BackBack
-11%

Marfat Dilli

Krishna Sobti

Rs. 295 Rs. 263

दिल्ली से कृष्णा सोबती का रिश्ता बचपन से है। आज़ादी से पूर्व उनका वेतनभोगी परिवार साल के छह माह शिमला और छह माह दिल्ली में निवास करता था। अपने किशोर दिनों में वे दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हॉकी खेलती रही हैं। बँटवारे के बाद लाहौर से आकर वे स्थायी... Read More

BlackBlack
Description

दिल्ली से कृष्णा सोबती का रिश्ता बचपन से है। आज़ादी से पूर्व उनका वेतनभोगी परिवार साल के छह माह शिमला और छह माह दिल्ली में निवास करता था। अपने किशोर दिनों में वे दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हॉकी खेलती रही हैं। बँटवारे के बाद लाहौर से आकर वे स्थायी तौर पर दिल्ली की हो गईं। दिल्ली का नागरिक होने पर उन्हें गर्व भी है और इस शहर से प्रेम भी। यहाँ के इतिहास और भूगोल को वे बहुत गहरे से जानती रही हैं। दिल्ली के तीन सौ से ज़्यादा गाँवों को और उनके बदलने की प्रक्रिया को उन्होंने पारिवारिक भाव से देखा है। हर गाँव को उन्होंने पैदल घूमा है।
‘मार्फ़त दिल्ली’ में उन्होंने आज़ादी बाद के समय की कुछ सामाजिक, राजनीतिक और साहित्यिक छवियों को अंकित किया है। यह वह समय था जब ब्रिटिश सरकार के पराए अनुशासन से निकलकर दिल्ली अपनी औपनिवेशिक आदतों और देसी जीवन-शैली के बीच कुछ नया गढ़ रही थी। सड़कों पर शरणार्थियों की चोट खाई टोलियाँ अपने लिए छत और रोज़ी-रोटी तलाशती घूमती थीं। और देश की नई-नई सरकार अपनी ज़िम्मेदारियों से दो-चार हो रही थी।
उस विराट परिदृश्य में साहित्य समाज भी नई आँखों से देश और दुनिया को देख रहा था। लेखकों-कवियों की एक नई पीढ़ी उभर रही थी। लोग मिलते थे। बैठते थे। बहस करते थे और अपने रचनात्मक दायित्वों को ताज़ा बनाए रखते थे। बैठने-बतियाने की जगहें, काफी हाउस और रेस्तराँ साथियों की-सी भूमिका निभाते थे। मंडी हाउस और कनाट प्लेस नए विचारों और विचारधाराओं की ऊष्मा का प्रसार करते थे।
कृष्णा जी ने उस पूरे समय को सघन नागरिक भाव से जिया। भारतीय इतिहास की कुछ निर्णायक घटनाओं को उन्होंने उनके बीच खड़े होकर देखा। आज़ादी के पहले उत्सव का उल्लास और उसमें तैरती विभाजन की सिसकियों को उन्होंने छूकर महसूस किया। बापू की अन्तिम यात्रा में लाखों आँखों की नमी से वे भीगीं। दिल्ली में हिन्दी को एक बड़ी भाषा के रूप में उभरते हुए भी देखा। इन पन्नों में उन्होंने उस दौर की कुछ यादों को ताज़ा किया है। Dilli se krishna sobti ka rishta bachpan se hai. Aazadi se purv unka vetanbhogi parivar saal ke chhah maah shimla aur chhah maah dilli mein nivas karta tha. Apne kishor dinon mein ve dilli ke talaktora stediyam mein hauki khelti rahi hain. Bantvare ke baad lahaur se aakar ve sthayi taur par dilli ki ho gain. Dilli ka nagrik hone par unhen garv bhi hai aur is shahar se prem bhi. Yahan ke itihas aur bhugol ko ve bahut gahre se janti rahi hain. Dilli ke tin sau se zyada ganvon ko aur unke badalne ki prakriya ko unhonne parivarik bhav se dekha hai. Har ganv ko unhonne paidal ghuma hai. ‘marfat dilli’ mein unhonne aazadi baad ke samay ki kuchh samajik, rajnitik aur sahityik chhaviyon ko ankit kiya hai. Ye vah samay tha jab british sarkar ke paraye anushasan se nikalkar dilli apni aupaniveshik aadton aur desi jivan-shaili ke bich kuchh naya gadh rahi thi. Sadkon par sharnarthiyon ki chot khai toliyan apne liye chhat aur rozi-roti talashti ghumti thin. Aur desh ki nai-nai sarkar apni zimmedariyon se do-char ho rahi thi.
Us virat paridrishya mein sahitya samaj bhi nai aankhon se desh aur duniya ko dekh raha tha. Lekhkon-kaviyon ki ek nai pidhi ubhar rahi thi. Log milte the. Baithte the. Bahas karte the aur apne rachnatmak dayitvon ko taza banaye rakhte the. Baithne-batiyane ki jaghen, kaphi haus aur restran sathiyon ki-si bhumika nibhate the. Mandi haus aur kanat ples ne vicharon aur vichardharaon ki uushma ka prsar karte the.
Krishna ji ne us pure samay ko saghan nagrik bhav se jiya. Bhartiy itihas ki kuchh nirnayak ghatnaon ko unhonne unke bich khade hokar dekha. Aazadi ke pahle utsav ka ullas aur usmen tairti vibhajan ki sisakiyon ko unhonne chhukar mahsus kiya. Bapu ki antim yatra mein lakhon aankhon ki nami se ve bhigin. Dilli mein hindi ko ek badi bhasha ke rup mein ubharte hue bhi dekha. In pannon mein unhonne us daur ki kuchh yadon ko taza kiya hai.