Look Inside
Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha
Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha
Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha
Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha

Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha

Mahila Sashaktikaran : Dasha Aur Disha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महिलाओँ की संख्या विश्व की जनसंख्या से लगभग आधी है। उनके उन्नयन के बिना परिवार, समाज व राष्ट्र की प्रगति सम्भव नहीं है। आज वे विभिन्न क्षेत्रों में अपनी योग्यताओं एवं क्षमताओं को उजागर कर रही हैं, जागरूकता एवं आत्मनिर्भरता की ओर उन्मुख हैं। पहले की अपेक्षा उनकी स्थिति में सुधार हुआ है, अधिकारों एवं सुरक्षा में बढ़ोतरी भी हुई है। अब भी वे मंज़िल से दूर हैं, उन्हें यह सब कुछ प्राप्त नहीं हो सका है जो उनका अभीष्ट है। उनके विरुद्ध होनेवाले अपराधों में विगत की तुलना में वृद्धि हुई है। यद्यपि नए और कठोर क़ानून भी बने हैं लेकिन प्रभावी क्रियान्वयन तथा सामाजिक चेतना के अभाव में सशक्तीकरण कर लक्ष्य पूर्ण नहीं हो सका है।
महिलाओं की उपेक्षा करने की प्रवृत्ति को त्यागकर कुकृत्यों के विरुद्ध आवाज़ उठानी होगी तथा विधिक कार्यवाही के प्रति तत्पर होना होगा। तभी उन्हें प्रताड़ना, अत्याचार एवं शोषण से मुक्ति सम्भव होगी। Mahilaon ki sankhya vishv ki jansankhya se lagbhag aadhi hai. Unke unnyan ke bina parivar, samaj va rashtr ki pragati sambhav nahin hai. Aaj ve vibhinn kshetron mein apni yogytaon evan kshamtaon ko ujagar kar rahi hain, jagrukta evan aatmnirbharta ki or unmukh hain. Pahle ki apeksha unki sthiti mein sudhar hua hai, adhikaron evan suraksha mein badhotri bhi hui hai. Ab bhi ve manzil se dur hain, unhen ye sab kuchh prapt nahin ho saka hai jo unka abhisht hai. Unke viruddh honevale apradhon mein vigat ki tulna mein vriddhi hui hai. Yadyapi ne aur kathor qanun bhi bane hain lekin prbhavi kriyanvyan tatha samajik chetna ke abhav mein sashaktikran kar lakshya purn nahin ho saka hai. Mahilaon ki upeksha karne ki prvritti ko tyagkar kukrityon ke viruddh aavaz uthani hogi tatha vidhik karyvahi ke prati tatpar hona hoga. Tabhi unhen prtadna, atyachar evan shoshan se mukti sambhav hogi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products