BackBack

Main Aur Mera Parivesh

Rs. 600

यशपाल की मूल पहचान भले ही एक कथाकार की हो, लेकिन कथा-साहित्य के बाहर भी उन्होंने बहुत-कुछ लिखा था। उनका यह लेखन उनके पर्याप्त लम्बे और व्यवस्थित रचनाकाल में समय की अपनी ज़रूरतों एवं दबावों के हिसाब से हुआ। ‘विप्लव’ के सम्पादकीय, क्रान्तिकारी जीवन के अपने संस्मरणों, यात्रावृत्त, प्रगतिशील लेखक... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

यशपाल की मूल पहचान भले ही एक कथाकार की हो, लेकिन कथा-साहित्य के बाहर भी उन्होंने बहुत-कुछ लिखा था। उनका यह लेखन उनके पर्याप्त लम्बे और व्यवस्थित रचनाकाल में समय की अपनी ज़रूरतों एवं दबावों के हिसाब से हुआ। ‘विप्लव’ के सम्पादकीय, क्रान्तिकारी जीवन के अपने संस्मरणों, यात्रावृत्त, प्रगतिशील लेखक संघ की गतिविधियों के सम्बन्ध में अभिभूत टिप्पणियों के अतिरिक्त बड़ी संख्या में उन्होंने राजनीतिक निबन्ध भी लिखे।
यशपाल के बारे में एक आम धारणा यह है कि अपने वैचारिक आग्रहों के प्रति वे बहुत अनन्य और दृढ़ थे। इसी कारण अपने समय के साहित्यिक-राजनीतिक विवादों और बहसों में भी उनकी सक्रिय हिस्सेदारी रही। मार्क्सवादी और ग़ैर-मार्क्सवादी दोनों तरह के आलोचकों के विरोध के बीच उनका लेखन हुआ। जब-तब उन्हें अपने इन आलोचकों से भी उलझना होता था, भरसक सैद्धान्तिक रूप में वे अपना पक्ष रखते थे। अनुशासन, व्यवस्था और निरन्तरता सम्भवत: यशपाल के लेखन के केन्द्रीय सूत्र हैं। उन्होंने सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर तो लिखा ही, व्यक्तिगत सन्दर्भों पर उनका आत्मगत लेखन भी काफ़ी मात्रा में है।
यशपाल के असंकलित इन लेखों में बहुत-सी ऐसी सामग्री है जो आत्मगत प्रकृति की है। इस सामग्री को एक जगह देख और पढ़कर किसी को भी आश्चर्य हो सकता है। यहाँ अपने लेखकीय जीवन के वैविध्यपूर्ण अनुभवों का खुलासा उन्होंने किया है—कभी अपनी इच्छा से और कभी दूसरों के अनुरोध पर। इस संकलन में उनके अनेक विवादास्पद लेख भी हैं जो इधर वर्षों से अप्राप्य थे। इस ढेर सारी सामग्री के एक जगह उपलब्ध हो जाने से यशपाल जैसे बड़े क़द-बुत के लेखक की रचना-प्रक्रिया और रचनात्मक सरोकारों की दृष्टि से भी इस सामग्री का अपना महत्त्व है। Yashpal ki mul pahchan bhale hi ek kathakar ki ho, lekin katha-sahitya ke bahar bhi unhonne bahut-kuchh likha tha. Unka ye lekhan unke paryapt lambe aur vyvasthit rachnakal mein samay ki apni zarurton evan dabavon ke hisab se hua. ‘viplav’ ke sampadkiy, krantikari jivan ke apne sansmarnon, yatravritt, pragatishil lekhak sangh ki gatividhiyon ke sambandh mein abhibhut tippaniyon ke atirikt badi sankhya mein unhonne rajnitik nibandh bhi likhe. Yashpal ke bare mein ek aam dharna ye hai ki apne vaicharik aagrhon ke prati ve bahut ananya aur dridh the. Isi karan apne samay ke sahityik-rajnitik vivadon aur bahson mein bhi unki sakriy hissedari rahi. Marksvadi aur gair-marksvadi donon tarah ke aalochkon ke virodh ke bich unka lekhan hua. Jab-tab unhen apne in aalochkon se bhi ulajhna hota tha, bharsak saiddhantik rup mein ve apna paksh rakhte the. Anushasan, vyvastha aur nirantarta sambhvat: yashpal ke lekhan ke kendriy sutr hain. Unhonne samajik aur rajnitik muddon par to likha hi, vyaktigat sandarbhon par unka aatmgat lekhan bhi kafi matra mein hai.
Yashpal ke asanklit in lekhon mein bahut-si aisi samagri hai jo aatmgat prkriti ki hai. Is samagri ko ek jagah dekh aur padhkar kisi ko bhi aashcharya ho sakta hai. Yahan apne lekhkiy jivan ke vaividhypurn anubhvon ka khulasa unhonne kiya hai—kabhi apni ichchha se aur kabhi dusron ke anurodh par. Is sanklan mein unke anek vivadaspad lekh bhi hain jo idhar varshon se aprapya the. Is dher sari samagri ke ek jagah uplabdh ho jane se yashpal jaise bade qad-but ke lekhak ki rachna-prakriya aur rachnatmak sarokaron ki drishti se bhi is samagri ka apna mahattv hai.

