BackBack
-11%

Manushya Aur Paryavaran

Irfan Habib

Rs. 595 Rs. 530

विगत दशकों में पारिस्थितिकी और उससे जुड़े मसलों के प्रति विशेष रुचि दिखाई पड़ी है, ख़ास तौर पर जलवायु-परिवर्तन को लेकर होनेवाली बहसों के सन्दर्भ में इस तरफ़ सुधीजन का ज़्यादा ध्यान गया है। लेकिन पारिस्थितिकी का विमर्श सिर्फ़ जलवायु तक सीमित नहीं है। इसमें जीव-जन्तुओं तथा पेड़-पौधों के साथ... Read More

BlackBlack
Description

विगत दशकों में पारिस्थितिकी और उससे जुड़े मसलों के प्रति विशेष रुचि दिखाई पड़ी है, ख़ास तौर पर जलवायु-परिवर्तन को लेकर होनेवाली बहसों के सन्दर्भ में इस तरफ़ सुधीजन का ज़्यादा ध्यान गया है। लेकिन पारिस्थितिकी का विमर्श सिर्फ़ जलवायु तक सीमित नहीं है। इसमें जीव-जन्तुओं तथा पेड़-पौधों के साथ मनुष्य के रिश्तों के अलावा मनुष्य जाति के सम्मुख प्रकृति द्वारा प्रस्तुत चुनौतियों का अध्ययन भी शामिल होता है। इसी व्यापक परिप्रेक्ष्य के साथ इस पुस्तक में पारिस्थितिकी के इतिहास को देखा-समझा गया है।
‘भारत का लोक इतिहास’ परियोजना के तहत प्रकाशित यह पुस्तक भी इस श्रृंखला की अन्य कड़ियों की तरह गहन अध्ययन और प्रामाणिक सामग्री पर आधारित है। मूल स्रोतों के उद्धरणों तथा पारिस्थितिकी, पर्यावरण विज्ञान, वन विज्ञान तथा प्राकृतिक इतिहास पर विशेष टिप्पणियों से समृद्ध इस पुस्तक में विषय से सम्बन्धित अन्य उपयोगी ग्रन्थों का उल्लेख भी किया गया है जिससे पाठक और अधिक लाभान्वित होंगे।
सूचनाओं की सटीकता को बरकरार रखते हुए, पुस्तक को अतिरिक्त तकनीकी विवरणों से मुक्त रखा गया है ताकि इतिहास के छात्रों के अलावा यह सामान्य पाठकों के लिए भी रुचिकर सिद्ध हो। Vigat dashkon mein paristhitiki aur usse jude maslon ke prati vishesh ruchi dikhai padi hai, khas taur par jalvayu-parivartan ko lekar honevali bahson ke sandarbh mein is taraf sudhijan ka zyada dhyan gaya hai. Lekin paristhitiki ka vimarsh sirf jalvayu tak simit nahin hai. Ismen jiv-jantuon tatha ped-paudhon ke saath manushya ke rishton ke alava manushya jati ke sammukh prkriti dvara prastut chunautiyon ka adhyyan bhi shamil hota hai. Isi vyapak pariprekshya ke saath is pustak mein paristhitiki ke itihas ko dekha-samjha gaya hai. ‘bharat ka lok itihas’ pariyojna ke tahat prkashit ye pustak bhi is shrrinkhla ki anya kadiyon ki tarah gahan adhyyan aur pramanik samagri par aadharit hai. Mul sroton ke uddharnon tatha paristhitiki, paryavran vigyan, van vigyan tatha prakritik itihas par vishesh tippaniyon se samriddh is pustak mein vishay se sambandhit anya upyogi granthon ka ullekh bhi kiya gaya hai jisse pathak aur adhik labhanvit honge.
Suchnaon ki satikta ko barakrar rakhte hue, pustak ko atirikt takniki vivarnon se mukt rakha gaya hai taki itihas ke chhatron ke alava ye samanya pathkon ke liye bhi ruchikar siddh ho.