Look Inside
Marang Goda Neelkanth Hua
Marang Goda Neelkanth Hua
Marang Goda Neelkanth Hua
Marang Goda Neelkanth Hua

Marang Goda Neelkanth Hua

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Marang Goda Neelkanth Hua

Marang Goda Neelkanth Hua

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महुआ माजी का उपन्यास ‘मरंग गोड़ा नीलकंठ हुआ’ अपने नए विषय एवं लेखकीय सरोकारों के चलते इधर के उपन्यासों में एक उल्लेखनीय पहलक़दमी है। जब हिन्दी की मुख्यधारा के लेखक हाशिए के समाज को लेकर लगभग उदासीन हों, तब आदिवासियों की दशा, दुर्दशा और जीवन संघर्ष पर केन्द्रित यह उपन्यास एक बड़ी रिक्ति की भरपाई है।
इस उपन्यास में महुआ माजी यूरेनियम की तलाश से जुड़ी जिस सम्पूर्ण प्रक्रिया को उजागर करती हैं, वह हिन्दी उपन्यास का जोखिम के इलाक़े में प्रवेश है। महुआ माजी ने गहरे शोध, सर्वेक्षण और समाजशास्त्रीय दृष्टि का सहारा लेकर इस उपन्यास के माध्यम से एक ज़रूरी हस्तक्षेप किया है।
उपन्यास का केन्द्रीय पात्र सगेन प्रतिरोध की स्थानिकता को बरकरार रखते हुए विकिरणविरोधी वैश्विक आन्दोलन के साथ भी संवाद बनाता है। हिरोशिमा की दहशत और चेरनोबिल व फुकुशिमा सरीखे हादसे उसकी चेतना को लगातार प्रतिरोधी दिशा देते हैं। अच्छा यह भी है कि यह सबकुछ मानवीय सम्बन्धों की ऊष्मा एवं अन्तर्द्वन्द्व में घुल-मिलकर प्रस्तुत हुआ है। सचमुच उपन्यास में वर्णित बहुत से तथ्य व मुद्दे अभी तक गम्भीर चर्चा का विषय नहीं बन सके हैं। इस रूप में यह उपन्यास एक नई भूमिका के रूप में भी प्रस्तुत है।
—वीरेन्द्र यादव Mahua maji ka upanyas ‘marang goda nilkanth hua’ apne ne vishay evan lekhkiy sarokaron ke chalte idhar ke upanyason mein ek ullekhniy pahalaqadmi hai. Jab hindi ki mukhydhara ke lekhak hashiye ke samaj ko lekar lagbhag udasin hon, tab aadivasiyon ki dasha, durdsha aur jivan sangharsh par kendrit ye upanyas ek badi rikti ki bharpai hai. Is upanyas mein mahua maji yureniyam ki talash se judi jis sampurn prakriya ko ujagar karti hain, vah hindi upanyas ka jokhim ke ilaqe mein prvesh hai. Mahua maji ne gahre shodh, sarvekshan aur samajshastriy drishti ka sahara lekar is upanyas ke madhyam se ek zaruri hastakshep kiya hai.
Upanyas ka kendriy patr sagen pratirodh ki sthanikta ko barakrar rakhte hue vikiranavirodhi vaishvik aandolan ke saath bhi sanvad banata hai. Hiroshima ki dahshat aur chernobil va phukushima sarikhe hadse uski chetna ko lagatar pratirodhi disha dete hain. Achchha ye bhi hai ki ye sabkuchh manviy sambandhon ki uushma evan antardvandv mein ghul-milkar prastut hua hai. Sachmuch upanyas mein varnit bahut se tathya va mudde abhi tak gambhir charcha ka vishay nahin ban sake hain. Is rup mein ye upanyas ek nai bhumika ke rup mein bhi prastut hai.
—virendr yadav

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products