Maihar Ke Angana

Regular price Rs. 225
Sale price Rs. 225 Regular price Rs. 225
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Maihar Ke Angana

Maihar Ke Angana

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अवध की संस्कृति, सभ्यता और परम्परा हमारी धरोहर है। अवध उत्तर प्रदेश के 25 जनपदों का एक भू-भाग है, जिसे प्राचीन काल में कोशल के नाम से जाना जाता था। कोशल की राजधानी अयोध्या थी। 'अवध' का नाम अयोध्या से पड़ा और मेरा परम सौभाग्य है कि मेरा जन्म अवध की पावन भूमि अयोध्या में हुआ। जहाँ की विशेषता कला और संस्कृति का संगम अनन्त भण्डार विश्वविख्यात है। भारत की लोक कलाएँ विश्व की सबसे प्राचीन धरोहरों में से एक बहुरंगी, विविध और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है। यहाँ की अनेक जातियों और जनजातियों की पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही पारम्परिक कलाओं को लोक कला के नाम से जाना जाता है। अवध में आलेखित चित्र मांगल्य के प्रतीक होते हैं। हमारे अवध की संस्कृति मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचन्द्र जी हैं। यहाँ की संस्कृति में लोक कला बसती है, यहाँ के त्योहार लोक कला के बिना अधूरे हैं। एक वर्ष में बारह महीनों के अलग-अलग त्योहार होते हैं। हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्ष का प्रारम्भ चैत्र मास से शुरू होता है। अवध में इस माह में नव वर्ष का उत्सव मनाते हैं। इसी माह में वासन्ती नवरात्रि में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचन्द्र जी का जन्म उत्सव मनाते हैं। इसी माह से बारह महीनों तक त्योहारों का क्रम चलता है। अवध में त्योहार, संस्कार और लोकजीवन चर्चा पर लोक चित्र बनाये जाते हैं। यहाँ पर बारह माह के प्रमुख त्योहार तथा सोलह संस्कार पर लोक चित्र बनाये जाते हैं जिनमें से प्रमुख संस्कार हैं-षष्ठी संस्कार, उपनयन संस्कार, विवाह संस्कार में-चौक पूरना, कोहबर, हाथ के थापे, मइहर द्वार, माई मौर आदि चित्र बनाये जाते हैं। तथा प्रमुख त्योहार वासन्ती नवरात्रि, रामनवमी, आषाढ़ी पूर्णिमा, नाग पंचमी, हरियाली तीज, हल षष्ठी, कृष्ण जन्माष्टमी, दशहरा, तुलसी पूजा, करवा चौथ, अहोई अष्टमी, दीपावली, भाई दूज, देवोत्थान एकादशी, होली आदि शुभ पर्वो, त्योहारों, उत्सवों आदि पर लोक चित्र बनाये जाने की विशेष परम्परा है। अवध में लोक चित्रों का उद्भव गाँव की माटी घर आँगन से हुआ है। सरलता और सादगी इसका भाव है, अवध में लोक चित्र बनाने की परम्परा का वर्णन रामायण में भी उल्लेखित है, जहाँ मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम जी के विवाह मण्डप में मणिरत्नों से चौक पूरा गया था वहीं रावण वध के बाद राम जी सीता के साथ अयोध्या वापस आने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने भगवान के स्वागत में पूरी अयोध्या को सजाया था तथा रामराज्याभिषेक के समय भूमि पर रंगोली व चौक पूरना बनाये थे। इससे स्पष्ट होता है कि लोक कला का इतिहास, प्रागैतिहासिक इतिहास, आधुनिक इतिहास उतना ही पुराना है जितना कि भारतीय सभ्यता। अवध में लोक चित्रकला भूमि तथा भित्ति दोनों पर बनाई जाती है। यह दो रूपों में पायी जाती है, जिनके प्रति पूजा की भावना होती है उन्हें भित्ति पर चित्रित किया जाता है और जिनमें शुभत्व और कल्याण की भावना होती है उन्हंा भूमि पर बनाया जाता है। यहाँ के चित्र पारम्परिक, लोक मांगलिक, सजीव और प्रभावशाली होते हैं, इन चित्रों की एक विशेषता रही है मंगल भावना, लोक जनहित, धार्मिक भावना, सुख समृद्धि, शान्ति की कामना, पारलौकिक शक्ति एवं आशीर्वाद, जीवन रक्षा के प्रयोजन हेतु लोक चित्र बनाये जाते हैं। यह चित्र प्राकृतिक रंगों का उपयोग कर खड़िया, गेरू, चूना, कोयला, कुमकुम, काजल, सिन्दूर, फूलों और पत्तियों का रस आदि का प्रयोग कर फूलों के डंठल में रूई या कपड़ा लपेटकर या लेखनी अँगलियों की सहायता से चित्र बनाये जाते हैं। अवध की लोक चित्रकला अवध के अलग-अलग क्षेत्रों में अपनी अलग पहचान रखते हुए लोक साहित्य, लोक परम्परा, लोक विश्वास, लोक कलाओं के साथ भगवान राम से जुड़े रहने के कारण यह अति विशिष्ट है। परन्तु यह लोक चित्रकलाएँ लगभग आज के समय में विलुप्त हो रही हैं। इस कला और संस्कृति को जिस तरह हमारे पूर्वजों ने हमें सौंपा है उसी तरह हम अपनी अगली पीढ़ी को सौंपने के लिए मैं इस पुस्तक के माध्यम से इस कला को, इस धरोहर को सिद्धिवत करने व सँजोने का प्रयास कर रही हूँ ताकि हमारी भावी पीढ़ी तक यह पावन परम्पराएँ सदैव जीवित रह सकें। यह पुस्तक इसी लक्ष्य की प्राप्ति का एक प्रयास है। म आशा करती हूँ, 'मइहर के अँगना' अवध के सभी जन के साथ भारतीय लोक संस्कृति के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। avadh ki sanskriti, sabhyta