Manikarnika

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Manikarnika

Manikarnika

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘मणिकर्णिका’ डॉ. तुलसी राम की आत्मकथा का दूसरा खंड है। पहला खंड ‘मुर्दहिया’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ था। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं कि ‘मुर्दहिया’ को हिन्‍दी जगत की महत्तपूर्ण घटना के रूप में स्वीकार किया गया। साहित्य और समाज विज्ञान से जुड़े पाठकों, आलोचकों व शोधकर्ताओं ने इस रचना के विभिन्न पक्षों को रेखांकित किया। शीर्षस्थ आलोचक डॉ. नामवर सिंह के अनुसार ग्रामीण जीवन का जो जीवन्‍त वर्णन ‘मुर्दहिया’ में है, वैसा प्रेमचन्‍द की रचनाओ में भी नहीं मिलता।
‘मणिकर्णिका’ में ‘मुर्दहिया’ के आगे का जीवन है। आज़मगढ़ से निकलकर लेखक ने क़रीब 10 साल बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में बिताए। बनारस में आने पर जीवन के अन्‍त की प्रतीक ‘मणिकर्णिका’ से ही लेखक का जैसे नया जीवन शुरू हुआ। लेखक के शब्दों में ‘गंगा के घाटों तथा बनारस के मन्दिरों से जो यात्रा शुरू हुई थी, अन्ततोगत्वा वह कम्युनिस्ट पार्टी के दफ़्तर में समाप्त हो गई। मार्क्सवाद ने मुझे विश्व-दृष्टि प्रदान की, जिसके चलते मेरा व्यक्तिगत दुःख दुनिया के दुःख में मिलकर अपना अस्तित्व खो बैठा। मुर्दहिया में जो विचार सुप्त अवस्था में थे, वे ‘मणिकर्णिका’ में विकसित हुए।’
लेखक ने अपने जीवनानुभवों का वर्णन करते हुए उस ख़ास समय को भी विश्लेषित किया है जिसके भीतर प्रवृत्तियों का सघन संघर्ष चल रहा था। बनारस जैसे इस कृति के पृष्ठों पर जीवन्‍त हो उठा है। इस स्मृति-आख्यान में कलकत्ता भी है, अनेक वैचारिक सन्‍दर्भों के साथ।
‘मणिकर्णिका; डॉ. तुलसी राम के जीवन-संघर्ष की ऐसी महागाथा है जिसमें भारतीय समाज की अनेक संरचनाएँ स्वतः उद्घाटित होती जाती हैं। ‘manikarnika’ dau. Tulsi raam ki aatmaktha ka dusra khand hai. Pahla khand ‘murdahiya’ shirshak se prkashit hua tha. Ye kahna atishyokti nahin ki ‘murdahiya’ ko hin‍di jagat ki mahattpurn ghatna ke rup mein svikar kiya gaya. Sahitya aur samaj vigyan se jude pathkon, aalochkon va shodhkartaon ne is rachna ke vibhinn pakshon ko rekhankit kiya. Shirshasth aalochak dau. Namvar sinh ke anusar gramin jivan ka jo jivan‍ta varnan ‘murdahiya’ mein hai, vaisa premchan‍da ki rachnao mein bhi nahin milta. ‘manikarnika’ mein ‘murdahiya’ ke aage ka jivan hai. Aazamgadh se nikalkar lekhak ne qarib 10 saal banaras hindu yunivarsiti mein bitaye. Banaras mein aane par jivan ke an‍ta ki prtik ‘manikarnika’ se hi lekhak ka jaise naya jivan shuru hua. Lekhak ke shabdon mein ‘ganga ke ghaton tatha banaras ke mandiron se jo yatra shuru hui thi, anttogatva vah kamyunist parti ke daftar mein samapt ho gai. Marksvad ne mujhe vishv-drishti prdan ki, jiske chalte mera vyaktigat duःkha duniya ke duःkha mein milkar apna astitv kho baitha. Murdahiya mein jo vichar supt avastha mein the, ve ‘manikarnika’ mein viksit hue. ’
Lekhak ne apne jivnanubhvon ka varnan karte hue us khas samay ko bhi vishleshit kiya hai jiske bhitar prvrittiyon ka saghan sangharsh chal raha tha. Banaras jaise is kriti ke prishthon par jivan‍ta ho utha hai. Is smriti-akhyan mein kalkatta bhi hai, anek vaicharik san‍darbhon ke saath.
‘manikarnika; dau. Tulsi raam ke jivan-sangharsh ki aisi mahagatha hai jismen bhartiy samaj ki anek sanrachnayen svatः udghatit hoti jati hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products