BackBack

Manak Hindi Aur Haryanavi Ka Vyatireki Adhyayan

Prof. Naresh Mishra

Rs. 695.00

“हरियाणवी हिंदी की प्रमुख बोली है। प्रयोग संदर्भ में सशक्त भाषा है। हरियाणा से भिन्न प्रदेश के लोगों को लगता है कि पूरे प्रदेश की हरियाणवी का एक ही स्वरूप है, किंतु यहाँ केंद्रीय, कौरवी, ब्रज, बागड़ी, मेवाती, अहीरवाटी और अंबालवी हरियाणवी रूप सहजता में प्रयुक्त होते हैं। व्यावहारिक प्रयोग... Read More

BlackBlack
Description
“हरियाणवी हिंदी की प्रमुख बोली है। प्रयोग संदर्भ में सशक्त भाषा है। हरियाणा से भिन्न प्रदेश के लोगों को लगता है कि पूरे प्रदेश की हरियाणवी का एक ही स्वरूप है, किंतु यहाँ केंद्रीय, कौरवी, ब्रज, बागड़ी, मेवाती, अहीरवाटी और अंबालवी हरियाणवी रूप सहजता में प्रयुक्त होते हैं। व्यावहारिक प्रयोग के व्यतिरेक को रेखांकन के लिए उच्चारित स्वरूप पर गंभीरता से चिंतन की अपेक्षा होती है और ऐसा ही किया है। ‘मानक हिंदी और हरियाणवी व्यतिरेकी अध्ययन’ में मानक हिंदी से हरियाणवी के विविध रूपों के व्यतिरेक का विश्लेषण कर दोनों की विशेषताओं के साथ स्वभाषा बोली और भिन्न भाषा शिक्षण का दिग्दर्शन कराने का प्रयास किया है।”