Mahashakti Bharat

Regular price Rs. 558
Sale price Rs. 558 Regular price Rs. 600
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mahashakti Bharat

Mahashakti Bharat

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस ग्रन्थ के निबन्धों और हमारी वर्तमान विदेश नीति में एक तरह से आँख–मिचौनी चलती रहती है। कभी विदेश नीति आगे होती है और निबन्ध पीछे और कभी निबन्ध आगे होते हैं और विदेश नीति पीछे। जब निबन्ध पीछे–पीछे चलता है तो वह हर विदेश नीति से सम्बन्धित पहल की चीर–फाड़ करता है, कार्य–कारण में उतरता है, जड़ों तक पहुँचता है और दूध को दूध और पानी को पानी कहता है। ताँगे में जुते घोड़े को वह अगर पुचकारता है तो कभी–कभी उस पर चाबुक भी बरसाता है। इसके अलावा यह भी बताता है कि सरकार ने किसी ख़ास मुद्दे पर जो पहल की है, उसे वह बेतहर ढंग से कैसे उठा सकती थी। जब निबन्ध आगे–आगे चलता है तो उसकी कोशिश होती है कि विदेश नीति को वह अपने पीछे खींचता चले।
भारत सरकार की पाकिस्तान–नीति की विचित्रताएँ और वक्रताएँ इन निबन्धों में जमकर अनावृत हुई हैं। लाहौर का आकाश और आगरा की खाई इस लेखक को जैसे पहले से दिखाई पड़ रही थी, अगर भारत सरकार को भी दिखाई पड़ जाती तो जिस निराशा के दौर में वह बाद में फँसी, वह नहीं फँसती। अन्य पड़ोसी देशों और महाशक्तियों के साथ भारत के सम्बन्धों के अन्त:सूत्रों को खोजने और उन्हें नए आयाम देने का प्रयत्न भी इन निबन्धों में हुआ है।
इस ग्रन्थ के अधिकतर निबन्ध तात्कालिक प्रतिक्रिया के रूप में हैं लेकिन हर तत्काल की जड़ें कई कालों तक फैली हुई होती हैं। व्यक्ति के अपने, अन्य व्यक्तियों के, राष्ट्रों के, संस्कृतियों के कालों तक। कालों के विशेष अनुभवों तक। प्रत्येक विश्लेषण में, वह कितना ही तात्कालिक हो, इन सब अनुभवों का निकष होता है। और सबसे बड़ी बात यह कि अपने मस्तिष्क में अगर कोई चिन्तन का ढाँचा हो, चिन्तन–प्रणाली हो तो अलग–अलग समय पर पिरोए गए अलग–अलग आकार–प्रकार के मोती भी अपने–आप सुघड़ माला का रूप धारण करते चले जाते हैं। वाद्य–यंत्रों की विभिन्नता के बावजूद जैसे आर्केस्ट्रा का संगीत समवेत और समरस होता है, वैसे ही विभिन्न विषयों और विभिन्न तिथियों पर लिखे गए ये निबन्ध पाठकों को विदेश नीति चिन्तन की एक प्रणाली के अनुशासन में बँधे हुए लगेंगे। Is granth ke nibandhon aur hamari vartman videsh niti mein ek tarah se aankh–michauni chalti rahti hai. Kabhi videsh niti aage hoti hai aur nibandh pichhe aur kabhi nibandh aage hote hain aur videsh niti pichhe. Jab nibandh pichhe–pichhe chalta hai to vah har videsh niti se sambandhit pahal ki chir–phad karta hai, karya–karan mein utarta hai, jadon tak pahunchata hai aur dudh ko dudh aur pani ko pani kahta hai. Tange mein jute ghode ko vah agar puchkarta hai to kabhi–kabhi us par chabuk bhi barsata hai. Iske alava ye bhi batata hai ki sarkar ne kisi khas mudde par jo pahal ki hai, use vah bethar dhang se kaise utha sakti thi. Jab nibandh aage–age chalta hai to uski koshish hoti hai ki videsh niti ko vah apne pichhe khinchta chale. Bharat sarkar ki pakistan–niti ki vichitrtayen aur vakrtayen in nibandhon mein jamkar anavrit hui hain. Lahaur ka aakash aur aagra ki khai is lekhak ko jaise pahle se dikhai pad rahi thi, agar bharat sarkar ko bhi dikhai pad jati to jis nirasha ke daur mein vah baad mein phansi, vah nahin phansati. Anya padosi deshon aur mahashaktiyon ke saath bharat ke sambandhon ke ant:sutron ko khojne aur unhen ne aayam dene ka pryatn bhi in nibandhon mein hua hai.
Is granth ke adhiktar nibandh tatkalik prtikriya ke rup mein hain lekin har tatkal ki jaden kai kalon tak phaili hui hoti hain. Vyakti ke apne, anya vyaktiyon ke, rashtron ke, sanskritiyon ke kalon tak. Kalon ke vishesh anubhvon tak. Pratyek vishleshan mein, vah kitna hi tatkalik ho, in sab anubhvon ka nikash hota hai. Aur sabse badi baat ye ki apne mastishk mein agar koi chintan ka dhancha ho, chintan–prnali ho to alag–alag samay par piroe ge alag–alag aakar–prkar ke moti bhi apne–ap sughad mala ka rup dharan karte chale jate hain. Vadya–yantron ki vibhinnta ke bavjud jaise aarkestra ka sangit samvet aur samras hota hai, vaise hi vibhinn vishyon aur vibhinn tithiyon par likhe ge ye nibandh pathkon ko videsh niti chintan ki ek prnali ke anushasan mein bandhe hue lagenge.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products