन हम उससे भाग नहीं सकते। हमारे अन्दर बैठा मनुष्य अपने नियतिचक्र का यह उद्वेलन अपनी हर शिरा में महसूस करना चाहता है—अगले संघर्ष की तैयारी के लिए, जो कहीं, कभी शुरू हो सकता है।
‘मेरे बेटे की कहानी’ एक ऐसे संसार में ले जाती है जहाँ मनुष्य होने के हर अधिकार को निषेधों और वर्जनाओं के बुलडोज़रों के नीचे कुचल दिया गया है। लेकिन इस दमनचक्र में पीसे जाने के बावजूद संघर्ष जीवित है।
उपन्यास में कथा कई स्तरों पर चलती है। पीड़ा भोगते अधिसंख्य जन, उन्हीं के बीच से उभरकर संघर्ष करनेवाले क्रान्तिबिन्दु किशोर और युवक, जो बड़ी बेरहमी से भून दिए जाते हैं। उनकी क़ब्रों पर श्रद्धांजलि अर्पित करने जुटी भीड़ पर फिर गोलियाँ बरसाई जाती हैं। हर रोज़, हर कहीं यही होता है। कथा का आरम्भ ऐसा आभास कराता है जैसे यह विवाहेतर अवैध काम सम्बन्धों की चटपटी कथा है। ‘दूसरी औरत’ के साथ अपने क्रान्तिकारी पिता को, जो हाल ही में जेल से छूटकर आया है, देखनेवाली किशोर बेटे की आँख इस सन्दर्भ को नए आयाम देती है। एक भयानक, विद्रूपित कंट्रास्ट की क्षणिक आश्वस्ति—और पाठक को लगता है वह क्षण-भर को खुलकर साँस ले सकता है। लेकिन अन्ततः यह किंचित् रोमानी स्थिति भी हमें बेमालूम तौर पर बहुत ऊँचाई से इस संघर्ष के भँवर में फेंक देती है, और हम अन्दर ही अन्दर उतरते चले जाते हैं। स्थितियों का यह प्रतिगामी विचलन एक नए शिल्प के तहत रचना के समग्र प्रभाव को और भी धारदार बना देता है। ‘nobel puraskar’ sammanit lekhika nadin gordaimar ka upanyas ‘mere bete ki kahani’ dakshin aphrika ke naslvadi, rangbhedvadi nirankush, amanviy shasan ke nishedh-dar-nishedh ki chakki mein pise jate un 87 pratishat bahusankhya kalon, ashveton tatha anyvarni janon par 13 pratishat vishesh suvidhabhogi goron ke sanvedanhin atyachar aur shoshan-chakr ki smritiyan jaganevali kriti hai. Yahan se guzarna andheri surang ki kashtkar kintu anivarya yatra ki tarah hai—ek aisi lambi, kali raat jiski koi subah nahin hai. Jaise-jaise hum prishth palatte hain ek bhayanak bechaini jakadti chalti hai, lekin hum usse bhag nahin sakte. Hamare andar baitha manushya apne niyatichakr ka ye udvelan apni har shira mein mahsus karna chahta hai—agle sangharsh ki taiyari ke liye, jo kahin, kabhi shuru ho sakta hai. ‘mere bete ki kahani’ ek aise sansar mein le jati hai jahan manushya hone ke har adhikar ko nishedhon aur varjnaon ke buldozron ke niche kuchal diya gaya hai. Lekin is damanchakr mein pise jane ke bavjud sangharsh jivit hai.
Upanyas mein katha kai stron par chalti hai. Pida bhogte adhisankhya jan, unhin ke bich se ubharkar sangharsh karnevale krantibindu kishor aur yuvak, jo badi berahmi se bhun diye jate hain. Unki qabron par shraddhanjali arpit karne juti bhid par phir goliyan barsai jati hain. Har roz, har kahin yahi hota hai. Katha ka aarambh aisa aabhas karata hai jaise ye vivahetar avaidh kaam sambandhon ki chatapti katha hai. ‘dusri aurat’ ke saath apne krantikari pita ko, jo haal hi mein jel se chhutkar aaya hai, dekhnevali kishor bete ki aankh is sandarbh ko ne aayam deti hai. Ek bhayanak, vidrupit kantrast ki kshnik aashvasti—aur pathak ko lagta hai vah kshan-bhar ko khulkar sans le sakta hai. Lekin antatः ye kinchit romani sthiti bhi hamein bemalum taur par bahut uunchai se is sangharsh ke bhanvar mein phenk deti hai, aur hum andar hi andar utarte chale jate hain. Sthitiyon ka ye pratigami vichlan ek ne shilp ke tahat rachna ke samagr prbhav ko aur bhi dhardar bana deta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products