Look Inside
Lok Sanskriti Ki Rooprekha
Lok Sanskriti Ki Rooprekha

Lok Sanskriti Ki Rooprekha

Regular price ₹ 698
Sale price ₹ 698 Regular price ₹ 750
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Lok Sanskriti Ki Rooprekha

Lok Sanskriti Ki Rooprekha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

लोक-साहित्य लोक-संस्कृति की एक महत्त्वपूर्ण इकाई है। यह इसका अविच्छिन्न अंग अथवा अवयव है। जब से लोक-साहित्य का भारतीय विश्वविद्यालयों में अध्ययन तथा अध्यापन के लिए प्रवेश हुआ है, तब से इस विषय को लेकर अनेक महत्त्वपूर्ण ग्रन्थों की रचना हुई है। प्रस्तुत ग्रन्थ को छह खंडों तथा 18 अध्यायों में विभक्त किया गया है।
प्रथम अध्याय में लोक-संस्कृति शब्द के जन्म की कथा, इसका अर्थ, इसकी परिभाषा, सभ्यता और संस्कृति में अन्तर, लोक-साहित्य तथा लोक-संस्कृति में अन्तर, हिन्दी में फोक लोर का समानार्थक शब्द लोक-संस्कृति तथा लोक-संस्कृति के विराट स्वरूप की मीमांसा की गई है। दि्वतीय अध्याय में लोक-संस्कृति के अध्ययन का इतिहास प्रस्तुत किया गया है। यूरोप के विभिन्न देशों जैसे—जर्मनी, फ़्रांस, इंग्लैंड, स्वीडेन तथा फ़िनलैंड आदि में लोक-साहित्य का अध्ययन किन विद्वानों द्वारा किया गया, इसकी संक्षिप्त चर्चा की गई है।
दि्वतीय खंड पूर्णतया लोक-विश्वासों से सम्बन्धित है। अतः आकाश-लोक और भू-लोक में जितनी भी वस्तुएँ उपलब्ध हैं और उनके सम्बन्ध में जो भी लोक-विश्वास समाज में प्रचलित है, उनका सांगोपांग विवेचन इस खंड में प्रस्तुत किया गया है।
तीसरे खंड में सामाजिक संस्थाओं का वर्णन किया है जिसमें दो अध्याय हैं—(1) वर्ण और आश्रम तथा (2) संस्कार। वर्ण के अन्तर्गत ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य एवं शूद्रों के कर्तव्य, अधिकार तथा समाज में इनके स्थान का प्रतिपादन किया गया है। चौथे खंड में आश्रम वाले प्रकरण में चारों आश्रमों की चर्चा की गई है। जातिप्रथा से होनेवाले लाभ तथा हानियों की चर्चा के पश्चात् संयुक्त परिवार के सदस्यों के कर्तव्यों का परिचय दिया गया है।
पंचम खंड में ललित कलाओं का विवरण प्रस्तुत किया गया है। इन कलाओं के अन्तर्गत संगीतकला, नृत्यकला, नाट्यकला, वास्तुकला, चित्रकला, मूर्तिकला आती हैं। संगीत लोकगीतों का प्राण है। इसके बिना लोकगीत निष्प्राण, निर्जीव तथा नीरस है।
षष्ठ तथा अन्तिम खंड में लोक-साहित्य का समास रूप में विवेचन प्रस्तुत किया गया है। लोक-साहित्य का पाँच श्रेणियों में विभाजन करके, प्रत्येक वर्ग की विशिष्टता दिखलाई गई है। Lok-sahitya lok-sanskriti ki ek mahattvpurn ikai hai. Ye iska avichchhinn ang athva avyav hai. Jab se lok-sahitya ka bhartiy vishvvidyalyon mein adhyyan tatha adhyapan ke liye prvesh hua hai, tab se is vishay ko lekar anek mahattvpurn granthon ki rachna hui hai. Prastut granth ko chhah khandon tatha 18 adhyayon mein vibhakt kiya gaya hai. Prtham adhyay mein lok-sanskriti shabd ke janm ki katha, iska arth, iski paribhasha, sabhyta aur sanskriti mein antar, lok-sahitya tatha lok-sanskriti mein antar, hindi mein phok lor ka samanarthak shabd lok-sanskriti tatha lok-sanskriti ke virat svrup ki mimansa ki gai hai. Dixvatiy adhyay mein lok-sanskriti ke adhyyan ka itihas prastut kiya gaya hai. Yurop ke vibhinn deshon jaise—jarmni, frans, inglaind, sviden tatha finlaind aadi mein lok-sahitya ka adhyyan kin vidvanon dvara kiya gaya, iski sankshipt charcha ki gai hai.
Dixvatiy khand purnatya lok-vishvason se sambandhit hai. Atः aakash-lok aur bhu-lok mein jitni bhi vastuen uplabdh hain aur unke sambandh mein jo bhi lok-vishvas samaj mein prachlit hai, unka sangopang vivechan is khand mein prastut kiya gaya hai.
Tisre khand mein samajik sansthaon ka varnan kiya hai jismen do adhyay hain—(1) varn aur aashram tatha (2) sanskar. Varn ke antargat brahman, kshatriy, vaishya evan shudron ke kartavya, adhikar tatha samaj mein inke sthan ka pratipadan kiya gaya hai. Chauthe khand mein aashram vale prakran mein charon aashrmon ki charcha ki gai hai. Jatiprtha se honevale labh tatha haniyon ki charcha ke pashchat sanyukt parivar ke sadasyon ke kartavyon ka parichay diya gaya hai.
Pancham khand mein lalit kalaon ka vivran prastut kiya gaya hai. In kalaon ke antargat sangitakla, nrityakla, natyakla, vastukla, chitrakla, murtikla aati hain. Sangit lokgiton ka pran hai. Iske bina lokgit nishpran, nirjiv tatha niras hai.
Shashth tatha antim khand mein lok-sahitya ka samas rup mein vivechan prastut kiya gaya hai. Lok-sahitya ka panch shreniyon mein vibhajan karke, pratyek varg ki vishishtta dikhlai gai hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products