BackBack
-11%

Marang Goda Neelkanth Hua

Mahua Maji

Rs. 595 Rs. 530

महुआ माजी का उपन्यास ‘मरंग गोड़ा नीलकंठ हुआ’ अपने नए विषय एवं लेखकीय सरोकारों के चलते इधर के उपन्यासों में एक उल्लेखनीय पहलक़दमी है। जब हिन्दी की मुख्यधारा के लेखक हाशिए के समाज को लेकर लगभग उदासीन हों, तब आदिवासियों की दशा, दुर्दशा और जीवन संघर्ष पर केन्द्रित यह उपन्यास... Read More

BlackBlack
Description

महुआ माजी का उपन्यास ‘मरंग गोड़ा नीलकंठ हुआ’ अपने नए विषय एवं लेखकीय सरोकारों के चलते इधर के उपन्यासों में एक उल्लेखनीय पहलक़दमी है। जब हिन्दी की मुख्यधारा के लेखक हाशिए के समाज को लेकर लगभग उदासीन हों, तब आदिवासियों की दशा, दुर्दशा और जीवन संघर्ष पर केन्द्रित यह उपन्यास एक बड़ी रिक्ति की भरपाई है।
इस उपन्यास में महुआ माजी यूरेनियम की तलाश से जुड़ी जिस सम्पूर्ण प्रक्रिया को उजागर करती हैं, वह हिन्दी उपन्यास का जोखिम के इलाक़े में प्रवेश है। महुआ माजी ने गहरे शोध, सर्वेक्षण और समाजशास्त्रीय दृष्टि का सहारा लेकर इस उपन्यास के माध्यम से एक ज़रूरी हस्तक्षेप किया है।
उपन्यास का केन्द्रीय पात्र सगेन प्रतिरोध की स्थानिकता को बरकरार रखते हुए विकिरणविरोधी वैश्विक आन्दोलन के साथ भी संवाद बनाता है। हिरोशिमा की दहशत और चेरनोबिल व फुकुशिमा सरीखे हादसे उसकी चेतना को लगातार प्रतिरोधी दिशा देते हैं। अच्छा यह भी है कि यह सबकुछ मानवीय सम्बन्धों की ऊष्मा एवं अन्तर्द्वन्द्व में घुल-मिलकर प्रस्तुत हुआ है। सचमुच उपन्यास में वर्णित बहुत से तथ्य व मुद्दे अभी तक गम्भीर चर्चा का विषय नहीं बन सके हैं। इस रूप में यह उपन्यास एक नई भूमिका के रूप में भी प्रस्तुत है।
—वीरेन्द्र यादव Mahua maji ka upanyas ‘marang goda nilkanth hua’ apne ne vishay evan lekhkiy sarokaron ke chalte idhar ke upanyason mein ek ullekhniy pahalaqadmi hai. Jab hindi ki mukhydhara ke lekhak hashiye ke samaj ko lekar lagbhag udasin hon, tab aadivasiyon ki dasha, durdsha aur jivan sangharsh par kendrit ye upanyas ek badi rikti ki bharpai hai. Is upanyas mein mahua maji yureniyam ki talash se judi jis sampurn prakriya ko ujagar karti hain, vah hindi upanyas ka jokhim ke ilaqe mein prvesh hai. Mahua maji ne gahre shodh, sarvekshan aur samajshastriy drishti ka sahara lekar is upanyas ke madhyam se ek zaruri hastakshep kiya hai.
Upanyas ka kendriy patr sagen pratirodh ki sthanikta ko barakrar rakhte hue vikiranavirodhi vaishvik aandolan ke saath bhi sanvad banata hai. Hiroshima ki dahshat aur chernobil va phukushima sarikhe hadse uski chetna ko lagatar pratirodhi disha dete hain. Achchha ye bhi hai ki ye sabkuchh manviy sambandhon ki uushma evan antardvandv mein ghul-milkar prastut hua hai. Sachmuch upanyas mein varnit bahut se tathya va mudde abhi tak gambhir charcha ka vishay nahin ban sake hain. Is rup mein ye upanyas ek nai bhumika ke rup mein bhi prastut hai.
—virendr yadav