aur parampra hamari dharohar hai. avadh uttar prdesh ke 25 janapdon ka ek bhu bhaag hai, jise prachin kaal mein koshal ke naam se jana jata tha. koshal ki rajdhani ayodhya thi. avadh ka naam ayodhya se paDa aur mera param saubhagya hai ki mera janm avadh ki pavan bhumi ayodhya mein hua. jahan ki visheshta kala aur sanskriti ka sangam anant bhanDar vishvvikhyat hai. bharat ki lok kalayen vishv ki sabse prachin dharohron mein se ek bahurangi, vividh aur samriddh sanskritik virasat hai. yahan ki anek jatiyon aur janjatiyon ki piDhi dar piDhi chali aa rahi paramprik kalaon ko lok kala ke naam se jana jata hai. avadh mein alekhit chitr mangalya ke prteek hote hain. hamare avadh ki sanskriti maryada purushottam bhagvan shri ramchandr ji hain. yahan ki sanskriti mein lok kala basti hai, yahan ke tyohar lok kala ke bina adhure hain. ek varsh mein barah mahinon ke alag alag tyohar hote hain. hindu panchang ke anusar varsh ka prarambh chaitr maas se shuru hota hai. avadh mein is maah mein nav varsh ka utsav manate hain. isi maah mein vasanti navratri mein maryada purushottam shri ramchandr ji ka janm utsav manate hain. isi maah se barah mahinon tak tyoharon ka kram chalta hai. avadh mein tyohar, sanskar aur lokjivan charcha par lok chitr banaye jate hain. yahan par barah maah ke prmukh tyohar tatha solah sanskar par lok chitr banaye jate hain jinmen se prmukh sanskar hain shashthi sanskar, upanyan sanskar, vivah sanskar men chauk purna, kohbar, haath ke thape, maihar dvaar, mai maur aadi chitr banaye jate hain. tatha prmukh tyohar vasanti navratri, ramanavmi, ashaDhi purnima, naag panchmi, hariyali teej, hal shashthi, krishn janmashtmi, dashahra, tulsi puja, karva chauth, ahoi ashtmi, dipavli, bhai dooj, devotthan ekadshi, holi aadi shubh parvo, tyoharon, utsvon aadi par lok chitr banaye jane ki vishesh parampra hai. avadh mein lok chitron ka udbhav gaanv ki mati ghar angan se hua hai. saralta aur sadgi iska bhaav hai, avadh mein lok chitr banane ki parampra ka varnan ramayan mein bhi ullekhit hai, jahan maryada purushottam bhagvan shriram ji ke vivah manDap mein maniratnon se chauk pura gaya tha vahin ravan vadh ke baad raam ji sita ke saath ayodhya vapas aane ki khushi mein ayodhyavasiyon ne bhagvan ke svagat mein puri ayodhya ko sajaya tha tatha ramrajyabhishek ke samay bhumi par rangoli va chauk purna banaye the. isse spasht hota hai ki lok kala ka itihas, pragaitihasik itihas, adhunik itihas utna hi purana hai jitna ki bhartiy sabhyta. avadh mein lok chitrakla bhumi tatha bhitti donon par banai jati hai. ye do rupon mein payi jati hai, jinke prati puja ki bhavna hoti hai unhen bhitti par chitrit kiya jata hai aur jinmen shubhatv aur kalyan ki bhavna hoti hai unhana bhumi par banaya jata hai. yahan ke chitr paramprik, lok manglik, sajiv aur prbhavshali hote hain, in chitron ki ek visheshta rahi hai mangal bhavna, lok janhit, dharmik bhavna, sukh samriddhi, shanti ki kamna, parlaukik shakti evan ashirvad, jivan raksha ke pryojan hetu lok chitr banaye jate hain. ye chitr prakritik rangon ka upyog kar khaDiya, geru, chuna, koyla, kumkum, kajal, sindur, phulon aur pattiyon ka ras aadi ka pryog kar phulon ke Danthal mein rui ya kapDa lapetkar ya lekhni angliyon ki sahayta se chitr banaye jate hain. avadh ki lok chitrakla avadh ke alag alag kshetron mein apni alag pahchan rakhte hue lok sahitya, lok parampra, lok vishvas, lok kalaon ke saath bhagvan raam se juDe rahne ke karan ye ati vishisht hai. parantu ye lok chitraklayen lagbhag aaj ke samay mein vilupt ho rahi hain. is kala aur sanskriti ko jis tarah hamare purvjon ne hamein saumpa hai usi tarah hum apni agli piDhi ko saumpne ke liye main is pustak ke madhyam se is kala ko, is dharohar ko siddhivat karne va sanjone ka pryaas kar rahi hoon taki hamari bhavi piDhi tak ye pavan paramprayen sadaiv jivit rah saken. ye pustak isi lakshya ki prapti ka ek pryaas hai. ma aasha karti hoon, maihar ke angana avadh ke sabhi jan ke saath bhartiy lok sanskriti ke liye upyogi siddh hogi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products