BackBack
-11%

Lohia Ke Vichar

Rs. 695 Rs. 619

लोहिया भारतीय राजनीति के विचार-पुरुषों में अपना एक अलग स्थान रखते हैं। गांधी और नेहरू की तरह उनका भी देश तथा विश्व को लेकर एक बड़ा विज़न था। विभिन्न विचारधाराओं के गहन अध्ययन और अपने देश-काल के अन्वीक्षण से उन्होंने अपने विचारों को लगातार धार दी और प्रत्येक विचारधारा से... Read More

BlackBlack
Description

लोहिया भारतीय राजनीति के विचार-पुरुषों में अपना एक अलग स्थान रखते हैं। गांधी और नेहरू की तरह उनका भी देश तथा विश्व को लेकर एक बड़ा विज़न था। विभिन्न विचारधाराओं के गहन अध्ययन और अपने देश-काल के अन्वीक्षण से उन्होंने अपने विचारों को लगातार धार दी और प्रत्येक विचारधारा से आगे बढ़कर एक सन्तुलित दृष्टि के विकास पर ज़ोर दिया।
वे स्वप्नदर्शी थे, और मानते थे कि परिस्थितियों की विपरीतताओं से संघर्ष करते हुए भी, हमें एक बड़े सपने को अपने सामने जीवित रखना चाहिए। विश्व नागरिकता उनका ऐसा ही सपना था। वे चाहते थे कि मानव किसी एक देश का नहीं, बल्कि विश्व का नागरिक हो। एक से दूसरे देश में जाने के लिए कोई क़ानूनी रुकावट न हो। विश्व सभ्यता का सपना यह होना चाहिए।
यह सपना लोहिया की विराट मनीषा का द्योतक है। इसमें हर तरह के विभाजन और विरोध का निषेध शामिल है।
यह पुस्तक लोहिया के ऐसे ही विचारों का पुंज है। विभिन्न अवसरों पर लिखे गए उनके आलेखों का यह संकलन उनकी मौलिक सोच का प्रमाण है। संस्कृति, दर्शन, इतिहास, भाषा के साथ-साथ स्त्री-पुरुष असमानता और जाति जैसी समस्याओं पर भी उन्होंने नवीन दृष्टि से विचार किया है। वे लकीर के फकीर नहीं थे। किसी भी वाद को उन्होंने आँख मूँदकर न समर्थन दिया और न उसका अनुकरण करने को कहा। गांधीवाद, मार्क्सवाद, सभी को उन्होंने तटस्थ दृष्टि से पढ़ने की सलाह दी क्योंकि हर विचार की अपनी एक काल-संगति होती है, और नए समय में हर विचार के नवीकरण की आवश्यकता होती है। Lohiya bhartiy rajniti ke vichar-purushon mein apna ek alag sthan rakhte hain. Gandhi aur nehru ki tarah unka bhi desh tatha vishv ko lekar ek bada vizan tha. Vibhinn vichardharaon ke gahan adhyyan aur apne desh-kal ke anvikshan se unhonne apne vicharon ko lagatar dhar di aur pratyek vichardhara se aage badhkar ek santulit drishti ke vikas par zor diya. Ve svapndarshi the, aur mante the ki paristhitiyon ki viprittaon se sangharsh karte hue bhi, hamein ek bade sapne ko apne samne jivit rakhna chahiye. Vishv nagarikta unka aisa hi sapna tha. Ve chahte the ki manav kisi ek desh ka nahin, balki vishv ka nagrik ho. Ek se dusre desh mein jane ke liye koi qanuni rukavat na ho. Vishv sabhyta ka sapna ye hona chahiye.
Ye sapna lohiya ki virat manisha ka dyotak hai. Ismen har tarah ke vibhajan aur virodh ka nishedh shamil hai.
Ye pustak lohiya ke aise hi vicharon ka punj hai. Vibhinn avasron par likhe ge unke aalekhon ka ye sanklan unki maulik soch ka prman hai. Sanskriti, darshan, itihas, bhasha ke sath-sath stri-purush asmanta aur jati jaisi samasyaon par bhi unhonne navin drishti se vichar kiya hai. Ve lakir ke phakir nahin the. Kisi bhi vaad ko unhonne aankh mundakar na samarthan diya aur na uska anukran karne ko kaha. Gandhivad, marksvad, sabhi ko unhonne tatasth drishti se padhne ki salah di kyonki har vichar ki apni ek kal-sangati hoti hai, aur ne samay mein har vichar ke navikran ki aavashyakta hoti hai.