Look Inside
Maujood
Maujood

Maujood

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Maujood Rajkamal

Maujood

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

राहत साहब मेरे बड़े पुराने दोस्त हैं, लगभग चालीस बरस से मेरी और उनकी दोस्ती क़ायम है। वो एक बड़े शायर और एक सच्चे इनसान हैं। सच्चा इनसान उसे कहता हूँ, जो अच्छाइयों को ही नहीं बुराइयों को भी प्यार कर सके। मेरा व्यक्तित्व भी अच्छाइयों और बुराइयों का नमूना है और राहत का भी। इसीलिए तो मैं कहता हूँ कि फ़रिश्तों के टूटे हुए ख़्वाब का एक नाम राहत है। राहत ने जीवन और जगत के विभिन्न पहलुओं पर जो ग़ज़लें कही हैं, वो हिन्दी-उर्दू की शायरी के लिए एक नया दरवाज़ा खोलती हैं। वर्तमान परिवेश पर जो टिप्पणी उन्होंने अपनी ग़ज़लों में की है वो आज की राजनीति, आज की साम्प्रदायिकता, धार्मिक पाखंड और पर्यावरण पर बड़े ही मार्मिक भाव से की है। छोटी-बड़ी बहर की ग़ज़ल में उनका प्रतीक और बिम्ब विद्यमान है, जो नितान्त मौलिक और अद्वितीय है। उनके कितने ही शे’र ऐसे हैं जो ज़ुबान पर बरबस बैठे जाते हैं। नए रदीफ़, नई बहर, नए मज़मून, नया शिल्प उनकी ग़ज़लों में जादू की तरह बिखरा है और पढ़ने व सुननेवाले सभी के दिलों पर छा जाता है। राहत की शायरी तसव्वुफ़ की उच्चतम ऊँचाइयों तक पहुँचती है। उनका ये शे’र मेरे ज़ेहन में अक्सर कौंधता रहता है—
किसने दस्तक दी है दिल पर, कौन है?
आप तो अन्दर हैं, बाहर कौन है...?
भाई राहत की सोच एक सच्चे इनसान की सोच है। वो यद्यपि अपनी उम्र से अधेड़ दिखाई पड़ते हैं लेकिन आज भी उनके दिल में एक मासूम-सा बच्चा है जो बिना किसी भय के सच बोलना जानता है। मुझे विश्वास है कि पाठक उनके इस ग़ज़ल-संग्रह ‘मौजूद’ को भी बड़े प्यार और सम्मान से ग्रहण करेंगे।
—गोपालदास नीरज Rahat sahab mere bade purane dost hain, lagbhag chalis baras se meri aur unki dosti qayam hai. Vo ek bade shayar aur ek sachche insan hain. Sachcha insan use kahta hun, jo achchhaiyon ko hi nahin buraiyon ko bhi pyar kar sake. Mera vyaktitv bhi achchhaiyon aur buraiyon ka namuna hai aur rahat ka bhi. Isiliye to main kahta hun ki farishton ke tute hue khvab ka ek naam rahat hai. Rahat ne jivan aur jagat ke vibhinn pahaluon par jo gazlen kahi hain, vo hindi-urdu ki shayri ke liye ek naya darvaza kholti hain. Vartman parivesh par jo tippni unhonne apni gazlon mein ki hai vo aaj ki rajniti, aaj ki samprdayikta, dharmik pakhand aur paryavran par bade hi marmik bhav se ki hai. Chhoti-badi bahar ki gazal mein unka prtik aur bimb vidyman hai, jo nitant maulik aur advitiy hai. Unke kitne hi she’ra aise hain jo zuban par barbas baithe jate hain. Ne radif, nai bahar, ne mazmun, naya shilp unki gazlon mein jadu ki tarah bikhra hai aur padhne va sunnevale sabhi ke dilon par chha jata hai. Rahat ki shayri tasavvuf ki uchchtam uunchaiyon tak pahunchati hai. Unka ye she’ra mere zehan mein aksar kaundhta rahta hai—Kisne dastak di hai dil par, kaun hai?
Aap to andar hain, bahar kaun hai. . . ?
Bhai rahat ki soch ek sachche insan ki soch hai. Vo yadyapi apni umr se adhed dikhai padte hain lekin aaj bhi unke dil mein ek masum-sa bachcha hai jo bina kisi bhay ke sach bolna janta hai. Mujhe vishvas hai ki pathak unke is gazal-sangrah ‘maujud’ ko bhi bade pyar aur samman se grhan karenge.
—gopaldas niraj

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products