Description

यशपाल की मूल पहचान भले ही एक कथाकार की हो, लेकिन कथा-साहित्य के बाहर भी उन्होंने बहुत-कुछ लिखा था। उनका यह लेखन उनके पर्याप्त लम्बे और व्यवस्थित रचनाकाल में समय की अपनी ज़रूरतों एवं दबावों के हिसाब से हुआ। ‘विप्लव’ के सम्पादकीय, क्रान्तिकारी जीवन के अपने संस्मरणों, यात्रावृत्त, प्रगतिशील लेखक संघ की गतिविधियों के सम्बन्ध में अभिभूत टिप्पणियों के अतिरिक्त बड़ी संख्या में उन्होंने राजनीतिक निबन्ध भी लिखे।
यशपाल के बारे में एक आम धारणा यह है कि अपने वैचारिक आग्रहों के प्रति वे बहुत अनन्य और दृढ़ थे। इसी कारण अपने समय के साहित्यिक-राजनीतिक विवादों और बहसों में भी उनकी सक्रिय हिस्सेदारी रही। मार्क्सवादी और ग़ैर-मार्क्सवादी दोनों तरह के आलोचकों के विरोध के बीच उनका लेखन हुआ। जब-तब उन्हें अपने इन आलोचकों से भी उलझना होता था, भरसक सैद्धान्तिक रूप में वे अपना पक्ष रखते थे। अनुशासन, व्यवस्था और निरन्तरता सम्भवत: यशपाल के लेखन के केन्द्रीय सूत्र हैं। उन्होंने सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर तो लिखा ही, व्यक्तिगत सन्दर्भों पर उनका आत्मगत लेखन भी काफ़ी मात्रा में है।
यशपाल के असंकलित इन लेखों में बहुत-सी ऐसी सामग्री है जो आत्मगत प्रकृति की है। इस सामग्री को एक जगह देख और पढ़कर किसी को भी आश्चर्य हो सकता है। यहाँ अपने लेखकीय जीवन के वैविध्यपूर्ण अनुभवों का खुलासा उन्होंने किया है—कभी अपनी इच्छा से और कभी दूसरों के अनुरोध पर। इस संकलन में उनके अनेक विवादास्पद लेख भी हैं जो इधर वर्षों से अप्राप्य थे। इस ढेर सारी सामग्री के एक जगह उपलब्ध हो जाने से यशपाल जैसे बड़े क़द-बुत के लेखक की रचना-प्रक्रिया और रचनात्मक सरोकारों की दृष्टि से भी इस सामग्री का अपना महत्त्व है। Yashpal ki mul pahchan bhale hi ek kathakar ki ho, lekin katha-sahitya ke bahar bhi unhonne bahut-kuchh likha tha. Unka ye lekhan unke paryapt lambe aur vyvasthit rachnakal mein samay ki apni zarurton evan dabavon ke hisab se hua. ‘viplav’ ke sampadkiy, krantikari jivan ke apne sansmarnon, yatravritt, pragatishil lekhak sangh ki gatividhiyon ke sambandh mein abhibhut tippaniyon ke atirikt badi sankhya mein unhonne rajnitik nibandh bhi likhe. Yashpal ke bare mein ek aam dharna ye hai ki apne vaicharik aagrhon ke prati ve bahut ananya aur dridh the. Isi karan apne samay ke sahityik-rajnitik vivadon aur bahson mein bhi unki sakriy hissedari rahi. Marksvadi aur gair-marksvadi donon tarah ke aalochkon ke virodh ke bich unka lekhan hua. Jab-tab unhen apne in aalochkon se bhi ulajhna hota tha, bharsak saiddhantik rup mein ve apna paksh rakhte the. Anushasan, vyvastha aur nirantarta sambhvat: yashpal ke lekhan ke kendriy sutr hain. Unhonne samajik aur rajnitik muddon par to likha hi, vyaktigat sandarbhon par unka aatmgat lekhan bhi kafi matra mein hai.
Yashpal ke asanklit in lekhon mein bahut-si aisi samagri hai jo aatmgat prkriti ki hai. Is samagri ko ek jagah dekh aur padhkar kisi ko bhi aashcharya ho sakta hai. Yahan apne lekhkiy jivan ke vaividhypurn anubhvon ka khulasa unhonne kiya hai—kabhi apni ichchha se aur kabhi dusron ke anurodh par. Is sanklan mein unke anek vivadaspad lekh bhi hain jo idhar varshon se aprapya the. Is dher sari samagri ke ek jagah uplabdh ho jane se yashpal jaise bade qad-but ke lekhak ki rachna-prakriya aur rachnatmak sarokaron ki drishti se bhi is samagri ka apna mahattv hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Main Aur Mera Parivesh

