BackBack
-11%

Main Hindu Hoon

Asghar Wajahat

Rs. 150 Rs. 134

असग़र वजाहत उन विरले कहानीकारों में गिने जाते हैं जिन्होंने पूरी तरह अपनी प्रतिबद्धता बनाए रखते हुए भाषा और शिल्प के सार्थक प्रयोग किए हैं। उनकी कहानियाँ एक ओर आश्वस्त करती हैं कि कहानी की प्रेरणा और आधारशिला सामाजिकता ही हो सकती है तो दूसरी ओर यह भी स्थापित करती... Read More

BlackBlack
Description

असग़र वजाहत उन विरले कहानीकारों में गिने जाते हैं जिन्होंने पूरी तरह अपनी प्रतिबद्धता बनाए रखते हुए भाषा और शिल्प के सार्थक प्रयोग किए हैं। उनकी कहानियाँ एक ओर आश्वस्त करती हैं कि कहानी की प्रेरणा और आधारशिला सामाजिकता ही हो सकती है तो दूसरी ओर यह भी स्थापित करती हैं कि प्रतिबद्धता के साथ नवीनता, प्रयोगधर्मिता का मेल असंगत नहीं है। ‘मास मीडिया’ से आक्रान्‍त इस युग में असग़र वजाहत की कहानियाँ बड़ी ज़‍िम्मेदारी से नई ‘स्पेश’ तलाश कर लेती हैं। राजनीति और मनोरंजन द्वारा मीडिया पर एकाधिकार स्थापित कर लेनेवाले समय में असग़र की कहानियाँ अपनी विशेष भाषा और शिल्प के कारण अधिक महत्त्वपूर्ण हो गई हैं।
‘मैं हिन्दू हूँ’ में असग़र न केवल अपनी गति बनाए हुए हैं बल्कि उनके रचना-संसार में संवेदना के धरातल पर कुछ परिवर्तन भी आए हैं। हास्य, व्यंग्य और खिलंदड़ापन के साथ-साथ अब उनकी कहानी में गहरा अवसाद और दु:ख शामिल हो गया है। बहुआयामी जटिल यथार्थ और आम आदमी की पीड़ा को व्यक्त करने के लिए वे नए ‘हथियारों’ की तलाश में दिखाई पड़ते हैं।
विषय की विविधता के बावजूद उनकी कहानियों में साम्प्रदायिकता की समस्या तथा सामाजिक अवमूल्यन का अपना अलग महत्त्व है। उनकी कहानियाँ दरअसल उन लोगों की कहानियाँ हैं जो समाज के हाशिये पर पड़े हैं, लेकिन बड़े सामाजिक सन्‍दर्भों से जुड़ने का जतन करते रहते हैं। इन कहानियों में असग़र कल्पना और फैंटेसी के सम्मिश्रण से एक ऐसी भाव-भूमि की संरचना करते हैं जो कहानी को विस्तार देती है। उनकी कहानियाँ पाठकों से माँग करती हैं कि शब्दों और वाक्यों के समान्तर रचे गए अनकहे संसार की परतें भी खोलते रहें।
रोचकता की तमाम शर्तों पर पूरा उतरते हुए असग़र वजाहत की कहानियाँ गम्भीर विश्लेषणात्मक रवैये की माँग करती हैं। Asgar vajahat un virle kahanikaron mein gine jate hain jinhonne puri tarah apni pratibaddhta banaye rakhte hue bhasha aur shilp ke sarthak pryog kiye hain. Unki kahaniyan ek or aashvast karti hain ki kahani ki prerna aur aadharashila samajikta hi ho sakti hai to dusri or ye bhi sthapit karti hain ki pratibaddhta ke saath navinta, pryogdharmita ka mel asangat nahin hai. ‘mas midiya’ se aakran‍ta is yug mein asgar vajahat ki kahaniyan badi za‍immedari se nai ‘spesh’ talash kar leti hain. Rajniti aur manoranjan dvara midiya par ekadhikar sthapit kar lenevale samay mein asgar ki kahaniyan apni vishesh bhasha aur shilp ke karan adhik mahattvpurn ho gai hain. ‘main hindu hun’ mein asgar na keval apni gati banaye hue hain balki unke rachna-sansar mein sanvedna ke dharatal par kuchh parivartan bhi aae hain. Hasya, vyangya aur khilanddapan ke sath-sath ab unki kahani mein gahra avsad aur du:kha shamil ho gaya hai. Bahuayami jatil yatharth aur aam aadmi ki pida ko vyakt karne ke liye ve ne ‘hathiyaron’ ki talash mein dikhai padte hain.
Vishay ki vividhta ke bavjud unki kahaniyon mein samprdayikta ki samasya tatha samajik avmulyan ka apna alag mahattv hai. Unki kahaniyan darasal un logon ki kahaniyan hain jo samaj ke hashiye par pade hain, lekin bade samajik san‍darbhon se judne ka jatan karte rahte hain. In kahaniyon mein asgar kalpna aur phaintesi ke sammishran se ek aisi bhav-bhumi ki sanrachna karte hain jo kahani ko vistar deti hai. Unki kahaniyan pathkon se mang karti hain ki shabdon aur vakyon ke samantar rache ge anakhe sansar ki parten bhi kholte rahen.
Rochakta ki tamam sharton par pura utarte hue asgar vajahat ki kahaniyan gambhir vishleshnatmak ravaiye ki mang karti hain.