BackBack

Main Tumse Kuchh Kahna Chahati Hun

Alice Munro, Tr. Anand

Rs. 550

“प्रतिभा का शानदार नमूना...लेखिका की कला का चमत्कार देखकर पाठकों के मुँह से बरबस वाह-वाह निकल पड़ती है। एलिस मनरो हमारी आँखों के सामने ही जीवन की किसी साधारण घटना को एक ऐसे रत्न में परिवर्तित कर देती हैं जो हमें चकाचौंध कर देता है।" —हैमिल्टन स्पेक्टेटर दैनिक “प्रेम, विस्मय,... Read More

readsample_tab

“प्रतिभा का शानदार नमूना...लेखिका की कला का चमत्कार देखकर पाठकों के मुँह से बरबस वाह-वाह निकल पड़ती है। एलिस मनरो हमारी आँखों के सामने ही जीवन की किसी साधारण घटना को एक ऐसे रत्न में परिवर्तित कर देती हैं जो हमें चकाचौंध कर देता है।"
—हैमिल्टन स्पेक्टेटर दैनिक
“प्रेम, विस्मय, भय से सराबोर यह कहानियाँ मंत्रमुग्ध कर देती हैं...भरपूर प्रतिभा और विशाल पर्स्पेक्टिव की लेखिका।”
—लॉस ऐंजल्स टाइम्स
“विश्व के अग्रणी समकालीन कहानी लेखकों में गणना किए जाने के लिए एलिस मनरो का
ज़ोरदार दावा।”
—न्यूयॉर्क टाइम्स
“नारीत्व के विभिन्न पहलुओं का अनूठा अन्वेषण...आज के लेखकों में इससे अधिक
ईमानदार, संवेदनशील, भरपूर, हृदयस्पर्शी प्रेरणा का उदाहरण मिल पाना कठिन होगा।”
—मिज पत्रिका
“हमारे युग के महानतम कहानी लेखकों में से एक।”
—ग्लोब एंड मेल “pratibha ka shandar namuna. . . Lekhika ki kala ka chamatkar dekhkar pathkon ke munh se barbas vah-vah nikal padti hai. Elis manro hamari aankhon ke samne hi jivan ki kisi sadharan ghatna ko ek aise ratn mein parivartit kar deti hain jo hamein chakachaundh kar deta hai. "—haimiltan spektetar dainik
“prem, vismay, bhay se sarabor ye kahaniyan mantrmugdh kar deti hain. . . Bharpur pratibha aur vishal parspektiv ki lekhika. ”
—laus ainjals taims
“vishv ke agrni samkalin kahani lekhkon mein ganna kiye jane ke liye elis manro ka
Zordar dava. ”
—nyuyaurk taims
“naritv ke vibhinn pahaluon ka anutha anveshan. . . Aaj ke lekhkon mein isse adhik
Iimandar, sanvedanshil, bharpur, hridyasparshi prerna ka udahran mil pana kathin hoga. ”
—mij patrika
“hamare yug ke mahantam kahani lekhkon mein se ek. ”
—glob end mel

