Machhali Mari Hui : Stri Samlaingita Ko Rekhankit Karta Upanyas

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Machhali Mari Hui : Stri Samlaingita Ko Rekhankit Karta Upanyas

Machhali Mari Hui : Stri Samlaingita Ko Rekhankit Karta Upanyas

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी के प्रख्यात रचनाकार राजकमल चौधरी की बहुचर्चित-बहुप्रशंसित कृति है ‘मछली मरी हुई’। लेखक ने अपनी इस महत्त्वाकांक्षी कृति में जहाँ महानगर कलकत्ता के उद्योग जगत की प्रामाणिक और सजीव तस्वीर प्रस्तुत की है, वहीं आनुषंगिक विषय के रूप में समलैंगिक स्त्रियों के रति-आचरण का भी इस उपन्यास में सजीव चित्रण किया है। इसमें ठनकती हुई शब्दावली और मछली के प्रतीक का ऐसा सर्जनात्मक प्रयोग किया गया है कि समलैंगिक रति-व्यापार तनिक भी फूहड़ नहीं हुआ है। इन पात्रों को लेखक की करुणा सर्वत्र सींचती रहती है।
उपन्यास का प्रमुख पात्र निर्मल पद्मावत हिन्दी उपन्यास साहित्य का अविस्मरणीय चरित्र है। हिंस्र पशुता और संवेदनशीलता का, आक्रामकता और उदासी का, सजगता और अजनबीपन का, शक्ति और दुर्बलता का ऐसा दुर्लभ मिश्रण हिन्दी के शायद ही किसी उपन्यास में मिलेगा।
‘मछली मरी हुई’ के अधिकांश पात्र मानसिक विकृतियों के शिकार हैं, पर उपन्यासकार ने उनके कारणों की तरफ़ संकेत कर अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता का परिचय दिया है। यह प्रतिबद्धता उद्योगपतियों के व्यावसायिक षड्यंत्र, भ्रष्ट आचरण आदि की विवेकपूर्ण आलोचना के रूप में भी दिखाई देती है। इस उपन्यास के केन्द्रीय पात्र निर्मल पद्मावत की कर्मठता, मज़दूरों के प्रति उदार दृष्टिकोण, छद्म आचरण के प्रति घृणा, किसी भी हालत में रिश्वत न देने की दृढ़ता, ऊपर से हिंस्र जानवर जैसा दिखने पर भी अपनी माँ, पत्नी और अन्य स्त्रियों के प्रति गहरी संवेदनशीलता—ये सारी बातें उपन्यासकार के गहरे नैतिकता-बोध के प्रमाण हैं।
‘मछली मरी हुई’ राजकमल चौधरी का सर्वश्रेष्ठ उपन्यास है। इस उपन्यास को स्त्री-समलैंगिकता पर केन्द्रित भी माना जाता रहा है, जिसका कारण शायद यह है कि काफ़ी शोध के बाद ही लेखक ने इस विषय को यहाँ उठाया है। Hindi ke prakhyat rachnakar rajakmal chaudhri ki bahucharchit-bahuprshansit kriti hai ‘machhli mari hui’. Lekhak ne apni is mahattvakankshi kriti mein jahan mahangar kalkatta ke udyog jagat ki pramanik aur sajiv tasvir prastut ki hai, vahin aanushangik vishay ke rup mein samlaingik striyon ke rati-achran ka bhi is upanyas mein sajiv chitran kiya hai. Ismen thanakti hui shabdavli aur machhli ke prtik ka aisa sarjnatmak pryog kiya gaya hai ki samlaingik rati-vyapar tanik bhi phuhad nahin hua hai. In patron ko lekhak ki karuna sarvatr sinchti rahti hai. Upanyas ka prmukh patr nirmal padmavat hindi upanyas sahitya ka avismarniy charitr hai. Hinsr pashuta aur sanvedanshilta ka, aakramakta aur udasi ka, sajagta aur ajanbipan ka, shakti aur durbalta ka aisa durlabh mishran hindi ke shayad hi kisi upanyas mein milega.
‘machhli mari hui’ ke adhikansh patr mansik vikritiyon ke shikar hain, par upanyaskar ne unke karnon ki taraf sanket kar apni samajik pratibaddhta ka parichay diya hai. Ye pratibaddhta udyogapatiyon ke vyavsayik shadyantr, bhrasht aachran aadi ki vivekpurn aalochna ke rup mein bhi dikhai deti hai. Is upanyas ke kendriy patr nirmal padmavat ki karmathta, mazduron ke prati udar drishtikon, chhadm aachran ke prati ghrina, kisi bhi halat mein rishvat na dene ki dridhta, uupar se hinsr janvar jaisa dikhne par bhi apni man, patni aur anya striyon ke prati gahri sanvedanshilta—ye sari baten upanyaskar ke gahre naitikta-bodh ke prman hain.
‘machhli mari hui’ rajakmal chaudhri ka sarvashreshth upanyas hai. Is upanyas ko stri-samlaingikta par kendrit bhi mana jata raha hai, jiska karan shayad ye hai ki kafi shodh ke baad hi lekhak ne is vishay ko yahan uthaya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products