Marxvad Ka Ardhsatya

Regular price Rs. 495
Sale price Rs. 495 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Marxvad Ka Ardhsatya

Marxvad Ka Ardhsatya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अनंत विजय की पुस्तक का शीर्षक ‘मार्क्सवाद का अर्धसत्य' एक बार पाठक को चौंकाएगा। क्षणभर के लिए उसे ठिठक कर यह सोचने पर विवश करेगा कि कहीं यह पुस्तक मार्क्सवादी आलोचना अथवा मार्क्सवादी सिद्धान्तों की कोई विवेचना या उसकी कोई पुनव्र्याख्या स्थापित करने का प्रयास तो नहीं है। मगर पुस्तक में जैसे-जैसे पाठक प्रवेश करता जायेगा उसका भ्रम दूर होता चला जायेगा। अन्त तक आते-आते यह भ्रम उस विश्वास में तब्दील हो जायेगा कि मार्क्सवाद की आड़ में इन दिनों कैसे आपसी हित व स्वार्थ के टकराहटों के चलते व्यक्ति विचारों से ऊपर हो जाता है। कैसे व्यक्तिवादी अन्तर्द्वन्द्वों और दुचित्तेपन के कारण एक मार्क्सवादी का आचरण बदल जाता है। पिछले लगभग एक दशक में मार्क्सवाद से। हिन्दी पट्टी का मोहभंग हुआ है और निजी टकराहटों के चलते मार्क्सवादी बेनकाब हुए हैं, अनंत विजय ने सूक्ष्मता से उन कारकों का विश्लेषण किया है, जिसने मार्क्सवादियों को ऐसे चौराहे पर लाकर खड़ा कर दिया है, जहाँ यह तय कर पाना मुश्किल हो गया है कि विचारधारा बड़ी है या व्यक्ति। व्यक्तिवाद के बहाने अनंत विजय ने मार्क्सवाद के ऊपर जम गयी उस गर्द को हटाने और उसे समझने का प्रयास किया है। ‘मार्क्सवाद का अर्धसत्य' दरअसल व्यक्तिवादी कुण्ठा और वैचारिक दम्भ को सामने लाता है, जो प्रतिबद्धता की आड़ में सामन्ती, जातिवादी और बुर्जुआ मानसिकता को मज़बूत करता है। आज मार्क्सवाद को उसके अनुयायियों ने जिस तरह से वैचारिक लबादे में छटपटाने को मजबूर कर दिया है, यह पुस्तक उसी निर्मम सत्य को सामने लाती है। एक तरह से कहा जाये तो यह पुस्तक इसी अर्धसत्य का मर्सिया है। anant vijay ki pustak ka shirshak ‘marksvad ka ardhsatya ek baar pathak ko chaunkayega. kshanbhar ke liye use thithak kar ye sochne par vivash karega ki kahin ye pustak marksvadi alochna athva marksvadi siddhanton ki koi vivechna ya uski koi punavryakhya sthapit karne ka pryaas to nahin hai. magar pustak mein jaise jaise pathak prvesh karta jayega uska bhram door hota chala jayega. ant tak aate aate ye bhram us vishvas mein tabdil ho jayega ki marksvad ki aaD mein in dinon kaise aapsi hit va svaarth ke takrahton ke chalte vyakti vicharon se uupar ho jata hai. kaise vyaktivadi antardvandvon aur duchittepan ke karan ek marksvadi ka achran badal jata hai. pichhle lagbhag ek dashak mein marksvad se. hindi patti ka mohbhang hua hai aur niji takrahton ke chalte marksvadi benkab hue hain, anant vijay ne sukshmta se un karkon ka vishleshan kiya hai, jisne marksvadiyon ko aise chaurahe par lakar khaDa kar diya hai, jahan ye tay kar pana mushkil ho gaya hai ki vichardhara baDi hai ya vyakti. vyaktivad ke bahane anant vijay ne marksvad ke uupar jam gayi us gard ko hatane aur use samajhne ka pryaas kiya hai. ‘marksvad ka ardhsatya darasal vyaktivadi kuntha aur vaicharik dambh ko samne lata hai, jo pratibaddhta ki aaD mein samanti, jativadi aur burjua manasikta ko mazbut karta hai. aaj marksvad ko uske anuyayiyon ne jis tarah se vaicharik labade mein chhataptane ko majbur kar diya hai, ye pustak usi nirmam satya ko samne lati hai. ek tarah se kaha jaye to ye pustak isi ardhsatya ka marsiya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products