BackBack

Marusthal Tatha Anya Kahaniyan

Jaishankar

Rs. 100

“सारे दुःख एक तरह की अवधारणाएँ हैं। हम सब अपनी अवधारणाओं की वजह से दुःख भोगते हैं।” यह एक वाक्य जयशंकर की कहानियों के बीच बिजली की कौंध की तरह चमक जाता है—एक तरह से उनकी लगभग सब कहानियों को चरितार्थ करता हुआ। धारणाएँ सच या झूठ नहीं होतीं—वे आत्म-वंचनाएँ... Read More

Description

“सारे दुःख एक तरह की अवधारणाएँ हैं। हम सब अपनी अवधारणाओं की वजह से दुःख भोगते हैं।” यह एक वाक्य जयशंकर की कहानियों के बीच बिजली की कौंध की तरह चमक जाता है—एक तरह से उनकी लगभग सब कहानियों को चरितार्थ करता हुआ।
धारणाएँ सच या झूठ नहीं होतीं—वे आत्म-वंचनाएँ होती हैं, मनुष्य को अपने अनूठे सत्य से भटकाकर एक ‘औसत’ यथार्थ में अवमूल्‍यित करती हुईं। जयशंकर के पात्र जब इस सत्य से अवगत होते हैं, तब तक अपने ‘सत्य’ को जीने का समय गुज़र चुका होता है। वह गुज़र जाता है, लेकिन अपने पीछे अतृप्त लालसा की कोई किरच छोड़ जाता है। जयशंकर के पात्र अकेले रहते हुए भी एक भरा-पूरा सम्पूर्ण जीवन की ललक लिए रहते हैं।
छोटे जीवन की विराट अभिलाषाएँ, जो लहराने से पहले ही मुरझाने लगती हैं। शायद इसीलिए जयशंकर का विषण्ण रूपक ‘मरुस्थल’ है, जिसकी रेत इन कहानियों में हर जगह उड़ती दिखाई देती है—वे चाहे अस्पताल के गलियारे हों या सिमिट्री के मैदान या चर्च की वाटिकाएँ। लेखक ने अपनी अन्तरंग दृष्टि और निस्संग सहृदयता से हिन्दुस्तानी क़स्बाती जीवन की घुटन, ताप, झुलसन की परतों को उघाड़ा है, जिनके नीचे विकलांग आदर्शों के भग्न अवशेष दबे हैं।
संग्रह की एक कहानी में एक महिला ने अपने जीवन के सर्वश्रेष्ठ वर्ष विनोबा जी के साथ बिताए हैं, किन्तु अस्पताल में रहते हुए अपने अन्तिम दिनों में सहसा उसका सामना ‘वासनाओं’ से होता है, जिन्हें वह अपने भीतर दबाती आई थी। प्रेम, सेक्स, परिवार—क्या इनके अभाव की क्षतिपूर्ति कोई भी आदर्श कर सकता है? आदर्श और आकांक्षाओं के बीच की अँधेरी खाई को क्या क्लासिकल संगीत, रूसी उपन्यास, उत्कृष्ट फ़िल्में पाट सकती हैं? क्या दूसरों के स्वप्न हमारे अपने जीवन की रिक्तता को रत्ती-भर भर सकते हैं? जयशंकर की हर कहानी में ये प्रश्न तीर की तरह बिंधे हैं।
“जीवन ने मुझे सवाल ही सवाल दिए उत्तर एक भी नहीं।” जयशंकर का एक पात्र अपने उत्पीड़ित क्षण में कहता है। हमारी दुनिया में उत्तरों की कमी नहीं हैं, लेकिन ‘सही जीवन क्या है?’ यह प्रश्न हमेशा अनुत्तरित रह जाता है...जयशंकर की ये कहानियाँ जीवन के इस 'अनुत्तरित प्रदेश' के सूने विस्तार में प्रतिध्वनित होते इस प्रश्न को शब्द देने का प्रयास करती हैं।
—निर्मल वर्मा “sare duःkha ek tarah ki avdharnayen hain. Hum sab apni avdharnaon ki vajah se duःkha bhogte hain. ” ye ek vakya jayshankar ki kahaniyon ke bich bijli ki kaundh ki tarah chamak jata hai—ek tarah se unki lagbhag sab kahaniyon ko charitarth karta hua. Dharnayen sach ya jhuth nahin hotin—ve aatm-vanchnaen hoti hain, manushya ko apne anuthe satya se bhatkakar ek ‘ausat’ yatharth mein avmul‍yit karti huin. Jayshankar ke patr jab is satya se avgat hote hain, tab tak apne ‘satya’ ko jine ka samay guzar chuka hota hai. Vah guzar jata hai, lekin apne pichhe atript lalsa ki koi kirach chhod jata hai. Jayshankar ke patr akele rahte hue bhi ek bhara-pura sampurn jivan ki lalak liye rahte hain.
Chhote jivan ki virat abhilashayen, jo lahrane se pahle hi murjhane lagti hain. Shayad isiliye jayshankar ka vishann rupak ‘marusthal’ hai, jiski ret in kahaniyon mein har jagah udti dikhai deti hai—ve chahe asptal ke galiyare hon ya simitri ke maidan ya charch ki vatikayen. Lekhak ne apni antrang drishti aur nissang sahridayta se hindustani qasbati jivan ki ghutan, taap, jhulsan ki parton ko ughada hai, jinke niche viklang aadarshon ke bhagn avshesh dabe hain.
Sangrah ki ek kahani mein ek mahila ne apne jivan ke sarvashreshth varsh vinoba ji ke saath bitaye hain, kintu asptal mein rahte hue apne antim dinon mein sahsa uska samna ‘vasnaon’ se hota hai, jinhen vah apne bhitar dabati aai thi. Prem, seks, parivar—kya inke abhav ki kshtipurti koi bhi aadarsh kar sakta hai? aadarsh aur aakankshaon ke bich ki andheri khai ko kya klasikal sangit, rusi upanyas, utkrisht filmen paat sakti hain? kya dusron ke svapn hamare apne jivan ki riktta ko ratti-bhar bhar sakte hain? jayshankar ki har kahani mein ye prashn tir ki tarah bindhe hain.
“jivan ne mujhe saval hi saval diye uttar ek bhi nahin. ” jayshankar ka ek patr apne utpidit kshan mein kahta hai. Hamari duniya mein uttron ki kami nahin hain, lekin ‘sahi jivan kya hai?’ ye prashn hamesha anuttrit rah jata hai. . . Jayshankar ki ye kahaniyan jivan ke is anuttrit prdesh ke sune vistar mein prtidhvnit hote is prashn ko shabd dene ka pryas karti hain.
—nirmal varma