Look Inside
Mahamanav Mahapandit
Mahamanav Mahapandit
Mahamanav Mahapandit
Mahamanav Mahapandit
Mahamanav Mahapandit
Mahamanav Mahapandit

Mahamanav Mahapandit

Regular price Rs. 327
Sale price Rs. 327 Regular price Rs. 352
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mahamanav Mahapandit

Mahamanav Mahapandit

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महामानव महापण्डित’ शीर्षक यह कृति भारतीय साहित्य के अप्रतिम क्रान्तिधर्मी रचनाकार राहुल सांकृत्यायन के व्यक्तित्व और कृतित्व पर केन्द्रित है। लेकिन इसका महत्त्व सिर्फ़ यही नहीं है, बल्कि यह भी है कि राहुल-व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को उनकी ही अन्तरंग आँखों ने देखा और लेखा है। ज़ाहिर है, कमला सांकृत्यायन की क़लम से लिखे गए ये संस्मरणात्मक और मूल्यांकनपरक लेख एक गहरी आत्मीयता से तो आप्लावित हैं ही, अपनी पारदर्शिता में भी विशिष्ट हैं। आकस्मिक नहीं कि पुस्तक के नाम में पहले 'महामानव’ शब्द है और फिर 'महापण्डित’।
पुस्तक में कुल पन्द्रह लेख हैं। इनमें से कुछ तो राहुल जी के लेखकीय, बौद्धिक कर्म का विवेचन करते हैं और कुछ उनके स्वभाव, पारिवारिक जीवनचर्या एवं रुचियों आदि को उजागर करते हैं। ऐसा करते हुए इन लेखों में जो श्रद्धाभाव है, उसके साथ एक प्रकार की नि:संगता भी है, जिससे यह कृति अनावश्यक भावुकता से मुक्त रह सकी है।
कहने की आवश्यकता नहीं कि इस पुस्तक से गुजरते हुए पाठकगण राहुल जी को अपने बहुत निकट महसूस कर सकेंगे। Mahamanav mahapandit’ shirshak ye kriti bhartiy sahitya ke aprtim krantidharmi rachnakar rahul sankrityayan ke vyaktitv aur krititv par kendrit hai. Lekin iska mahattv sirf yahi nahin hai, balki ye bhi hai ki rahul-vyaktitv ke vibhinn pahaluon ko unki hi antrang aankhon ne dekha aur lekha hai. Zahir hai, kamla sankrityayan ki qalam se likhe ge ye sansmarnatmak aur mulyankanaprak lekh ek gahri aatmiyta se to aaplavit hain hi, apni pardarshita mein bhi vishisht hain. Aakasmik nahin ki pustak ke naam mein pahle mahamanav’ shabd hai aur phir mahapandit’. Pustak mein kul pandrah lekh hain. Inmen se kuchh to rahul ji ke lekhkiy, bauddhik karm ka vivechan karte hain aur kuchh unke svbhav, parivarik jivancharya evan ruchiyon aadi ko ujagar karte hain. Aisa karte hue in lekhon mein jo shraddhabhav hai, uske saath ek prkar ki ni:sangta bhi hai, jisse ye kriti anavashyak bhavukta se mukt rah saki hai.
Kahne ki aavashyakta nahin ki is pustak se gujarte hue pathakgan rahul ji ko apne bahut nikat mahsus kar sakenge.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products