Meera Aur Meera

Regular price Rs. 256
Sale price Rs. 256 Regular price Rs. 275
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Meera Aur Meera

Meera Aur Meera

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘मीरा और मीरा’ छायावाद की मूर्तिमान गरिमा महीयसी महादेवी वर्मा के चार व्याख्यानों का संग्रह है। महादेवी जी ने ये व्याख्यान जयपुर में हिन्दी साहित्य सम्मेलन की राजस्थान शाखा के निमंत्रण पर दिए थे।
इन चार व्याख्यानों के शीर्षक हैं–मीरा का युग, मीरा की साधना, मीरा के गीत और मीरा का विद्रोह। इनमें महादेवी ने मध्यकालीन स्त्री की स्थिति का विशेष सन्दर्भ लेकर भक्ति, मुक्ति, आत्मनिर्णय, विद्रोह और निजपथ-निर्माण आदि को विश्लेषित किया है।
‘मीरा और मीरा’ को प्रकाशित करते हुए हमें इसलिए भी विशेष प्रसन्नता है कि यह समय अस्मिता-विमर्श का है। स्त्री-विमर्श के ‘समय विशेष’ में स्त्री-अस्मिता के दो शिखर व्यक्तित्वों का ‘रचनात्मक संवाद’ महत्त्वपूर्ण है। इन दो दीपशिखाओं के आलोक में परम्परा और आधुनिकता के जाने कितने निहितार्थ स्पष्ट होते हैं। ‘शृंखला की कड़ियाँ’ की लेखिका ने ‘सूली ऊपर सेज पिया की’ का गायन करने वाली रचनाकार के मन में प्रवेश किया है। यह दो समयों (मध्यकाल और आधुनिक युग) का संवाद भी है।
यह सोने पर सुहागा ही कहा जाएगा कि प्रस्तुत पुस्तक की भूमिका सुप्रसिद्ध कवि, कथाकार व विमर्शकार अनामिका ने लिखी है। कहना न होगा कि यह लम्बी भूमिका एक मुकम्मल आलोचनात्मक आलेख है। ‘mira aur mira’ chhayavad ki murtiman garima mahiysi mahadevi varma ke char vyakhyanon ka sangrah hai. Mahadevi ji ne ye vyakhyan jaypur mein hindi sahitya sammelan ki rajasthan shakha ke nimantran par diye the. In char vyakhyanon ke shirshak hain–mira ka yug, mira ki sadhna, mira ke git aur mira ka vidroh. Inmen mahadevi ne madhykalin stri ki sthiti ka vishesh sandarbh lekar bhakti, mukti, aatmnirnay, vidroh aur nijpath-nirman aadi ko vishleshit kiya hai.
‘mira aur mira’ ko prkashit karte hue hamein isaliye bhi vishesh prsannta hai ki ye samay asmita-vimarsh ka hai. Stri-vimarsh ke ‘samay vishesh’ mein stri-asmita ke do shikhar vyaktitvon ka ‘rachnatmak sanvad’ mahattvpurn hai. In do dipashikhaon ke aalok mein parampra aur aadhunikta ke jane kitne nihitarth spasht hote hain. ‘shrinkhla ki kadiyan’ ki lekhika ne ‘suli uupar sej piya ki’ ka gayan karne vali rachnakar ke man mein prvesh kiya hai. Ye do samyon (madhykal aur aadhunik yug) ka sanvad bhi hai.
Ye sone par suhaga hi kaha jayega ki prastut pustak ki bhumika suprsiddh kavi, kathakar va vimarshkar anamika ne likhi hai. Kahna na hoga ki ye lambi bhumika ek mukammal aalochnatmak aalekh hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products