Look Inside
Marxvad
Marxvad
Marxvad
Marxvad

Marxvad

Regular price Rs. 209
Sale price Rs. 209 Regular price Rs. 225
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Marxvad

Marxvad

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यशपाल की मान्यता थी कि भारतीय जनता की असली आज़ादी अंग्रेज़ी राज से मुक्ति तक सीमित नहीं है, असली आज़ादी सामन्ती मूल्यों, तत्त्वों और प्रवृत्तियों की समाप्ति तथा उभरते हुए पूँजीवाद के ख़ात्मे पर ही सम्भव है और इसके लिए उन्हें एक ऐसी विचारधारा की ज़रूरत महसूस होती थी जो इतिहास की संरचना को वैज्ञानिक ढंग से समझाने के साथ-साथ जनसाधारण को समग्र रूपान्तरण के लिए प्रेरित भी कर सके।
मार्क्सवाद उनकी दृष्टि में ऐसी ही सम्पूर्ण विचारधारा थी और यह पुस्तक मार्क्सवाद की भारत के धुर आम आदमी को समझ में आने लायक़ उनकी व्याख्या है। इसमें समाजवादी विचारों की आवश्यकता और विकास-क्रम को सहज और सुबोध भाषा में इस प्रकार प्रस्तुत किया गया है कि साधारण शिक्षित जन भी उन विचारों को समझकर आत्मसात् कर सकें। यह पुस्तक उन लोगों के लिए उपयोगी है जो मार्क्सवाद को समझे बिना ही समाजवादी सपनों में खोए रहते हैं और उन लोगों के लिए एक चुनौती जो इसी तरह बिना उसे समझे, मार्क्सवाद का विरोध करते रहते हैं।
मार्क्सवाद सम्बन्धी यशपाल के चिन्तन का निःसन्देह एक ऐतिहासिक सन्दर्भ भी है, लेकिन यह पुस्तक आज भी उतनी ही सार्थक और प्रासंगिक है जितनी अपने प्रकाशन के समय थी। मार्क्सवाद सम्बन्धी उनकी जानकारी और भारतीय समाज के जटिल यथार्थ की उनकी विश्वसनीय समझदारी के लिहाज़ से यह पुस्तक अप्रतिम है। Yashpal ki manyta thi ki bhartiy janta ki asli aazadi angrezi raaj se mukti tak simit nahin hai, asli aazadi samanti mulyon, tattvon aur prvrittiyon ki samapti tatha ubharte hue punjivad ke khatme par hi sambhav hai aur iske liye unhen ek aisi vichardhara ki zarurat mahsus hoti thi jo itihas ki sanrachna ko vaigyanik dhang se samjhane ke sath-sath jansadharan ko samagr rupantran ke liye prerit bhi kar sake. Marksvad unki drishti mein aisi hi sampurn vichardhara thi aur ye pustak marksvad ki bharat ke dhur aam aadmi ko samajh mein aane layaq unki vyakhya hai. Ismen samajvadi vicharon ki aavashyakta aur vikas-kram ko sahaj aur subodh bhasha mein is prkar prastut kiya gaya hai ki sadharan shikshit jan bhi un vicharon ko samajhkar aatmsat kar saken. Ye pustak un logon ke liye upyogi hai jo marksvad ko samjhe bina hi samajvadi sapnon mein khoe rahte hain aur un logon ke liye ek chunauti jo isi tarah bina use samjhe, marksvad ka virodh karte rahte hain.
Marksvad sambandhi yashpal ke chintan ka niःsandeh ek aitihasik sandarbh bhi hai, lekin ye pustak aaj bhi utni hi sarthak aur prasangik hai jitni apne prkashan ke samay thi. Marksvad sambandhi unki jankari aur bhartiy samaj ke jatil yatharth ki unki vishvasniy samajhdari ke lihaz se ye pustak aprtim hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products