यशपाल की मूल पहचान भले ही एक कथाकार की हो, लेकिन कथा-साहित्य के बाहर भी उन्होंने बहुत-कुछ लिखा था। उनका यह लेखन उनके पर्याप्त लम्बे और व्यवस्थित रचनाकाल में समय की अपनी ज़रूरतों एवं दबावों के हिसाब से हुआ। ‘विप्लव’ के सम्पादकीय, क्रान्तिकारी जीवन के अपने संस्मरणों, यात्रावृत्त, प्रगतिशील लेखक संघ की गतिविधियों के सम्बन्ध में अभिभूत टिप्पणियों के अतिरिक्त बड़ी संख्या में उन्होंने राजनीतिक निबन्ध भी लिखे।
यशपाल के बारे में एक आम धारणा यह है कि अपने वैचारिक आग्रहों के प्रति वे बहुत अनन्य और दृढ़ थे। इसी कारण अपने समय के साहित्यिक-राजनीतिक विवादों और बहसों में भी उनकी सक्रिय हिस्सेदारी रही। मार्क्सवादी और ग़ैर-मार्क्सवादी दोनों तरह के आलोचकों के विरोध के बीच उनका लेखन हुआ। जब-तब उन्हें अपने इन आलोचकों से भी उलझना होता था, भरसक सैद्धान्तिक रूप में वे अपना पक्ष रखते थे। अनुशासन, व्यवस्था और निरन्तरता सम्भवत: यशपाल के लेखन के केन्द्रीय सूत्र हैं। उन्होंने सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर तो लिखा ही, व्यक्तिगत सन्दर्भों पर उनका आत्मगत लेखन भी काफ़ी मात्रा में है।
यशपाल के असंकलित इन लेखों में बहुत-सी ऐसी सामग्री है जो आत्मगत प्रकृति की है। इस सामग्री को एक जगह देख और पढ़कर किसी को भी आश्चर्य हो सकता है। यहाँ अपने लेखकीय जीवन के वैविध्यपूर्ण अनुभवों का खुलासा उन्होंने किया है—कभी अपनी इच्छा से और कभी दूसरों के अनुरोध पर। इस संकलन में उनके अनेक विवादास्पद लेख भी हैं जो इधर वर्षों से अप्राप्य थे। इस ढेर सारी सामग्री के एक जगह उपलब्ध हो जाने से यशपाल जैसे बड़े क़द-बुत के लेखक की रचना-प्रक्रिया और रचनात्मक सरोकारों की दृष्टि से भी इस सामग्री का अपना महत्त्व है। Yashpal ki mul pahchan bhale hi ek kathakar ki ho, lekin katha-sahitya ke bahar bhi unhonne bahut-kuchh likha tha. Unka ye lekhan unke paryapt lambe aur vyvasthit rachnakal mein samay ki apni zarurton evan dabavon ke hisab se hua. ‘viplav’ ke sampadkiy, krantikari jivan ke apne sansmarnon, yatravritt, pragatishil lekhak sangh ki gatividhiyon ke sambandh mein abhibhut tippaniyon ke atirikt badi sankhya mein unhonne rajnitik nibandh bhi likhe. Yashpal ke bare mein ek aam dharna ye hai ki apne vaicharik aagrhon ke prati ve bahut ananya aur dridh the. Isi karan apne samay ke sahityik-rajnitik vivadon aur bahson mein bhi unki sakriy hissedari rahi. Marksvadi aur gair-marksvadi donon tarah ke aalochkon ke virodh ke bich unka lekhan hua. Jab-tab unhen apne in aalochkon se bhi ulajhna hota tha, bharsak saiddhantik rup mein ve apna paksh rakhte the. Anushasan, vyvastha aur nirantarta sambhvat: yashpal ke lekhan ke kendriy sutr hain. Unhonne samajik aur rajnitik muddon par to likha hi, vyaktigat sandarbhon par unka aatmgat lekhan bhi kafi matra mein hai.
Yashpal ke asanklit in lekhon mein bahut-si aisi samagri hai jo aatmgat prkriti ki hai. Is samagri ko ek jagah dekh aur padhkar kisi ko bhi aashcharya ho sakta hai. Yahan apne lekhkiy jivan ke vaividhypurn anubhvon ka khulasa unhonne kiya hai—kabhi apni ichchha se aur kabhi dusron ke anurodh par. Is sanklan mein unke anek vivadaspad lekh bhi hain jo idhar varshon se aprapya the. Is dher sari samagri ke ek jagah uplabdh ho jane se yashpal jaise bade qad-but ke lekhak ki rachna-prakriya aur rachnatmak sarokaron ki drishti se bhi is samagri ka apna mahattv hai.