Lucknow Ki Panch Raten

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Lucknow Ki Panch Raten

Lucknow Ki Panch Raten

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उर्दू के आधुनिक लेखक और कवि अली सरदार जाफ़री प्रगतिशील आन्दोलन के अगुआ रहे। न केवल स्वतंत्रता-सेनानी और आन्दोलन के कार्यकर्ता के रूप में उन्होंने योगदान दिया, बल्कि कविता के अलावा गद्य-लेखन और विशेषकर भक्ति आन्दोलन पर मौलिक कार्य भी किया।
सरदार जाफ़री विख्यात मानवतावादी कवि पाब्लो नेरूदा और तुर्की कवि के मित्र रहे। उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में जन्मे जाफरी ने दुनिया भी देखी और वक़्त के थपेड़े भी खाए। ‘लखनऊ की पाँच रातें’ यात्राओं, दोस्तियों और देश-विदेश में फैले जाने-अनजाने व्यक्तियों के बारे में लिखी किताब है। यह यात्रा-वृत्तान्त, संस्मरण, आत्म-स्मरण और रेखाचित्र—सबका मिला-जुला रूप है, लेकिन इसमें ज़बर्दस्त पठनीयता है।
बलरामपुर से मुम्बई और विदेश तक के सफ़र में अलीगढ़ के पड़ाव पर के.एम. अशरफ़ जैसे शिक्षक, मुहम्मद हबीब, इरफ़ान हबीब जैसे इतिहासकार, सज्जाद जहीर, ख़्वाजा अहमद अब्बास तथा इस्मत चुग़ताई जैसे प्रसिद्ध लेखकों का संग-साथ मिला। लखनऊ के पड़ाव पर सिब्ते हसन, यशपाल, रशीद जहाँ और मजाज़ मिले। ‘लखनऊ की पाँच रातें’ एक तरह से मजाज़ पर है।
दुर्लभ संस्मरणों की इस किताब में छोटे-छोटे मगर बड़ी अहमियत वाले प्रसंग आते जाते हैं तो उस सुनहरे दौर की रील आँखों के सामने घूम जाती है।
रूसी डाक्टरनी गेलेना से लेकर काक्स बाज़ार की चेहरू माँझी जैसी बेमिसाल स्त्रियों को भुलाना मुश्किल है। यह छोटी-सी ख़ूबसूरत किताब हर घर की शान समझी जाएगी। Urdu ke aadhunik lekhak aur kavi ali sardar jafri pragatishil aandolan ke agua rahe. Na keval svtantrta-senani aur aandolan ke karykarta ke rup mein unhonne yogdan diya, balki kavita ke alava gadya-lekhan aur visheshkar bhakti aandolan par maulik karya bhi kiya. Sardar jafri vikhyat manavtavadi kavi pablo neruda aur turki kavi ke mitr rahe. Uttar prdesh ke balrampur mein janme japhri ne duniya bhi dekhi aur vaqt ke thapede bhi khaye. ‘lakhanuu ki panch raten’ yatraon, dostiyon aur desh-videsh mein phaile jane-anjane vyaktiyon ke bare mein likhi kitab hai. Ye yatra-vrittant, sansmran, aatm-smran aur rekhachitr—sabka mila-jula rup hai, lekin ismen zabardast pathniyta hai.
Balrampur se mumbii aur videsh tak ke safar mein aligadh ke padav par ke. Em. Ashraf jaise shikshak, muhammad habib, irfan habib jaise itihaskar, sajjad jahir, khvaja ahmad abbas tatha ismat chugtai jaise prsiddh lekhkon ka sang-sath mila. Lakhanuu ke padav par sibte hasan, yashpal, rashid jahan aur majaz mile. ‘lakhanuu ki panch raten’ ek tarah se majaz par hai.
Durlabh sansmarnon ki is kitab mein chhote-chhote magar badi ahamiyat vale prsang aate jate hain to us sunahre daur ki ril aankhon ke samne ghum jati hai.
Rusi daktarni gelena se lekar kaks bazar ki chehru manjhi jaisi bemisal striyon ko bhulana mushkil hai. Ye chhoti-si khubsurat kitab har ghar ki shan samjhi jayegi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products