BackBack
-11%

Main Aur Main

Mridula Garg

Rs. 299 Rs. 266

Rajkamal Prakashan

रचनात्मकता का पल्लवन बेल की तरह आधार चाहता है, भले ही कैसा भी हो बस आकाश की ओर अवलम्बित, जिसके सहारे ऊँचाइयाँ पाई जा सकें। ‘मैं और मैं’ इन्हीं भटकाते आधारों का अन्तर्द्वन्द्व है। मृदुला गर्ग का यह उपन्यास अपने भीतर के जगत को सच की तपिश से बचाने की... Read More

BlackBlack
Description

रचनात्मकता का पल्लवन बेल की तरह आधार चाहता है, भले ही कैसा भी हो बस आकाश की ओर अवलम्बित, जिसके सहारे ऊँचाइयाँ पाई जा सकें। ‘मैं और मैं’ इन्हीं भटकाते आधारों का अन्तर्द्वन्द्व है। मृदुला गर्ग का यह उपन्यास अपने भीतर के जगत को सच की तपिश से बचाने की प्रवृत्ति को भी रेखांकित करता है, क्योंकि सत्य से साक्षात्कार करें तो भीतर अपराधबोध पनपता है और झूठ में शरण लेने की लालसा...।
‘मैं और मैं’ कहानी है मृदुला गर्ग के दो कलात्मक और सशक्त पात्रों—कौशल कुमार और माधवी—के बनते–टूटते सामाजिक और नैतिक आग्रहों की। लेखिका के अनुसार, “क्या था माधवी और उसके बीच?” उसके नहीं, माधवी और उसके पति के बीच? कौशल जैसे प्याले में गिरी मक्खी हो। उसे देखकर वे चीख़े नहीं थे, यह उनकी शालीनता थी। मक्खी पड़ा प्याला अलग हटाकर अपने–अपने प्यालों से चाय पीते रहे थे। लग रहा था वे अलग–अलग नहीं, एक ही प्याले से चाय पी रहे हैं और कौशल छटपटाकर बाहर निकल गया है। भिनभिन करके पूरी कोशिश कर रहा है कि उनके सामीप्य में अवरोध पैदा कर दे, पर उसकी भिनभिनाहट उनका मनोरंजन कर रही है, सामीप्य का गठबन्धन और मज़बूत कर रही है। जुगुप्सा, वितृष्णा, हिंसा कुछ भी तो नहीं था, जो उसके अस्तित्व–बोध को बनाए रखता।
एक ओर कौशल का अपने अतीत के लिए समाज को दोषी ठहराना और इस तर्क की बिना पर समाज की भरपूर अवहेलना, वहीं माधवी का समाज की खौफ़नाक होती शक्ल में अपनी चुप्पी को ज़िम्मेदार मानना। बाद में कौशल की नज़दीकी से वह स्वीकारती है कि सृजन के लिए सब कुछ जायज है, मानवीय रिश्तों का बेहिस्स इस्तेमाल भी...। Rachnatmakta ka pallvan bel ki tarah aadhar chahta hai, bhale hi kaisa bhi ho bas aakash ki or avlambit, jiske sahare uunchaiyan pai ja saken. ‘main aur main’ inhin bhatkate aadharon ka antardvandv hai. Mridula garg ka ye upanyas apne bhitar ke jagat ko sach ki tapish se bachane ki prvritti ko bhi rekhankit karta hai, kyonki satya se sakshatkar karen to bhitar apradhbodh panapta hai aur jhuth mein sharan lene ki lalsa. . . . ‘main aur main’ kahani hai mridula garg ke do kalatmak aur sashakt patron—kaushal kumar aur madhvi—ke bante–tutte samajik aur naitik aagrhon ki. Lekhika ke anusar, “kya tha madhvi aur uske bich?” uske nahin, madhvi aur uske pati ke bich? kaushal jaise pyale mein giri makkhi ho. Use dekhkar ve chikhe nahin the, ye unki shalinta thi. Makkhi pada pyala alag hatakar apne–apne pyalon se chay pite rahe the. Lag raha tha ve alag–alag nahin, ek hi pyale se chay pi rahe hain aur kaushal chhataptakar bahar nikal gaya hai. Bhinbhin karke puri koshish kar raha hai ki unke samipya mein avrodh paida kar de, par uski bhinabhinahat unka manoranjan kar rahi hai, samipya ka gathbandhan aur mazbut kar rahi hai. Jugupsa, vitrishna, hinsa kuchh bhi to nahin tha, jo uske astitv–bodh ko banaye rakhta.
Ek or kaushal ka apne atit ke liye samaj ko doshi thahrana aur is tark ki bina par samaj ki bharpur avhelna, vahin madhvi ka samaj ki khaufnak hoti shakl mein apni chuppi ko zimmedar manna. Baad mein kaushal ki nazdiki se vah svikarti hai ki srijan ke liye sab kuchh jayaj hai, manviy rishton ka behiss istemal bhi. . . .