BackBack
-11%

Meghdoot : Ek Adhyayan

Kalidas, Tr. Vasudev Sharan Agrawal

Rs. 250 Rs. 223

महाकवि कालिदास की कालजयी कृति ‘मेघदूत’ सदियों से प्रेम और विरह की श्रेष्ठ अभिव्यक्ति के रूप में समादृत रही है। संस्कृत साहित्य में ‘उपमा कालिदासस्य’ प्रसिद्ध उक्ति है ही और इस कृति में कालिदास की रचनात्मकता शिखर पर है। इसीलिए ‘मेघदूत’ शताब्दियों से काव्य का प्रतिमान रहा है। रसिकों-विज्ञजनों में... Read More

Description

महाकवि कालिदास की कालजयी कृति ‘मेघदूत’ सदियों से प्रेम और विरह की श्रेष्ठ अभिव्यक्ति के रूप में समादृत रही है।
संस्कृत साहित्य में ‘उपमा कालिदासस्य’ प्रसिद्ध उक्ति है ही और इस कृति में कालिदास की रचनात्मकता शिखर पर है। इसीलिए ‘मेघदूत’ शताब्दियों से काव्य का प्रतिमान रहा है। रसिकों-विज्ञजनों में महान कृतियों के विशेष अध्ययन की सुस्थापित परम्परा रही है ताकि कृतियों में निहित विशेष भावों, सन्दर्भों, उक्तियों-अन्योक्तियों, कथाओं-अन्तर्कथाओं का खुलासा कर रचना का पूरा आनन्द लिया जा सके, और यदि यह अध्ययन डॉ. वासुदेवशरण अग्रवाल जैसे इतिहास-संस्कृति-मर्मज्ञ का हो तो पाठक रचना-रस से आप्लावित हो उठेंगे।
डॉ. अग्रवाल ने स्वयं लिखा : ‘‘यह अध्ययन ‘मेघदूत मीमांसा’ के नाम से 1927 की शरद ऋतु में लिखा गया था। उस समय मैं यौवन के ललाम भाव से परिचित ही हुआ था और मेरा मन उसके अतिरेक सुखों की उस भावभूमि के लिए उन्मुक्त था, जो ‘मेघदूत’ काव्य का सनातन धरातल है। न जाने किस पूर्व पुण्य से काशी विश्वविद्यालय में जब मैं बी.ए. की शिक्षा प्राप्त कर रहा था, तब किसी एकान्त दिवस में स्वर्गिक ज्योति की कोई किरण मेरे मानस में वह अभिज्ञान ले आई, जिसने मेरे लिए इस काव्य का अर्थ ही बदल डाला और इसके स्थूल रूप को सूक्ष्म बाण से बेध दिया। उसने एक साथ ही अध्यात्म और श्रृंगार के नील-लोहित धनुष से ‘मेघदूत’ के भावलोक को जीतकर मुझे भी उसका नागरिक बना लिया।’’
अरसे से अनुपलब्ध इस कृति का प्रकाशन हमारा गौरव है और काव्य-रसिकों के लिए उल्लास का अवसर भी। Mahakavi kalidas ki kalajyi kriti ‘meghdut’ sadiyon se prem aur virah ki shreshth abhivyakti ke rup mein samadrit rahi hai. Sanskrit sahitya mein ‘upma kalidasasya’ prsiddh ukti hai hi aur is kriti mein kalidas ki rachnatmakta shikhar par hai. Isiliye ‘meghdut’ shatabdiyon se kavya ka pratiman raha hai. Rasikon-vigyajnon mein mahan kritiyon ke vishesh adhyyan ki susthapit parampra rahi hai taki kritiyon mein nihit vishesh bhavon, sandarbhon, uktiyon-anyoktiyon, kathaon-antarkthaon ka khulasa kar rachna ka pura aanand liya ja sake, aur yadi ye adhyyan dau. Vasudevashran agrval jaise itihas-sanskriti-marmagya ka ho to pathak rachna-ras se aaplavit ho uthenge.
Dau. Agrval ne svayan likha : ‘‘yah adhyyan ‘meghdut mimansa’ ke naam se 1927 ki sharad ritu mein likha gaya tha. Us samay main yauvan ke lalam bhav se parichit hi hua tha aur mera man uske atirek sukhon ki us bhavbhumi ke liye unmukt tha, jo ‘meghdut’ kavya ka sanatan dharatal hai. Na jane kis purv punya se kashi vishvvidyalay mein jab main bi. e. Ki shiksha prapt kar raha tha, tab kisi ekant divas mein svargik jyoti ki koi kiran mere manas mein vah abhigyan le aai, jisne mere liye is kavya ka arth hi badal dala aur iske sthul rup ko sukshm baan se bedh diya. Usne ek saath hi adhyatm aur shrringar ke nil-lohit dhanush se ‘meghdut’ ke bhavlok ko jitkar mujhe bhi uska nagrik bana liya. ’’
Arse se anuplabdh is kriti ka prkashan hamara gaurav hai aur kavya-rasikon ke liye ullas ka avsar bhi.