Look Inside
Lokpriyata Ke Shikhar Geet
Lokpriyata Ke Shikhar Geet
Lokpriyata Ke Shikhar Geet
Lokpriyata Ke Shikhar Geet

Lokpriyata Ke Shikhar Geet

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Lokpriyata Ke Shikhar Geet Rajkamal

Lokpriyata Ke Shikhar Geet

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

गीत तो गंगा की पावन पवित्र धारा के समान है। गीत का इतिहास बताता है कि हज़ारों वर्षों से चली आ रही इस परम्परा के साथ भले ही वक़्त छेड़छाड़ करता रहा हो, लेकिन उसके मूल स्वरूप को कोई नहीं बिगाड़ पाया, इसलिए ये गंगा पहले भी अपनी शान्त लहरों से जनमानस को आप्लावित करती रही और आज भी कर रही है।
मनुष्य के जन्म से लेकर मृत्यु तक, गीत अपना अस्तित्व बनाए रखता है, इसलिए हर अवसर पर गीत किसी न किसी रूप में हमारे सामने आकर खड़ा हो जाता है। वैसे अब तक गीतों के अनेक संकलन प्रकाशित हो चुके हैं लेकिन यह संकलन कई मायनों में अपने आप में इसलिए अनूठा है कि इसमें उन गीतों को शामिल किया गया है जो अपने समय में लोगों के गले का कंठहार बने। ये गीत इतने लोकप्रिय हुए कि कवि की पहचान बन गए।
प्रस्तुत संकलन में काव्य मंच के सभी लोकप्रिय गीतकारों के सर्वप्रिय, चर्चित गीतों को तो शामिल किया गया है, इसके अलावा उन गीतों को भी स्थान दिया गया है जो गीत लोकप्रिय तो होने चाहिए थे, लेकिन उन्हें समय पर उचित मंच नहीं मिला। इसलिए गीतकारों के गीतों की संख्या में भी समानुपात नहीं रखा गया है।
विश्वास है, हिन्दी गीतों का यह ख़ूबसूरत गुलदस्ता हिन्दी काव्य-प्रेमियों को महक तो देगा ही, साथ में तृप्ति का आभास भी कराएगा...। Git to ganga ki pavan pavitr dhara ke saman hai. Git ka itihas batata hai ki hazaron varshon se chali aa rahi is parampra ke saath bhale hi vaqt chhedchhad karta raha ho, lekin uske mul svrup ko koi nahin bigad paya, isaliye ye ganga pahle bhi apni shant lahron se janmanas ko aaplavit karti rahi aur aaj bhi kar rahi hai. Manushya ke janm se lekar mrityu tak, git apna astitv banaye rakhta hai, isaliye har avsar par git kisi na kisi rup mein hamare samne aakar khada ho jata hai. Vaise ab tak giton ke anek sanklan prkashit ho chuke hain lekin ye sanklan kai maynon mein apne aap mein isaliye anutha hai ki ismen un giton ko shamil kiya gaya hai jo apne samay mein logon ke gale ka kanthhar bane. Ye git itne lokapriy hue ki kavi ki pahchan ban ge.
Prastut sanklan mein kavya manch ke sabhi lokapriy gitkaron ke sarvapriy, charchit giton ko to shamil kiya gaya hai, iske alava un giton ko bhi sthan diya gaya hai jo git lokapriy to hone chahiye the, lekin unhen samay par uchit manch nahin mila. Isaliye gitkaron ke giton ki sankhya mein bhi samanupat nahin rakha gaya hai.
Vishvas hai, hindi giton ka ye khubsurat guldasta hindi kavya-premiyon ko mahak to dega hi, saath mein tripti ka aabhas bhi karayega. . . .

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products