Meghdoot

Regular price Rs. 658
Sale price Rs. 658 Regular price Rs. 708
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Meghdoot

Meghdoot

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय संस्कृत साहित्य की अमूल्य थाती ‘मेघदूत’ प्रकृति तथा विपरीत परिस्थितियों में फँसे एक मनुष्य के अवचेतन रिश्ते का प्रतीक है। कालिदास ने अपनी यह महान रचना एक मिथकीय घटना के आधार पर बुनी है, जिसमें भगवान कुबेर का सेवक और अनन्त यौवन के वरदान से विभूषित यक्ष अपनी यक्षिणी के मोह के वशीभूत हो अपने स्वामी के लिए रोज़ सुबह ताज़े फूल तोड़ने का अपना कर्तव्य भुला बैठता है। इस पर क्रोधित हो कुबेर यक्ष को एक वर्ष के लिए जंगल में संन्यासी का जीवन बिताने के लिए भेज देता है।
एकान्तवास के दौरान जहाँ यक्ष का ध्यान प्रकृत और उसके तत्त्वों की ओर जाता है, वहीं उसके शरीर और एकाकी हृदय को बदलते मौसमों की मार भी झेलनी पड़ती है। परिणामस्वरूप यक्ष विभ्रम का शिकार हो जाता है। उसे प्रकृति की तमाम वस्तुओं में मानवीय क्रियाओं का आभास होने लगता है और वह उनमें अपनी भावनाओं का मनोछवियों का प्रतिबिम्ब देखने लगता है। आकाश में छाए-भरी बादलों में उसे अपना एक दोस्त दिखाई देता है जो दूर हिमालय में स्थित अलकानगरी में उसके लिए अवसादग्रस्त उसकी प्रेमिका तक उसका सन्देश लेकर जा सकता है। इस कृति में मृत्युंजय ने इतिहास और विरासत की छवियों को जिस अनूठे ढंग से समकालीन सन्दर्भों में पकड़ा है, उसके चलते यह पौराणिक नाट्य एक गीतात्मक प्रस्तुति बन गया है। पौराणिक चरित्रों और प्रतीकों को पाद-टिप्पणियों और प्राचीन ग्रन्थों के हवाले से समझाया गया है, उससे यह पुस्तक और भी पठनीय हो जाती है। Bhartiy sanskrit sahitya ki amulya thati ‘meghdut’ prkriti tatha viprit paristhitiyon mein phanse ek manushya ke avchetan rishte ka prtik hai. Kalidas ne apni ye mahan rachna ek mithkiy ghatna ke aadhar par buni hai, jismen bhagvan kuber ka sevak aur anant yauvan ke vardan se vibhushit yaksh apni yakshini ke moh ke vashibhut ho apne svami ke liye roz subah taze phul todne ka apna kartavya bhula baithta hai. Is par krodhit ho kuber yaksh ko ek varsh ke liye jangal mein sannyasi ka jivan bitane ke liye bhej deta hai. Ekantvas ke dauran jahan yaksh ka dhyan prkrit aur uske tattvon ki or jata hai, vahin uske sharir aur ekaki hriday ko badalte mausmon ki maar bhi jhelni padti hai. Parinamasvrup yaksh vibhram ka shikar ho jata hai. Use prkriti ki tamam vastuon mein manviy kriyaon ka aabhas hone lagta hai aur vah unmen apni bhavnaon ka manochhaviyon ka pratibimb dekhne lagta hai. Aakash mein chhaye-bhari badlon mein use apna ek dost dikhai deta hai jo dur himalay mein sthit alkanagri mein uske liye avsadagrast uski premika tak uska sandesh lekar ja sakta hai. Is kriti mein mrityunjay ne itihas aur virasat ki chhaviyon ko jis anuthe dhang se samkalin sandarbhon mein pakda hai, uske chalte ye pauranik natya ek gitatmak prastuti ban gaya hai. Pauranik charitron aur prtikon ko pad-tippaniyon aur prachin granthon ke havale se samjhaya gaya hai, usse ye pustak aur bhi pathniy ho jati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products