Description

“प्रतिभा का शानदार नमूना...लेखिका की कला का चमत्कार देखकर पाठकों के मुँह से बरबस वाह-वाह निकल पड़ती है। एलिस मनरो हमारी आँखों के सामने ही जीवन की किसी साधारण घटना को एक ऐसे रत्न में परिवर्तित कर देती हैं जो हमें चकाचौंध कर देता है।"
—हैमिल्टन स्पेक्टेटर दैनिक
“प्रेम, विस्मय, भय से सराबोर यह कहानियाँ मंत्रमुग्ध कर देती हैं...भरपूर प्रतिभा और विशाल पर्स्पेक्टिव की लेखिका।”
—लॉस ऐंजल्स टाइम्स
“विश्व के अग्रणी समकालीन कहानी लेखकों में गणना किए जाने के लिए एलिस मनरो का
ज़ोरदार दावा।”
—न्यूयॉर्क टाइम्स
“नारीत्व के विभिन्न पहलुओं का अनूठा अन्वेषण...आज के लेखकों में इससे अधिक
ईमानदार, संवेदनशील, भरपूर, हृदयस्पर्शी प्रेरणा का उदाहरण मिल पाना कठिन होगा।”
—मिज पत्रिका
“हमारे युग के महानतम कहानी लेखकों में से एक।”
—ग्लोब एंड मेल “pratibha ka shandar namuna. . . Lekhika ki kala ka chamatkar dekhkar pathkon ke munh se barbas vah-vah nikal padti hai. Elis manro hamari aankhon ke samne hi jivan ki kisi sadharan ghatna ko ek aise ratn mein parivartit kar deti hain jo hamein chakachaundh kar deta hai. "—haimiltan spektetar dainik
“prem, vismay, bhay se sarabor ye kahaniyan mantrmugdh kar deti hain. . . Bharpur pratibha aur vishal parspektiv ki lekhika. ”
—laus ainjals taims
“vishv ke agrni samkalin kahani lekhkon mein ganna kiye jane ke liye elis manro ka
Zordar dava. ”
—nyuyaurk taims
“naritv ke vibhinn pahaluon ka anutha anveshan. . . Aaj ke lekhkon mein isse adhik
Iimandar, sanvedanshil, bharpur, hridyasparshi prerna ka udahran mil pana kathin hoga. ”
—mij patrika
“hamare yug ke mahantam kahani lekhkon mein se ek. ”
—glob end mel

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Lokbharti Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-9386863546
Pages 215p
Publishing Year

Main Tumse Kuchh Kahna Chahati Hun

“प्रतिभा का शानदार नमूना...लेखिका की कला का चमत्कार देखकर पाठकों के मुँह से बरबस वाह-वाह निकल पड़ती है। एलिस मनरो हमारी आँखों के सामने ही जीवन की किसी साधारण घटना को एक ऐसे रत्न में परिवर्तित कर देती हैं जो हमें चकाचौंध कर देता है।"
—हैमिल्टन स्पेक्टेटर दैनिक
“प्रेम, विस्मय, भय से सराबोर यह कहानियाँ मंत्रमुग्ध कर देती हैं...भरपूर प्रतिभा और विशाल पर्स्पेक्टिव की लेखिका।”
—लॉस ऐंजल्स टाइम्स
“विश्व के अग्रणी समकालीन कहानी लेखकों में गणना किए जाने के लिए एलिस मनरो का
ज़ोरदार दावा।”
—न्यूयॉर्क टाइम्स
“नारीत्व के विभिन्न पहलुओं का अनूठा अन्वेषण...आज के लेखकों में इससे अधिक
ईमानदार, संवेदनशील, भरपूर, हृदयस्पर्शी प्रेरणा का उदाहरण मिल पाना कठिन होगा।”
—मिज पत्रिका
“हमारे युग के महानतम कहानी लेखकों में से एक।”
—ग्लोब एंड मेल “pratibha ka shandar namuna. . . Lekhika ki kala ka chamatkar dekhkar pathkon ke munh se barbas vah-vah nikal padti hai. Elis manro hamari aankhon ke samne hi jivan ki kisi sadharan ghatna ko ek aise ratn mein parivartit kar deti hain jo hamein chakachaundh kar deta hai. "—haimiltan spektetar dainik
“prem, vismay, bhay se sarabor ye kahaniyan mantrmugdh kar deti hain. . . Bharpur pratibha aur vishal parspektiv ki lekhika. ”
—laus ainjals taims
“vishv ke agrni samkalin kahani lekhkon mein ganna kiye jane ke liye elis manro ka
Zordar dava. ”
—nyuyaurk taims
“naritv ke vibhinn pahaluon ka anutha anveshan. . . Aaj ke lekhkon mein isse adhik
Iimandar, sanvedanshil, bharpur, hridyasparshi prerna ka udahran mil pana kathin hoga. ”
—mij patrika
“hamare yug ke mahantam kahani lekhkon mein se ek. ”
—glob end mel