Look Inside
Mahiyasi Mahadevi
Mahiyasi Mahadevi
Mahiyasi Mahadevi
Mahiyasi Mahadevi

Mahiyasi Mahadevi

Regular price Rs. 290
Sale price Rs. 290 Regular price Rs. 312
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mahiyasi Mahadevi

Mahiyasi Mahadevi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पाण्डेय जी की इस कृति का महत्त्व मैं कई दृष्टियों से मानता हूँ। महादेवी साहित्य के सम्बन्ध में हिन्दी–पाठकों की रुचि अब पहले से कई गुना अधिक बढ़ चुकी है, पर उसके कुतूहल के उपशय की सामग्री हिन्दी में अभी प्राय: नहीं के बराबर पाई जाती है। महादेवी के काव्य और गीत साहित्य की व्याख्या अभी तक यदि किसी ने ढंग से की है तो वह केवल पाण्डेय जी ने ही। महादेवी जी की एक–एक कविता, एक–एक गीत केवल अपने–आप में अनमोल मोती नहीं है, वरन् वह एक–एक मोती अपने–आप में अनेक अनमोल मोतियों को छिपाए हैं। और उनमें से प्रत्येक मोती को मोती बनने में जिन अपार साधनाओं और बाधाओं का सामना करना पड़ा है, उनकी व्याख्या किसी भी हालत में सहज–साधारण नहीं है। किसी भी सीप की मोती बनने की प्रक्रिया साधारण नहीं होती, फिर महादेवी मानस के मोती तो साहित्य–संसार में दुर्लभतम और अमूल्य निधि हैं। उनकी प्रक्रिया और भी जटिल है कि उनके लिए केवल स्वाति–नक्षत्र की ही आवश्यकता नहीं है, वरन् स्वाति–नक्षत्र के भी कुछ विशिष्ट ही दुर्लभ क्षणों या सुदुर्लभ संयोग की अत्यन्त आवश्यकता है और वह एक–एक क्षण भी अपने भीतर अन्तर्जीवन की किन रहस्यानुभूतियों का अधियोग सँजोए है, इसका ठीक–ठीक हिसाब लगा सकना आज किसी विद्वत्तम साहित्यालोचकों के लिए भी सहज–सम्भव नहीं रह गया है। इसके लिए चाहिए अन्तरतम की निगूढ़तम अनुभूति और सहज तादात्म्य, जो केवल पाण्डेय जी जैसे आलोचकों में ही सम्भव पाया जा सकता है। अतएव इस ग्रन्थ के भावी समीक्षकों से मेरा नम्र निवेदन है कि यदि वे समीक्षा के पूर्व उपरोक्त सभी तथ्यों पर विशेष ध्यान दिए बिना समीक्षा करने बैठ जाएँगे तो कभी इस अमूल्य रचना के साथ न्याय नहीं कर पाएँगे।
महादेवी जी की रचनाओं को आज एक बिलकुल ही नई दृष्टि से देखने व परखने की आवश्यकता आ पड़ी है। महादेवी जी जैसी कवयित्री का कोई उदाहरण विश्व–साहित्य के इतिहास के किसी भी युग में, किसी भी देश में शायद ही पाया गया है। उनके समान मौलिक चिन्तनशीलता और अछूती कल्पना का कोई उदाहरण कहीं भी सहज–सुलभ नहीं है, केवल भावना के क्षेत्र में ही उन्होंने निराली रसमयता का प्लावन नहीं बहाया है, वरन् वैचारिकता और चिन्तन के क्षेत्र में भी उनके समान प्रौढ़ और आत्मविश्वास–परायण नारी का जोड़ मिलना कठिन है। यह उपलब्धि केवल एक ही जन्म की साधना द्वारा सम्भव नहीं है, इसके लिए युग–युग की सांस्कृतिक चेतना के जन्म–जन्मान्तरीण विकास की अनिवार्य आवश्यकता है। पाण्डेय जी ने इसी कारण ‘सांस्कृतिक पृष्ठभूमि’ नाम से एक अलग अध्याय अपने गहन अध्ययन के फलस्वरूप इस ग्रन्थ में दिया है, जिसकी बहुत बड़ी आवश्यकता थी, साथ ही ‘महादेवी काव्य की पृष्ठभूमि’ शीर्षक से एक दूसरे महत्त्वपूर्ण अध्याय में उन्होंने महादेवी जी के सांस्कृतिक चेतना के विकास पर अतिरिक्त प्रकाश डालने का स्तुत्य प्रयास किया है। मुझे पूरा विश्वास है कि महादेवी साहित्य के अध्ययन के लिए जिस प्रकार की रचना के नितान्त अभाव का अनुभव पिछले कुछ दशकों में किया जा रहा था, उसकी पूर्ण पूर्ति इस ग्रन्थ द्वारा हो जाएगी। केवल इसी युग के साहित्य–श्रद्धेताओं के लिए नहीं, आनेवाली पीढ़ियों के लिए भी।
यह ग्रन्थ वास्तव में पाण्डेय जी की महत्त्वाकांक्षा के अनुरूप ही तैयार हुआ है और हिन्दी आलोचना–क्षेत्र में यह निश्चय ही एक विशिष्ट स्थान प्राप्त करके रहेगा, ऐसा मेरा विश्वास है।
