Look Inside
Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki
Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki
Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki
Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki

Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki

Regular price ₹ 929
Sale price ₹ 929 Regular price ₹ 999
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki

Main Bonsai Apane Samay Ka : Ek Katha Aatambhanjan Ki

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रामशरण जोशी व्यक्ति नहीं, संस्था हैं। बहुआयामी शख़्स हैं; पेपर हॉकर से सफल पत्रकार; श्रमिक यूनियनकर्मी से पत्रकारिता विश्वविद्यालय के प्रशासक; यायावर विद्यार्थी से प्रोफ़ेसर; बॉलीवुड के चक्कर; नाटकों में अभिनय और बाल मज़दूर से राष्ट्रीय बाल भवन, दिल्ली के अध्यक्ष पद तक का सफ़र स्वयं में चुनौतीपूर्ण उपलब्धि है।
अलवर में जन्मे, दौसा ज़िले (राजस्थान) के मामूली गाँव बसवा की टाटपट्टी से उठकर देश-विदेश की अहम घटनाओं का कवरेज, एशिया, अफ़्रीका, यूरोप, अमेरिका आदि देशों की यात्राएँ उनके व्यक्तित्व को बहुरंगी अनुभवों से समृद्ध करती हैं। कालाहांडी, बस्तर, सरगुजा, कोटड़ा जैसे वंचन-विपन्नता के सागर से लेकर दौलत के रोम-पेरिस-न्यूयॉर्क टापुओं को खँगाला है जोशी जी ने। राजधानी दिल्ली की सड़कों को नापते हुए राष्ट्रपतियों, प्रधानमंत्रियों जैसे अतिविशिष्टजनों के साथ देश-विदेश को नापा है। पत्रकार जोशी ने ख़ुद को संसद-विधानसभाओं की प्रेस दीर्घाओं तक ही सीमित नहीं रखा, वरन् मैदान में उतरकर जोख़िमों से मुठभेड़ भी की; 1971 के भारत-पाक युद्ध का कवरेज; श्रीलंका, अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान जैसे देशों के संकटों पर घटनास्थल से लेखन; साम्प्रदायिक व जातीय हिंसाग्रस्त मानवता की त्रासदियों के मार्मिक चित्रण में जोशी जी के सरोकारों की अनुगूँज सुनाई देती है।
यक़ीनन यह यात्रा सपाट नहीं रही है। इसमें अनेक उतार-चढ़ाव आए हैं। उड़ानों पर ही सवार नहीं रहा है लेखक। वह गिरा है, फिसला भी है, आत्मग्लानि का शिकार हुआ है, स्वयं से विश्वासघात किया है उसने। फिर भी वह राख के ढेर से उठा है। वर्ष 2004 में प्रकाशित मासिक ‘हंस’ में उनके दो आलेख—‘मेरे विश्वासघात’ व ‘मेरी आत्मस्वीकृतियाँ’—किसी मील के पत्थर से कम नहीं रहे हैं। बेहद चर्चित-विवादास्पद। हिन्दी जगत में भूचाल आ गया था। पत्रिकाओं ने विशेषांक निकाले। इस आत्मकथा में रामशरण जोशी ने ख़ुद के परखचे उड़ाने की फिर से हिमाकत की है। नहीं बख़्शा ख़ुद को, शुरू से अन्त तक। तभी सम्पादक-कथाकार राजेन्द्र यादव जी ने एक बार लेखक के बारे में लिखा था—‘‘इधर उनकी संवेदनाएँ रचनात्मक अभिव्यक्तियों के लिए कसमसाने लगी हैं और वे अपने अनुभवों को कथा-कहानी या आत्म-स्वीकृतियों का रूप देने की कोशिश कर रहे हैं। पता नहीं क्यों, मुझे लगता है कि लम्बी बीहड़ भौतिक और बौद्धिक यात्राओं के बाद वे उस मोड़ पर आ गए हैं जिसे नरेश मेहता ने ‘अश्व की वल्गा लो अब थाम, दिख रहा मानसरोवर’ कहकर पहचाना था। आख़िर रामशरण जोशी ने भी अपनी शुरुआत ‘आदमी, बैल और सपने’ जैसी कथा-पत्रकारिता से ही तो की।’’
सतह से सवाल उठेगा ही, आख़िर क्यों पढ़ें इस बोनसाई को? सच! ड्राइंग रूम की शोभा ही तो है यह जापानी फूल। कहाँ महकता-दमकता है? इसका आकार न बढ़ता है, न ही घटता है। बस! यथावत् रहता है बरसों तक अपने ही वृत्त में यानी स्टेटस को! कितना आत्म-सन्तप्त रहता होगा अपनी इस स्थिति पर, यह कौन जानता है? यही नियति है बोनसाई की उर्फ़ उस मानुष की जो अपने वर्ग की शोभा तो होता है लेकिन अपनी सीमाओं का अतिक्रमण नहीं कर पाता। वर्गीय मायाजाल-मुग्धता में जीता रहता है, और उन लोगों का दुर्ग सुरक्षित-मज़बूत रहता है। व्यवस्थानुमा ड्राइंग रूम में निहत्था सजा बोनसाई टुकुर-टुकुर देखता रहता है।
