BackBack
-11%

Main Pakistan Mein Bharat Ka Jasoos Tha

Rs. 250 Rs. 223

Rajkamal Prakashan

जासूसी को लेकर विश्व की विभिन्न भाषाओं में अनेक सत्यकथाएँ लिखी गई हैं, जिनमें मोहनलाल भास्कर नामक भारतीय जासूस द्वारा लिखित अपनी इस आपबीती का एक अलग स्थान है। इसमें 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान उसके पाकिस्तान-प्रवेश, मित्रघात के कारण उसकी गिरफ़्तारी और लम्बी जेल-यातना का यथातथ्य चित्रण हुआ... Read More

Description

जासूसी को लेकर विश्व की विभिन्न भाषाओं में अनेक सत्यकथाएँ लिखी गई हैं, जिनमें मोहनलाल भास्कर नामक भारतीय जासूस द्वारा लिखित अपनी इस आपबीती का एक अलग स्थान है। इसमें 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान उसके पाकिस्तान-प्रवेश, मित्रघात के कारण उसकी गिरफ़्तारी और लम्बी जेल-यातना का यथातथ्य चित्रण हुआ है। लेकिन इस कृति के बारे में इतना ही कहना नाकाफ़ी है क्योंकि यह कुछ साहसी और सूझबूझ-भरी घटनाओं का संकलन मात्र नहीं है, बल्कि पाकिस्तान के तत्कालीन हालात का भी ऐतिहासिक विश्लेषण करती है। इसमें पाकिस्तान के तथाकथित भुट्टोवादी लोकतंत्र, निरन्तर मज़बूत होते जा रहे तानाशाही निज़ाम तथा धार्मिक कठमुल्लावाद और उसके सामाजिक-आर्थिक अन्तर्विरोधों को उघाड़ने के साथ-साथ भारत-विरोधी षड्यंत्रों के उन अन्तरराष्ट्रीय सूत्रों की भी पड़ताल की गई है, जिसके एक असाध्य परिणाम को हम ‘ख़ालिस्तानी’ नासूर की शक्ल में झेल रहे हैं। उसमें जहाँ एक ओर भास्कर ने पाकिस्तानी जेलों की नारकीय स्थिति, जेल-अधिकारियों के अमानवीय व्यवहार के बारे में बताया है, वहीं पाकिस्तानी अवाम और मेजर अय्याज अहमद सिपरा जैसे व्यक्ति के इंसानी बर्ताव को भी रेखांकित किया है। Jasusi ko lekar vishv ki vibhinn bhashaon mein anek satyakthayen likhi gai hain, jinmen mohanlal bhaskar namak bhartiy jasus dvara likhit apni is aapbiti ka ek alag sthan hai. Ismen 1965 ke bharat-pak yuddh ke dauran uske pakistan-prvesh, mitrghat ke karan uski giraftari aur lambi jel-yatna ka yathatathya chitran hua hai. Lekin is kriti ke bare mein itna hi kahna nakafi hai kyonki ye kuchh sahsi aur sujhbujh-bhari ghatnaon ka sanklan matr nahin hai, balki pakistan ke tatkalin halat ka bhi aitihasik vishleshan karti hai. Ismen pakistan ke tathakthit bhuttovadi loktantr, nirantar mazbut hote ja rahe tanashahi nizam tatha dharmik kathmullavad aur uske samajik-arthik antarvirodhon ko ughadne ke sath-sath bharat-virodhi shadyantron ke un antarrashtriy sutron ki bhi padtal ki gai hai, jiske ek asadhya parinam ko hum ‘khalistani’ nasur ki shakl mein jhel rahe hain. Usmen jahan ek or bhaskar ne pakistani jelon ki narkiy sthiti, jel-adhikariyon ke amanviy vyavhar ke bare mein bataya hai, vahin pakistani avam aur mejar ayyaj ahmad sipra jaise vyakti ke insani bartav ko bhi rekhankit kiya hai.