—इलाचन्द्र जोशी Pandey ji ki is kriti ka mahattv main kai drishtiyon se manta hun. Mahadevi sahitya ke sambandh mein hindi–pathkon ki ruchi ab pahle se kai guna adhik badh chuki hai, par uske kutuhal ke upshay ki samagri hindi mein abhi pray: nahin ke barabar pai jati hai. Mahadevi ke kavya aur git sahitya ki vyakhya abhi tak yadi kisi ne dhang se ki hai to vah keval pandey ji ne hi. Mahadevi ji ki ek–ek kavita, ek–ek git keval apne–ap mein anmol moti nahin hai, varan vah ek–ek moti apne–ap mein anek anmol motiyon ko chhipaye hain. Aur unmen se pratyek moti ko moti banne mein jin apar sadhnaon aur badhaon ka samna karna pada hai, unki vyakhya kisi bhi halat mein sahaj–sadharan nahin hai. Kisi bhi sip ki moti banne ki prakriya sadharan nahin hoti, phir mahadevi manas ke moti to sahitya–sansar mein durlabhtam aur amulya nidhi hain. Unki prakriya aur bhi jatil hai ki unke liye keval svati–nakshatr ki hi aavashyakta nahin hai, varan svati–nakshatr ke bhi kuchh vishisht hi durlabh kshnon ya sudurlabh sanyog ki atyant aavashyakta hai aur vah ek–ek kshan bhi apne bhitar antarjivan ki kin rahasyanubhutiyon ka adhiyog sanjoe hai, iska thik–thik hisab laga sakna aaj kisi vidvattam sahityalochkon ke liye bhi sahaj–sambhav nahin rah gaya hai. Iske liye chahiye antartam ki nigudhtam anubhuti aur sahaj tadatmya, jo keval pandey ji jaise aalochkon mein hi sambhav paya ja sakta hai. Atev is granth ke bhavi samikshkon se mera namr nivedan hai ki yadi ve samiksha ke purv uprokt sabhi tathyon par vishesh dhyan diye bina samiksha karne baith jayenge to kabhi is amulya rachna ke saath nyay nahin kar payenge. Mahadevi ji ki rachnaon ko aaj ek bilkul hi nai drishti se dekhne va parakhne ki aavashyakta aa padi hai. Mahadevi ji jaisi kavyitri ka koi udahran vishv–sahitya ke itihas ke kisi bhi yug mein, kisi bhi desh mein shayad hi paya gaya hai. Unke saman maulik chintanshilta aur achhuti kalpna ka koi udahran kahin bhi sahaj–sulabh nahin hai, keval bhavna ke kshetr mein hi unhonne nirali rasamayta ka plavan nahin bahaya hai, varan vaicharikta aur chintan ke kshetr mein bhi unke saman praudh aur aatmvishvas–parayan nari ka jod milna kathin hai. Ye uplabdhi keval ek hi janm ki sadhna dvara sambhav nahin hai, iske liye yug–yug ki sanskritik chetna ke janm–janmantrin vikas ki anivarya aavashyakta hai. Pandey ji ne isi karan ‘sanskritik prishthbhumi’ naam se ek alag adhyay apne gahan adhyyan ke phalasvrup is granth mein diya hai, jiski bahut badi aavashyakta thi, saath hi ‘mahadevi kavya ki prishthbhumi’ shirshak se ek dusre mahattvpurn adhyay mein unhonne mahadevi ji ke sanskritik chetna ke vikas par atirikt prkash dalne ka stutya pryas kiya hai. Mujhe pura vishvas hai ki mahadevi sahitya ke adhyyan ke liye jis prkar ki rachna ke nitant abhav ka anubhav pichhle kuchh dashkon mein kiya ja raha tha, uski purn purti is granth dvara ho jayegi. Keval isi yug ke sahitya–shraddhetaon ke liye nahin, aanevali pidhiyon ke liye bhi.
Ye granth vastav mein pandey ji ki mahattvakanksha ke anurup hi taiyar hua hai aur hindi aalochna–kshetr mein ye nishchay hi ek vishisht sthan prapt karke rahega, aisa mera vishvas hai.
—ilachandr joshi

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products