Look Inside
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan
Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan

Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan

Maxim Gorki Ki Lokpriya Kahaniyan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मैक्सिम गोर्की की गणना विश्व के श्रेष्ठ साहित्यकारों में की जाती है। उन्होंने साहित्य की सभी विधाओं—नाटक, कविता, निबन्ध, कहानी आदि—में योगदान दिया, किन्तु वे विशेष रूप से अपने उपन्यास ‘माँ’ एवं अन्य उपन्यासों एवं कहानियों के लिए जाने जाते हैं।
गोर्की की प्रारम्भिक कहानियाँ दो भिन्न-भिन्न शैलियों—रोमांटिक (स्वच्छन्दतावादी) और यथार्थवादी—में लिखी गई हैं। अपनी रोमांटिक कहानियों में उन्होंने जीवन के प्रेरणादायक और उदात्त चित्र प्रस्तुत कर अपने अभावों और दरिद्रता से भरे जीवन की परिस्थितियों को भूलने का प्रयत्न किया है। इसलिए उन्होंने अपनी कल्पना की रंगीनियों से उन्हें सजाया है। ये कहानियाँ मनुष्य के शौर्य, साहस और स्वतंत्रता की भावनाओं से अनुप्राणित हैं और इनमें ऐसे स्वप्नों की अभिव्यक्ति है जो आज की यथार्थता को बेधकर आगामी कल की यथार्थता को देखते हैं। यथार्थवादी कहानियों के कथानक, घटनाएँ और पात्र वास्तविक जीवन से लिए गए हैं। ऐसी समस्याएँ प्रस्तुत की गई हैं, जो हर दिन के जीवन में सामने आ रही थीं, जिनका लेखक को अपने इर्द-गिर्द के जीवन में अनुभव हुआ था और जो तत्कालीन रूस के पुराने सामन्तवादी-पितृसत्तात्मक ढाँचे के टूटने और पूँजीवाद की ओर तीव्र संक्रमण के फलस्वरूप जन्म लेते हुए नए सामाजिक सम्बन्धों, नए रिश्तों का परिणाम था। इनमें जहाँ मध्यम वर्ग के लोगों की कूपमंडूकता, उनके बौद्धिक दैन्य, उनकी उदासीनता, उनकी क्रूरता और संकीर्णता पर ज़ोरदार चोट की गई है, वहीं बुद्धिजीवियों तथा साहित्यकारों पर भी प्रहार किया गया है।
गोर्की ने जीवन के स्वामियों अर्थात् साधन-सम्पन्न शोषक वर्ग के लालच, स्वार्थपरता और उसके मुक़ाबले में ऐसे पात्रों को भी प्रस्तुत किया है जो क्रूर परिस्थितियों के परिणामस्वरूप जीवन के गर्त या तल में पहुँच गए थे। उनमें से कुछ अपने मानवीय लक्षणों को भी खो बैठे थे, किन्तु अधिकांश की आत्मा में उनका मानव जीवित रहा था। गोर्की ने उन सामाजिक परिस्थितियों पर प्रकाश डाला है, उनका विश्लेषण किया है, जो लोगों को पतन की ओर ले जाती हैं, किसी नारी को वेश्या बनने के लिए विवश करती हैं, बच्चों से भीख मँगवाती हैं। Maiksim gorki ki ganna vishv ke shreshth sahitykaron mein ki jati hai. Unhonne sahitya ki sabhi vidhaon—natak, kavita, nibandh, kahani aadi—men yogdan diya, kintu ve vishesh rup se apne upanyas ‘man’ evan anya upanyason evan kahaniyon ke liye jane jate hain. Gorki ki prarambhik kahaniyan do bhinn-bhinn shailiyon—romantik (svachchhandtavadi) aur yatharthvadi—men likhi gai hain. Apni romantik kahaniyon mein unhonne jivan ke prernadayak aur udatt chitr prastut kar apne abhavon aur daridrta se bhare jivan ki paristhitiyon ko bhulne ka pryatn kiya hai. Isaliye unhonne apni kalpna ki ranginiyon se unhen sajaya hai. Ye kahaniyan manushya ke shaurya, sahas aur svtantrta ki bhavnaon se anupranit hain aur inmen aise svapnon ki abhivyakti hai jo aaj ki yatharthta ko bedhkar aagami kal ki yatharthta ko dekhte hain. Yatharthvadi kahaniyon ke kathanak, ghatnayen aur patr vastvik jivan se liye ge hain. Aisi samasyayen prastut ki gai hain, jo har din ke jivan mein samne aa rahi thin, jinka lekhak ko apne ird-gird ke jivan mein anubhav hua tha aur jo tatkalin rus ke purane samantvadi-pitrisattatmak dhanche ke tutne aur punjivad ki or tivr sankrman ke phalasvrup janm lete hue ne samajik sambandhon, ne rishton ka parinam tha. Inmen jahan madhyam varg ke logon ki kupmandukta, unke bauddhik dainya, unki udasinta, unki krurta aur sankirnta par zordar chot ki gai hai, vahin buddhijiviyon tatha sahitykaron par bhi prhar kiya gaya hai.
Gorki ne jivan ke svamiyon arthat sadhan-sampann shoshak varg ke lalach, svarthaparta aur uske muqable mein aise patron ko bhi prastut kiya hai jo krur paristhitiyon ke parinamasvrup jivan ke gart ya tal mein pahunch ge the. Unmen se kuchh apne manviy lakshnon ko bhi kho baithe the, kintu adhikansh ki aatma mein unka manav jivit raha tha. Gorki ne un samajik paristhitiyon par prkash dala hai, unka vishleshan kiya hai, jo logon ko patan ki or le jati hain, kisi nari ko veshya banne ke liye vivash karti hain, bachchon se bhikh mangvati hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products