BackBack
-11%

Madhyakalin Bharat mein Prodhyogiki

Irfan Habib

Rs. 450 Rs. 401

‘भारत का लोक इतिहास’ श्रृंखला की यह कड़ी भारतीय इतिहास के उस पहलू पर दृष्टिपात करती है जिस पर अभी तक बहुत कम काम हुआ है। इसमें आमजन के साधारणतम औज़ारों से लेकर खगोल-वैज्ञानिकों के उपकरणों और युद्ध में काम आनेवाले हथियारों तक के विकास को रेखांकित किया गया है।... Read More

BlackBlack
Description

‘भारत का लोक इतिहास’ श्रृंखला की यह कड़ी भारतीय इतिहास के उस पहलू पर दृष्टिपात करती है जिस पर अभी तक बहुत कम काम हुआ है। इसमें आमजन के साधारणतम औज़ारों से लेकर खगोल-वैज्ञानिकों के उपकरणों और युद्ध में काम आनेवाले हथियारों तक के विकास को रेखांकित किया गया है। अध्ययन का मुख्य तत्त्व यह है कि यह पूर्णतया ऐतिहासिक है, तकनीक के विकास-क्रम की खोज न सिर्फ़ प्रमाणों के साथ की गई है, बल्कि उनके सामाजिक और आर्थिक परिणामों को भी विस्तार से समझा गया है।
श्रृंखला की अन्य पुस्तकों की तरह इसमें भी मूल दस्तावेज़ों के उद्धरणों और आधुनिक-पूर्व तकनीक के विषय में विशिष्ट सूचनाएँ दी गई हैं। तकनीकी शब्दावली, तकनीक के ऐतिहासिक स्रोतों और भारत से बाहर विकसित होनेवाली मध्यकालीन तकनीक पर विशेष टिप्पणियाँ भी दी गई हैं।
छात्रों और सामान्य पाठकों को ध्यान में रखते हुए कोशिश की गई है कि प्रामाणिकता को हानि पहुँचाए बिना पुस्तक जितनी सरल हो सकती है, उतनी हो सके। उम्मीद है कि सिर्फ़ इतिहासकारों को ही नहीं, हर उस पाठक को यह प्रस्तुति मूल्यवान लगेगी जो यह जानना चाहते हैं कि प्राचीन युग में जनसाधारण, आम स्त्री और पुरुषों ने अपने हाथों और औज़ारों से क्या कुछ किया। ‘bharat ka lok itihas’ shrrinkhla ki ye kadi bhartiy itihas ke us pahlu par drishtipat karti hai jis par abhi tak bahut kam kaam hua hai. Ismen aamjan ke sadharantam auzaron se lekar khagol-vaigyanikon ke upakarnon aur yuddh mein kaam aanevale hathiyaron tak ke vikas ko rekhankit kiya gaya hai. Adhyyan ka mukhya tattv ye hai ki ye purnatya aitihasik hai, taknik ke vikas-kram ki khoj na sirf prmanon ke saath ki gai hai, balki unke samajik aur aarthik parinamon ko bhi vistar se samjha gaya hai. Shrrinkhla ki anya pustkon ki tarah ismen bhi mul dastavezon ke uddharnon aur aadhunik-purv taknik ke vishay mein vishisht suchnayen di gai hain. Takniki shabdavli, taknik ke aitihasik sroton aur bharat se bahar viksit honevali madhykalin taknik par vishesh tippaniyan bhi di gai hain.
Chhatron aur samanya pathkon ko dhyan mein rakhte hue koshish ki gai hai ki pramanikta ko hani pahunchaye bina pustak jitni saral ho sakti hai, utni ho sake. Ummid hai ki sirf itihaskaron ko hi nahin, har us pathak ko ye prastuti mulyvan lagegi jo ye janna chahte hain ki prachin yug mein jansadharan, aam stri aur purushon ne apne hathon aur auzaron se kya kuchh kiya.