BackBack
-11%

Madhavi

Bhishma Sahni

Rs. 350 Rs. 312

प्रख्यात लेखक भीष्म साहनी का यह तीसरा नाटक ‘माधवी’ महाभारत की एक कथा पर आधारित है। ऋषि विश्वामित्र का शिष्य गालव अपनी शिक्षा समाप्ति के समय गुरु-दक्षिणा देने की हठ करता है और विश्वामित्र उसके हठी स्वभाव से क्रुद्ध होकर आठ सौ अश्वमेधी घोड़े माँग लेते हैं। अश्वमेधी घोड़ों की... Read More

BlackBlack
Description

प्रख्यात लेखक भीष्म साहनी का यह तीसरा नाटक ‘माधवी’ महाभारत की एक कथा पर आधारित है। ऋषि विश्वामित्र का शिष्य गालव अपनी शिक्षा समाप्ति के समय गुरु-दक्षिणा देने की हठ करता है और विश्वामित्र उसके हठी स्वभाव से क्रुद्ध होकर आठ सौ अश्वमेधी घोड़े माँग लेते हैं। अश्वमेधी घोड़ों की खोज में भटकता हुआ गालव अन्‍त में दानवीर राजा ययाति के आश्रम में पहुँचता है। राज-पाट से निवृत्त राजा ययाति गालव की प्रतिज्ञा सुनकर असमंजस में पड़ जाते हैं, किन्तु वे दैवी गुणों से युक्त अपनी एकमात्र पुत्री माधवी को, यह कहकर उसे सौंप देते हैं कि जहाँ कहीं किसी भी राजा के पास आठ सौ अश्वमेधी घोड़े मिलें, उनके बदले वह माधवी को राजा के पास छोड़ दें। माधवी के बारे में कहा गया है कि उसके गर्भ से उत्पन्न बालक चक्रवर्ती राजा बनेगा।
यहीं से माधवी की कथा आरम्भ होती है। अनूठे और मर्मस्पर्शी घटना-चक्र में गुज़रते हुए, इस नाटक के प्रधान पात्र—माधवी, गालव, ययाति, विश्वामित्र और अनेक राजागण अपनी-अपनी भूमिका निभाते हैं, और एक विकट, हृदयग्राही मानवीय स्थिति के परिप्रेक्ष्य में, ये चरित्र नए-नए आयाम ग्रहण करते हैं। इनके केन्द्र में ययाति-कन्या माधवी है, जो लगभग एक अलौकिक मिथकीय परिवेश में रहते-बसते हुए भी अत्यधिक सजीव, सर्वथा प्रासंगिक और आकर्षक बनकर उभरती है। Prakhyat lekhak bhishm sahni ka ye tisra natak ‘madhvi’ mahabharat ki ek katha par aadharit hai. Rishi vishvamitr ka shishya galav apni shiksha samapti ke samay guru-dakshina dene ki hath karta hai aur vishvamitr uske hathi svbhav se kruddh hokar aath sau ashvmedhi ghode mang lete hain. Ashvmedhi ghodon ki khoj mein bhatakta hua galav an‍ta mein danvir raja yayati ke aashram mein pahunchata hai. Raj-pat se nivritt raja yayati galav ki prtigya sunkar asmanjas mein pad jate hain, kintu ve daivi gunon se yukt apni ekmatr putri madhvi ko, ye kahkar use saump dete hain ki jahan kahin kisi bhi raja ke paas aath sau ashvmedhi ghode milen, unke badle vah madhvi ko raja ke paas chhod den. Madhvi ke bare mein kaha gaya hai ki uske garbh se utpann balak chakrvarti raja banega. Yahin se madhvi ki katha aarambh hoti hai. Anuthe aur marmasparshi ghatna-chakr mein guzarte hue, is natak ke prdhan patr—madhvi, galav, yayati, vishvamitr aur anek rajagan apni-apni bhumika nibhate hain, aur ek vikat, hridyagrahi manviy sthiti ke pariprekshya mein, ye charitr ne-ne aayam grhan karte hain. Inke kendr mein yayati-kanya madhvi hai, jo lagbhag ek alaukik mithkiy parivesh mein rahte-baste hue bhi atydhik sajiv, sarvtha prasangik aur aakarshak bankar ubharti hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year