Manto : Pandrah Kahaniyan (Hindi)

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Manto : Pandrah Kahaniyan (Hindi)

Manto : Pandrah Kahaniyan (Hindi)

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘अगर आप मेरी कहानियाँ बरदाश्त नहीं कर सकते, तो दरअसल ज़माना ही नाक़ाबिले-बरदाश्त है।’ यह कहना था मंटो का जो अपनी कहानियों में वह लिखते थे जो सब आवरणों को हटाने के बाद ज़माने के चेहरे पर नज़र आता है।
उन्होंने मज़लूमों, ग़रीब-गुरबा और उन औरतों की कहानियाँ लिखीं जिन्हें समाज ने हाशिए पर धकेलकर छोड़ दिया था। उन्होंने उन भावनाओं को लेकर भी कहानियाँ लिखीं जिन्हें सफ़ेदपोश समाज खुली रोशनी में स्वीकार नहीं कर पाता। उन्होंने ऐसे-ऐसे अहसासात को ज़बान बख़्शी जिन्हें हम कभी अपनी चालाकी और कभी अल्फ़ाज़ की कमी की वजह से यूँ ही ग़ायब हो जाने देते हैं।
इसलिए आज भी उनकी कहानियाँ हमें अपनी कहानियाँ लगती हैं; वे अपने वक़्त से इतना आगे चल रहे थे कि आज भी हमें अपने आगे ही चलते दिखाई देते हैं।
यह संकलन उनकी कुछ बहुत चर्चित और कुछ ऐसी कहानियों को लेकर बनाया गया है जिनका ज़िक्र बहुत ज़्यादा नहीं होता। संकलन किया है जानी-पहचानी सिने-अभिनेत्री और निर्देशक नंदिता दास ने। उनकी चर्चित फ़िल्म ‘मंटो’ के साथ-साथ प्रकाशित यह किताब क़िस्सागो मंटो की पूरी शख़्स‌ियत को सामने ले आती है। बकौल नंदिता : ‘उनकी कहानियों के पात्र अक्सर वे लोग होते हैं जो समाज के कोनों में रहते हैं और औरतों के लिए सहानुभूति भरी नज़र रखते हैं। यही बात उन्हें और लेखकों से अलग करती है।’ ‘agar aap meri kahaniyan bardasht nahin kar sakte, to darasal zamana hi naqabile-bardasht hai. ’ ye kahna tha manto ka jo apni kahaniyon mein vah likhte the jo sab aavarnon ko hatane ke baad zamane ke chehre par nazar aata hai. Unhonne mazlumon, garib-gurba aur un aurton ki kahaniyan likhin jinhen samaj ne hashiye par dhakelkar chhod diya tha. Unhonne un bhavnaon ko lekar bhi kahaniyan likhin jinhen safedposh samaj khuli roshni mein svikar nahin kar pata. Unhonne aise-aise ahsasat ko zaban bakhshi jinhen hum kabhi apni chalaki aur kabhi alfaz ki kami ki vajah se yun hi gayab ho jane dete hain.
Isaliye aaj bhi unki kahaniyan hamein apni kahaniyan lagti hain; ve apne vaqt se itna aage chal rahe the ki aaj bhi hamein apne aage hi chalte dikhai dete hain.
Ye sanklan unki kuchh bahut charchit aur kuchh aisi kahaniyon ko lekar banaya gaya hai jinka zikr bahut zyada nahin hota. Sanklan kiya hai jani-pahchani sine-abhinetri aur nirdeshak nandita daas ne. Unki charchit film ‘manto’ ke sath-sath prkashit ye kitab qissago manto ki puri shakhs‌iyat ko samne le aati hai. Bakaul nandita : ‘unki kahaniyon ke patr aksar ve log hote hain jo samaj ke konon mein rahte hain aur aurton ke liye sahanubhuti bhari nazar rakhte hain. Yahi baat unhen aur lekhkon se alag karti hai. ’

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products