यह आत्मकथा रामशरण जोशी जी की ज़रूर है लेकिन इसमें समय-समाज और लोग मौजूद हैं। दूसरे शब्दों में, ख़ुद के बहाने, ख़ुद को चीरते हुए व्यवस्था को परत-दर-परत सामने रखा है। सो, कथा हम सब की है। Ramashran joshi vyakti nahin, sanstha hain. Bahuayami shakhs hain; pepar haukar se saphal patrkar; shrmik yuniyankarmi se patrkarita vishvvidyalay ke prshasak; yayavar vidyarthi se profesar; baulivud ke chakkar; natkon mein abhinay aur baal mazdur se rashtriy baal bhavan, dilli ke adhyaksh pad tak ka safar svayan mein chunautipurn uplabdhi hai. Alvar mein janme, dausa zile (rajasthan) ke mamuli ganv basva ki tatpatti se uthkar desh-videsh ki aham ghatnaon ka kavrej, eshiya, afrika, yurop, amerika aadi deshon ki yatrayen unke vyaktitv ko bahurangi anubhvon se samriddh karti hain. Kalahandi, bastar, saraguja, kotda jaise vanchan-vipannta ke sagar se lekar daulat ke rom-peris-nyuyaurk tapuon ko khangala hai joshi ji ne. Rajdhani dilli ki sadkon ko napte hue rashtrapatiyon, prdhanmantriyon jaise ativishishtajnon ke saath desh-videsh ko napa hai. Patrkar joshi ne khud ko sansad-vidhanasbhaon ki pres dirghaon tak hi simit nahin rakha, varan maidan mein utarkar jokhimon se muthbhed bhi ki; 1971 ke bharat-pak yuddh ka kavrej; shrilanka, afganistan, pakistan jaise deshon ke sankton par ghatnasthal se lekhan; samprdayik va jatiy hinsagrast manavta ki trasadiyon ke marmik chitran mein joshi ji ke sarokaron ki anugunj sunai deti hai.
Yaqinan ye yatra sapat nahin rahi hai. Ismen anek utar-chadhav aae hain. Udanon par hi savar nahin raha hai lekhak. Vah gira hai, phisla bhi hai, aatmaglani ka shikar hua hai, svayan se vishvasghat kiya hai usne. Phir bhi vah rakh ke dher se utha hai. Varsh 2004 mein prkashit masik ‘hans’ mein unke do aalekh—‘mere vishvasghat’ va ‘meri aatmasvikritiyan’—kisi mil ke patthar se kam nahin rahe hain. Behad charchit-vivadaspad. Hindi jagat mein bhuchal aa gaya tha. Patrikaon ne visheshank nikale. Is aatmaktha mein ramashran joshi ne khud ke parakhche udane ki phir se himakat ki hai. Nahin bakhsha khud ko, shuru se ant tak. Tabhi sampadak-kathakar rajendr yadav ji ne ek baar lekhak ke bare mein likha tha—‘‘idhar unki sanvednayen rachnatmak abhivyaktiyon ke liye kasamsane lagi hain aur ve apne anubhvon ko katha-kahani ya aatm-svikritiyon ka rup dene ki koshish kar rahe hain. Pata nahin kyon, mujhe lagta hai ki lambi bihad bhautik aur bauddhik yatraon ke baad ve us mod par aa ge hain jise naresh mehta ne ‘ashv ki valga lo ab tham, dikh raha manasrovar’ kahkar pahchana tha. Aakhir ramashran joshi ne bhi apni shuruat ‘admi, bail aur sapne’ jaisi katha-patrkarita se hi to ki. ’’
Satah se saval uthega hi, aakhir kyon padhen is bonsai ko? sach! draing rum ki shobha hi to hai ye japani phul. Kahan mahakta-damakta hai? iska aakar na badhta hai, na hi ghatta hai. Bas! yathavat rahta hai barson tak apne hi vritt mein yani stetas ko! kitna aatm-santapt rahta hoga apni is sthiti par, ye kaun janta hai? yahi niyati hai bonsai ki urf us manush ki jo apne varg ki shobha to hota hai lekin apni simaon ka atikrman nahin kar pata. Vargiy mayajal-mugdhta mein jita rahta hai, aur un logon ka durg surakshit-mazbut rahta hai. Vyvasthanuma draing rum mein nihattha saja bonsai tukur-tukur dekhta rahta hai.
Ye aatmaktha ramashran joshi ji ki zarur hai lekin ismen samay-samaj aur log maujud hain. Dusre shabdon mein, khud ke bahane, khud ko chirte hue vyvastha ko parat-dar-parat samne rakha hai. So, katha hum sab ki hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products