Mera Ghar

Regular price Rs. 88
Sale price Rs. 88 Regular price Rs. 95
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mera Ghar

Mera Ghar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वयोवृद्ध त्रिलोचन इस समय हिन्दी के सम्भवतः सबसे गृहस्थ कवि हैं, इस अर्थ में कि हिन्दी भाषा अपनी जातीय स्मृतियों और असंख्य अन्तर्ध्वनियों के साथ, सचमुच उनका घर है। वे बिरले कवि हैं जिन्हें यह पूरे आत्मविश्वास से कहने का हक़ है कि ‘पृथ्वी मेरा घर है/अपने इस घर को/अच्छी तरह मैं ही नहीं जानता।’ इस घर में हुब्बी, पाँचू, टिक्कुल बाबा आदि सब रसे-बसे हैं। त्रिलोचन की कविता साधारण से साधारण चरित्र या घटना या बिम्ब को पूरे जतन से दर्ज करती है, मानो सब कुछ उनके पास-पड़ोस में है, कि ‘तारे सब सहचर हैं मेरे’।
इस संग्रह में त्रिलोचन की ऐसी कई कविताएँ पहली बार पुस्तकाकार संगृहीत हो रही हैं जो उनके किसी पिछले संग्रह में नहीं आ सकी थीं और इधर-उधर पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई थीं। इस चयन में बिना चीख़-पुकार मचाए, ‘पीड़ा-संग्रह’ है और यह मानने की बेबाकी भी
कि—
‘मुझे अपने मरने का
थोड़ा भी दु:ख नहीं
मेरे मर जाने पर
शब्दों से मेरा सम्बन्ध
छूट जाएगा।’
त्रिलोचन की कुछ अवधी कविताएँ इस संग्रह को ‘घर की बोली’ देती हैं। उनमें न सिर्फ़ ‘भाखा की महिमा’ प्रगट है, पर स्वयं त्रिलोचन का अत्यन्त स्पन्दित भाषा संसार भी—एक बार फिर। —अशोक वाजपेयी Vayovriddh trilochan is samay hindi ke sambhvatः sabse grihasth kavi hain, is arth mein ki hindi bhasha apni jatiy smritiyon aur asankhya antardhvaniyon ke saath, sachmuch unka ghar hai. Ve birle kavi hain jinhen ye pure aatmvishvas se kahne ka haq hai ki ‘prithvi mera ghar hai/apne is ghar ko/achchhi tarah main hi nahin janta. ’ is ghar mein hubbi, panchu, tikkul baba aadi sab rase-base hain. Trilochan ki kavita sadharan se sadharan charitr ya ghatna ya bimb ko pure jatan se darj karti hai, mano sab kuchh unke pas-pados mein hai, ki ‘tare sab sahchar hain mere’. Is sangrah mein trilochan ki aisi kai kavitayen pahli baar pustkakar sangrihit ho rahi hain jo unke kisi pichhle sangrah mein nahin aa saki thin aur idhar-udhar patrikaon mein prkashit hui thin. Is chayan mein bina chikh-pukar machaye, ‘pida-sangrah’ hai aur ye manne ki bebaki bhi
Ki—
‘mujhe apne marne ka
Thoda bhi du:kha nahin
Mere mar jane par
Shabdon se mera sambandh
Chhut jayega. ’
Trilochan ki kuchh avdhi kavitayen is sangrah ko ‘ghar ki boli’ deti hain. Unmen na sirf ‘bhakha ki mahima’ prgat hai, par svayan trilochan ka atyant spandit bhasha sansar bhi—ek baar phir. —ashok vajpeyi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products